इस अमेरिकन कंपनी ने मानी मोदी सरकार की बात, हर साल करेगी 225 टन कम प्लास्टिक का इस्तेमाल

अपने प्रोडक्ट्स में प्लास्टिक पैकेजिंग को कम करेगी अमेरिकन कंपनी कारगिल

प्लास्टिक के इस्तेमाल को मानते हुए अमेरिकन फूड कंपनी कारगिल  (Cargill ) ने प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम करने का फैसला लिया है. कंपनी के इस कदम से सालाना 225 टन प्लास्टिक की खपत कम होगी. साथ ही कार्बन डाई ऑक्साइड के उत्सर्जन भी कम होगा.

  • Share this:
    नई दिल्ली. केंद्र सरकार (Central Government) द्वारा प्लास्टिक (Use of Plastic) के इस्तेमाल को कम करने को लेकर दिग्गज कं​पनियां भी प्रयास में जुट चुकी हैं. इसी सिलसिले में अमेरिकन फूड कंपनी कारगिल (Cargill ) ने सोमवार को कहा कि उसने खाद्य तेल की पैकेजिंग में प्लास्टिक (Plastic Packaging) के इस्तेमाल को कम करते हुए रिसाइकिल करने योग्य बनाया है. कंपनी ने अपनी तरफ से जारी बयान में कहा, 'भारत में कारगिल प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट पर तीन तरीकों से काम कर रही है. इसमें रिड्यूस, रिसाइकिल और रिकवर शामिल है.'

    90 फीसदी प्लास्टिक रिसाइकिल करने पर जोर
    कंपनी ने डाओ केमिकल (Dow Chemical) के साथ मिलकर प्लास्टिक मैटेरियल (Plastic Material) को नए तरीके से फॉर्मुलेट किया, जिसमें कंपनी की तरफ से इस्तेमाल की जाने वाली प्लास्टिक को 90 फीसदी तक रिसाइकिल किया जा सके. कंपनी ने अपने तेल कारोबार के​ लिए पैकेजिंग को दोबारा डिजाइन किया है. नए डिजाइन में प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम किया गया है.

    ये भी पढ़ें:  दिवाली से पहले यहां के किसानों को मिला मोदी सरकार का बड़ा तोहफा, खाते में पहुंचे 2000 रुपये


    अपने प्रोडक्ट्स में प्लास्टिक पैकेजिंग को कम करेगी अमेरिकन कंपनी कारगिल



    पेपर लेबलिंग की जगह मोल्ड लेबलिंग का इस्तेमाल
    कंपनी ने कहा है कि वो सस्टेनेबल पर्यावरण के लिए प्लास्टिक के इस्तेमाल को न्यूनतम स्तर पर करने के लिए प्रतिबद्ध है. यही कारण है कि कंपनी अपने खाद्य तेल ब्रांड ​जेमिनी, स्वीकर और नेचरफ्रेश की पैकेजिंग में इस्तेमाल होने वाली प्लास्टिक को कम से कम इस्तेमाल करने का फैसला लिया है. कंपनी ने प्लास्टिक को कम करने के लिए पेपर ले​बलिंग की जगह मोल्ड लेबलिंग (Mould Labelling) का इस्तेमाल कर रही है.

    हर साल कम होगी 225 टन प्लास्टिक खपत कम होगी
    कंपनी के इस प्रयास से हर साल करीब 225 टन प्लास्टिक की खपत कम होगी. साथ ही कार्बन डाई ऑक्साइड के उत्सर्जन में भी कमी आएगी. रिसाइकिल योग्य प्लास्टिक को रिकवर करने के लिए कंपनी ने इंडिया पॉल्युशन कंट्रोल एसोसिएशन के साथ काम कर रही है, ताकि कंज्यूमर के बाद मल्टी—लेयर्ड प्लास्टिक वेस्ट को जुटाया जा सके.

    ये भी पढ़ें: 32 कंपनियों के प्रबंध निदेशकों के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.