Home /News /nation /

UPSC's second topper जागृति अवस्थी बता रही हैं, आइएएस की तैयारी कर रहे हैं, तो कैसा हो आपका शेड्यूल?

UPSC's second topper जागृति अवस्थी बता रही हैं, आइएएस की तैयारी कर रहे हैं, तो कैसा हो आपका शेड्यूल?

जागृति अवस्‍थी के अनुसार शेड्यूल में नींद का समय जरूर निर्धारित होना चाहिए.

जागृति अवस्‍थी के अनुसार शेड्यूल में नींद का समय जरूर निर्धारित होना चाहिए.

UPSC's second topper: यूपीएससी की सेकेंड टॉपर जागृति अवस्‍थी बता रही हैं कि अगर आप यूपीएस की तैयारी कर रहे हैं तो आपका पढ़ाई का शेड्यूल कैसा होना चाहिए, रोज आपको कितने घंटे पढ़ना चाहिए. लगातार एक साथ कितने घंटे की सिटिंग होनी चाहिए. टाइम स्‍लॉट बनाते समय किन चीजों का ध्‍यान रखना चाहिए. तैयारी कर रहे स्‍टूडेंट्स को रोजाना कम से कम कितने घंटे की नींद जरूरी है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. अगर आप यूपीएस की तैयारी कर रहे हैं तो आपका पढ़ाई का शेड्यूल कैसा होना चाहिए, रोज आपको कितने घंटे पढ़ना चाहिए. लगातार एक साथ कितने घंटे की सिटिंग होनी चाहिए. टाइम स्‍लॉट बनाते समय किन चीजों का ध्‍यान रखना चाहिए. तैयारी कर रहे स्‍टूडेंट्स को रोजाना कम से कम कितने घंटे की नींद जरूरी है. इन तमाम सवालों के जवाब दें रही हैं यूपीएससी की सेकेंड टॉपर जागृति अवस्‍थी. जागृति मूल रूप से उत्‍तर प्रदेश के फतेहपुर जिले की बिंदकी तहसील की रहने वाली हैं.

न्‍यूज 18 हिन्‍दी से बात करते हुए जागृति अवस्‍थी ने बताया कि सबसे पहले स्‍टूडेंट्स को यह देखना चाहिए कि सेलेबस कितना है और रोज कितने घंटे पढ़ाई के लिए दे सकते हैं. यह निर्भर करता है कि आपका रूटीन क्‍या है. यानी आप नौकरी के साथ तैयारी कर रहे हैं या फिर कॉलेज में पढ़ाई करने के साथ तैयारी करने जा रहे हैं. उसी के अनुसार अपना टाइम टेबल बनाएं.

एक साल की है पूरी तैयारी
अगर पूरे समय तैयारी करेंगे तो लगभग एक साल में पूरी कर सकते है. आपको रोजाना 8 से 9 घंटे पढ़ाई करनी होगी. लेकिन अगर आप नौकरी के साथ तैयारी कर रहे हैं तो दो साल में तैयारी पूरी की जा सकती है, आपको रोजाना 4 से 5 घंटे पढ़ाई करनी होगी. अगर आप चार से पांच घंटे रोजाना नहीं निकाल पाते तो तीन से चार घंटे तो जरूर ही निकालना होगा. इस तरह तैयारी पूरी करने में आपको समय थोड़ा ज्‍यादा लग सकता है. जॉब के साथ तैयारी करने वालों को करंट अफेयर चलते फिरते पढ़ने चाहिए. जैसे ब्रेकफास्‍ट करते समय या आफिस आते जाते समय.

तीन-तीन घंटे का टाइम स्‍लाट बनाएं
जब से तैयारी शुरू करें, तब से टाइम स्‍लाट तीन-तीन घंटे का रखें और आदत डालें. मेन्‍स की परीक्षा तीन घंटे की होगी है. जब परीक्षा बिल्‍कुल करीब आ जाए तो अपना स्‍लॉट भी उसी अनुसार रखें. यानी अगर परीक्षा का समय 10 से 1 बजे तक है तो आप इस समय लगातार पढ़ाई करें, जिससे ब्रेन उसी अनुसार अपने आपको ढाल लेगा. अन्‍यथा परीक्षा के समय अगर आप रोजाना घर पर सोते होंगे तो परीक्षा देते समय आलस्‍य आने लगेगा.

अपनी सुविधा अनुसार बनाएं शेड्यूल
पढ़ाई का शेड्यूल अपनी सुविधा अनुसार बनाएं. यानी तैयारी आप तब करें, जब आप डिस्‍टर्ब न हों, अगर रात में डिस्‍टर्ब नहीं होते तो रात में पढ़ाई और और दिन में डिस्‍टर्ब नहीं होते, तो दिन में तैयारी करें.

छोटे-छोटे टारगेट बनाएं
सफलता के लिए जरूरी है कि आप छोटे-छोटे टारगेट बनाएं और उन्‍हें पूरा करें. बड़ा टारगेट एक साथ लेकर चलने में परेशानी हो सकती है. छोटे टारगेट में आपको सेलेबस पूरा करने में एक के बजाए दो साल लग सकते हैं.

सबसे जरूरी है नींद का शेड्यूल
पढ़ाई का शेड्यूल बनाते समय नींद का शेड्यूल जरूर बनाएं. क्‍योंकि रोजाना 7 से 8 घंटे की नींद जरूरी है. कई लोगों के पढ़ाई के शेड्यूल से नींद शेड्यूल गायब होता है. ब्रेन को रेस्‍ट देने के लिए पर्याप्‍त नींद जरूरी है.

Tags: IAS, UPSC, UPSC Exams, Upsc topper

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर