Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    दिल्ली एयरपोर्ट से आना है नोएडा या गाजियाबाद, टैक्सी के लिए खर्च करने होंगे 10,000 रुपए!

     दुनियाभर में 3000 से अधिक कर्मचारियों की छटनी करने वाला है Uber
    दुनियाभर में 3000 से अधिक कर्मचारियों की छटनी करने वाला है Uber

    जो लोग इंदिरा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट (Delhi Airport)से नोएडा यानी गौतम बुद्ध नगर और गाजियाबाद तक सफर करना चाहते हैं, उनके लिए UPSRTC टैक्सी का इंतजाम किया है.

    • Share this:
    नई दिल्ली/ लखनऊ. कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते देश भर में लागू लॉकडाउन  (Lockdown)के बीच उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम यानी UPSRTC ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली स्थित इंदिरा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से उत्तर प्रदेश स्थित नोएडा यानी गौतम बुद्ध नगर और गाजियाबाद तक सफर करना चाहते हैं, उनके लिए टैक्सी का इंतजाम किया है. हालांकि इसके लिए यात्रियों को जेब ढीली करनी होगी. एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से 250 किलोमीटर के दायेर में किसी भी जगह जाने पर टैक्सी 10,000 रुपए का किराया वसूलेगा.

    अंग्रेजी दैनिक हिन्दुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार UPSRTC द्वारा तय किये गये किराये में सेडान का किराया 10,000 रुपए है और वहीं एसयूवी का किराय 12,000 रुपए तक है. वहीं  अगर कोई भी 250 किलोमीटर से अधिक दूरी की यात्रा करता है तो उसका अलग से शुल्क लगेगा.

    इसके साथ ही UPSRTC ने बस सेवा भी शुरू की गई है जिसमें सामान्य बस का किराया प्रति सीट 1000 रुपए होगा और एसी बस का किराया 1320 रुपए होगा. यह किराया 100 किलोमीटर तक की दूरी के लिए तय किया गया है.




    बढ़े हुए किराये पर कोई टिप्पणी नहीं
    गाजियाबाद यूपीएसआरटीसी के क्षेत्रीय प्रबंधक एके सिंह ने कहा कि उन्हें पत्र मिला है. उन्होंने कहा कि  'वर्तमान में, हम अपनी बसों को दिल्ली हवाई अड्डे से यात्रियों को दिल्ली के विभिन्न होटलों और आइसोलेशन सेंटर्स तक पहुंचाने के लिए लगाते हैं. हमें मुख्यालय से बसों और टैक्सियों के जरिए लोगों को लाने का आदेश मिला है. उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार और गाजियाबाद प्रशासन के निर्देशानुसार उनका परिवहन किया जाएगा.'

    हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार सिंह ने ज्यादा किराये पर कोई टिप्पणी नहीं की. कहा कि इसका फैसला हेडक्वार्टर से हुआ है.  कहा कि 'हमें जानकारी मिली है कि फंसे हुए लोग  कभी-कभी ट्रक ड्राइवरों और अन्य लोगों द्वारा लिफ्ट से  आते हैं. ऐसी पहल करना असुरक्षित है जबकि सरकार की मदद से लोग सुरक्षित रहेंगे.'

    यह भी पढ़ें: मप्र और यूपी में दो सड़क हादसे: 14 प्रवासी मजदूरों की मौत, कई घायल
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज