होम /न्यूज /राष्ट्र /

US FDA ने भारत बायोटेक को दिया झटका, कोवैक्सीन के क्लिनिकल ट्रायल पर लगाई रोक

US FDA ने भारत बायोटेक को दिया झटका, कोवैक्सीन के क्लिनिकल ट्रायल पर लगाई रोक

विश्व स्वास्थ्य संगठन की टिप्पणी के बाद अमेरिका में कोवैक्सीन के परीक्षण पर रोक लग गई है. (फोटो आभार twitter)

विश्व स्वास्थ्य संगठन की टिप्पणी के बाद अमेरिका में कोवैक्सीन के परीक्षण पर रोक लग गई है. (फोटो आभार twitter)

विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) ने अपने निरीक्षण में पाया था कि ‘कोवैक्सीन’ (Covaxin) के उत्पादन करने वाले मैन्युफैक्चरिंग प्लांट्स में जीएमपी (GMP- Good Manufacturing Practice) का ख्याल नहीं रखा जा रहा है. इसके बाद यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (The US Food and Drug Administration) ने ‘कौवेक्सीन’ के क्लिनिकल ट्रायल (Clinical Trial of Covaxin) रोक लगा दिया है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. भारत बायोटेक को अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने जोर का झटका दिया है. ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने भारत बायोटेक के कोरोना वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ के 2/3 फेज के क्लिनिकल ट्रायल को रोक लगा दिया है. द टाइम्स ऑफ इंडिया ने Ocugen Inc की एक प्रेस विज्ञप्ति के हवाले से खबर दी है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोवैक्सीन पर दी गई कथित टिप्पणियों के बाद ट्रायल रोकने का निर्णय लिया गया है.

    WHO ने इससे पहले कोवैक्सीन की आपूर्ति करने वाले अमेरिकी खरीद एजेंसियों को निलंबित कर दिया था, क्योंकि परीक्षण में भारात बायोटेक के विनिर्माण संयंत्रो में जीएमपी (GMP- Good Manufacturing Practice) की कमियों की पहचान की थी. सूत्रों के मुताबिक फर्म (Bharat Biotech) ने कहा कि उसने अमेरिका की किसी एजेंसी को अपनी वैक्सीन की आपूर्ति नहीं की है और निलंबन का इस पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा.

    क्या कहा भारत बायोटेक ने?
    अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने फरवरी 2022 में कोवैक्सीन के मूल्यांकन के लिए ऑक्युजेन (Ocugen) द्वारा खोजी गई नई दवा के लिए अपने क्लिनिकल ट्रायल को हटा लिया था. डब्लूएचओ के निरीक्षण के बाद, भारत बायोटेक ने कहा था कि वह सुविधा के लिए अपनी विनिर्माण इकाइयों में कोवैक्सिन के उत्पादन को अस्थायी रूप से धीमा कर रहा है.

    Tags: Covaxin

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर