Home /News /nation /

UPSC's second topper जागृति अवस्‍थी बता रही हैं, किस तरह के खानपान के साथ बेहतर तैयारी की जा सकती है?

UPSC's second topper जागृति अवस्‍थी बता रही हैं, किस तरह के खानपान के साथ बेहतर तैयारी की जा सकती है?

जितनी पढ़ाई जरूरी है, उतनी ही जरूरी है बैलेंड टाइड.

जितनी पढ़ाई जरूरी है, उतनी ही जरूरी है बैलेंड टाइड.

UPSC's second topper: अगर आप UPSC की तैयारी कर रहे हैं तो आपको पढ़ाई के साथ-साथ Diet पर भी खास ध्‍यान देने की जरूरत है. UPSC's second topper Jagriti Awasthi बताती हैं कि जितनी पढ़ाई जरूरी है, उतनी ही balanced Diet की आवश्‍यकता होती है. तैयारी करने वाले स्‍टूडेंट्स को सादा खाना चाहिए. खाने में सलाद और फल जरूर शामिल करना चाहिए. अगर संभव हो तो खाने का शेड्यूल नेचुरल साईकल के साथ रखना बेहतर है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. अगर आप यूपीएससी की तैयारी कर रहे हैं तो खानपान पर भी विशेष ध्‍यान देना चाहिए. अगर बैलेंस्‍ड डाइट नहीं होगी, तो स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी समस्‍या आ सकती हैं. इसलिए यूपीएससी की तैयारी (UPSC Preparation) कर रहे प्रत्‍येक स्‍टूडेंट को खानपान पर जरूर ध्‍यान देना चाहिए. बैलेंस्‍ड डाइट (balanced diet) भी तैयारी करने में कितनी मददगार होती है, यह बात स्‍वयं यूपीएससी (UPSC) की सेकेंड टॉपर जागृति अवस्‍थी (Second Topper Jagriti Awasthi) बता रही हैं. वो बताती हैं कि जितनी पढ़ाई जरूरी है, उतनी ही जरूरी बैलेंस्‍ड डाइट है.

तैयारी कर रहे हैं तो  ऐसा हो खानपान

जागृति अवस्‍थी बताती हैं कि प्रोटीन रिच बैलेंस्‍ड डाइट लेने से पेट के सिस्‍टम पर लोड नहीं पड़ता है. भारी खाना खाने से पढ़ाई के दौरान भारीपन फील हो सकता है, लेकिन बैलेंस्‍ड डाइट लेने से भारीपन फील नहीं होता है. खाने में सलाद और फाइबर जरूर शामिल करना चाहिए. इस तरह के खानपान से पढ़ाई के दौरान शरीर को एनर्जी मिलती है और आसानी से लंबी सिटिंग की जा सकती है.

क्‍या नहीं खाना चाहिए

जंक फूड खाने से सुस्‍ती आती है. इससे पढ़ाई के दौरान भारीपन भी लग सकता है.  इसलिए यूपीएससी की तैयारी कर रहे छात्रों को जंक फूड खाने से बचना चाहिए. अगर खाने की इच्‍छा है तो घर में बनवा कर कभी-कभी खा सकते हैं. इसकी सामग्री में न्‍यूट्रीएंट मात्रा बढ़ाकर, इसे हेल्‍दी बनाया जा सकता है. संभव हो तो खाने का शेड्यूल नेचुरल साईकल के साथ रखना होगा.

आंखों का खास ध्‍यान रखना चाहिए

चूंकि तैयारी कर रहे छात्रों को 8 से 10 घंटे नियमित पढ़ाई करनी होती है. इसमें नियर विजन की जरूरत होती है, इसलिए आंखों का खास ध्‍यान रखना चाहिए. पढ़ाई के बीच-बीच में आंखों की एक्‍सरसाइज करनी चाहिए. इसके साथ ही पीले फल और हरी सब्‍जी नियमित रूप में खानी चाहिए. डॉक्‍टर की सलाह पर अगर जरूरत पड़े तो विटामिन की टैबलेट ले सकते हैं. लेकिन ध्‍यान रहें कि डाक्‍टर से संपर्क के बाद ही टैबलेट लेनी चाहिए.

ये भी पढ़ें: यूपीएससी की सेकेंड टॉपर जागृति कुकिंग में भी अव्‍वल, जानें उनकी खास डिशेज

ऐसा है जागृति अवस्‍थी का खाने का शेड्यूल

सुबह एक्‍सरइसाज करने के बाद  8 बजे गर्म पानी पीती थीं और एक मौमसी फल खाती थीं. इसके बाद 11  बजे तक पढ़ाई करती थीं. 11 बजे हैवी ब्रेकफास्‍ट करती थीं और दोबारा से पढ़ाई करने बैठ जाती थीं. 2 बजे के करीब लंच लेती थीं. लंच ब्रेकफास्‍ट के मुकाबले थोड़ा रखती थीं. इसके बाद ब्रेन को रिलैक्‍स देने के लिए थोड़ा बहुत टीवी देखती थीं और फिर से पढ़ाई करने बैठे जाती थीं. शाम पांच बजे  के करीब परिजनों के साथ चाय लेती थीं. इसके बाद रात में आठ से नौ बजे  के बीच डिनर लेतीं थीं. रात का खाना दोपहर से भी हल्‍का होता था. इसमें खिचड़ी, सलाद शामिल होता था.

वे बताती हैं कि शाकाहारी होने की वजह से खाना बिल्‍कुल सादा होता था. जागृति बताती हैं कि अगर कोई नॉनवेज है तो भी उबला अंडा आदि लेना चाहिए. अधिक मसाले और तेल वाले खाने से बचना चाहिए. इससे पेट खराब होने की संभावना भी रहती है. पढ़ाई के दौरान सुस्‍ती लग सकती है.

Tags: Food diet, Healthy Diet, UPSC, Upsc exam 2021, Upsc topper

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर