• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • कोरोना टीकाकरण के लिए भारत के साथ अमेरिका, देगा 2.5 करोड़ डॉलर की मदद

कोरोना टीकाकरण के लिए भारत के साथ अमेरिका, देगा 2.5 करोड़ डॉलर की मदद

भारत दौरे पर आए अमेरिकी समकक्ष एंटनी ब्लिंकन से विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीन-अफगानिस्तान सहित कई मुद्दों पर चर्चा की

भारत दौरे पर आए अमेरिकी समकक्ष एंटनी ब्लिंकन से विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीन-अफगानिस्तान सहित कई मुद्दों पर चर्चा की

Covid Vaccination in India: कोविड-19 के चलते अमेरिका और भारत को बुरी तरह हुए नुकसान को ध्यान में रखते हुए ब्लिंकन ने कहा कि महामारी की शुरुआत में भारत की ओर से की गई मदद को हम कृतज्ञता के साथ याद करते हैं और इसे हम कभी नहीं भूलेंगे.

  • Share this:

    नई दिल्ली. अमेरिका ने बुधवार को भारत के टीकाकरण कार्यक्रम (Covid-19 Vacciantion Program) में सहायता के तौर पर 2.5 करोड़ डॉलर की मदद की घोषणा की है. दो दिन के दौरे पर भारत आए अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन (Antony Blinken) ने कहा कि ये फंडिंग भारत में वैक्सीनेशन की सप्लाई चेन को मजबूती देकर लोगों की जान बचाने का काम करेगी, साथ ही इसके जरिए वैक्सीन को लेकर फैलाए जा रहे भ्रम, हिचकिचाहट को दूर करने साथ में और स्वास्थ्यकर्मियों की ट्रेनिंग में मदद मिल सकेगी.

    ब्लिंकन ने भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ संयुक्त प्रेस वार्ता में इसकी घोषणा करते हुए कहा, “अमेरिका ने कोविड की सहायता के दौर पर अब तक 200 मिलियन डॉलर का योगदान दिया है. मुझे ये ऐलान करते हुए खुशी हो रही है कि पूरे भारत के टीकाकरण प्रयासों में मदद के लिए संयुक्त राज्य की सरकार अतिरिक्त 25 मिलियन डॉलर की सहायता भेजेगी.”

    ब्लिंकन ने आगे कहा, “यह फंडिंग वैक्सीन सप्लाई चेन लॉजिस्टिक्स को मजबूत करने, वैक्सीन को लेकर गलत जानकारियों को दूर करने, वैक्सीन को लेकर लोगों में हो रही झिझक को दूर करने और ज्यादा स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारियों को प्रशिक्षित करने में मदद करके जीवन को बचाने में योगदान देगी. उन्होंने कहा कि हम भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका में इस महामारी को समाप्त करने के लिए दृढ़ हैं. हम इसे खत्म करने के लिए काम करेंगे.”

    ब्लिंकन बोले- भारत की मदद को कभी नहीं भूलेंगे
    कोविड-19 के चलते अमेरिका और भारत को बुरी तरह हुए नुकसान को ध्यान में रखते हुए ब्लिंकन ने कहा, “महामारी की शुरुआत में भारत की ओर से की गई मदद को हम कृतज्ञता के साथ याद करते हैं और इसे हम कभी नहीं भूलेंगे.” उन्होंने कहा कि मुझे इस बात पर गर्व है कि हम भी बदले में ऐसा कुछ कर पा रहे हैं.

    भारत और अमेरिका के बीच बढ़ते द्विपक्षीय संबधों के परिचायक के रूप में विदेश मंत्री एस जयशंकर और अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने अफगानिस्तान की स्थिति, हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भागीदारी, कोविड-19 महामारी से निपटने के प्रयासों और क्षेत्रीय सुरक्षा मजबूत करने के तौर तरीकों पर व्यापक बातचीत की.

    ब्लिंकन ने कहा कि दुनिया में कुछ ही ऐसे संबंध हैं जो अमेरिका-भारत के बीच के रिश्ते से अधिक अहम हैं. उन्होंने साथ ही कहा कि दुनिया के अग्रणी लोकतंत्रों के तौर पर ‘‘हम अपने सभी लोगों” को स्वतंत्रता, समानता एवं अवसरों को लेकर ”अपनी जिम्मेदारियों को गंभीरता से लेते हैं.’’

    उन्होंने कहा कि भारत और अमेरिका के कदम ही 21वीं सदी और उसके बाद के दौर का स्वरूप तय करेंगे और यही वजह है कि भारत के साथ साझेदारी मजबूत करना अमेरिका की विदेश नीति की शीर्ष प्राथमिकताओं में एक है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज