यूएस, पाकिस्तान, चीन देख रहे, इसलिए रक्षा रिपोर्ट अपलोड नहीं की: पूर्व CAG

यूएस, पाकिस्तान, चीन देख रहे, इसलिए रक्षा रिपोर्ट अपलोड नहीं की: पूर्व CAG
राजीव महर्षि कैग के तौर पर अपना कार्यकाल पूरा कर चुके हैं (फाइल फोटो)

पूर्व कैग (Foremr CAG) ने कहा, "बस हम इसे एक बटन दबाते ही उपलब्ध नहीं करा रहे हैं. कोई वाशिंगटन में भी देख रहा है, बीजिंग (Beijing) में भी देख रहा है और इस्लामाबाद (Islamabad) में भी देख रहा है. इसलिए, हमने ऐसा निर्णय लिया."

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 9, 2020, 6:44 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (Comptroller and Auditor General of India) के रूप में शुक्रवार को अपना कार्यकाल पूरा करने वाले राजीव महर्षि (Rajiv Mehrishi) ने कहा कि उन्होंने रक्षा ऑडिट रिपोर्टों (audit reports) को ऑनलाइन उपलब्ध नहीं कराया क्योंकि "कोई वाशिंगटन (Washington) में भी देख रहा है, कोई बीजिंग में भी देख रहा है और कोई इस्लामाबाद (Islamabad) में भी (इन्हें) देख रहा है." “विचार (इन रिपोर्टों) को आसानी से सबके हाथ न जाने देने का है. जिसकी कोई जरूरत नहीं है." उन्होंने कहा कि यह "सरकारी निर्णय नहीं" (not a government decision) था, लेकिन "मेरा निर्णय" था.

उन्होंने कहा, "संसद (Parliament) को हम (रिपोर्ट) दे रहे हैं, पीएसी (PAC- संसद की लोक लेखा समिति) को हम दे रहे हैं. यह वास्तव में कोई रहस्य नहीं है. बस हम इसे एक बटन दबाते ही उपलब्ध नहीं करा रहे हैं. कोई वाशिंगटन में भी देख रहा है, बीजिंग (Beijing) में भी देख रहा है और इस्लामाबाद (Islamabad) में भी देख रहा है. इसलिए, हमने ऐसा निर्णय लिया."

"यह दुनिया में हर किसी के लिए आसानी से उपलब्ध क्यों होनी चाहिए"
राजीव महर्षि ने कहा, “हमारी रिपोर्ट आयेगी तो हम उसमें कमियां तो बताएंगे ही. लेकिन डिफेंस की रिपोर्ट को वेबसाइट पर डालने का कोई मतलब नहीं है. यह दुनिया में हर किसी के लिए आसानी से सुलभ क्यों होना चाहिए.”
यह भी पढ़ें: राहुल का PM पर तंज, कहा- 2 करोड़ नौकरियों का वादा था, 14 करोड़ हो गए बेरोजगार



महर्षि ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “जब मैं गृह (मंत्रालय) में था, तब पाकिस्तान के साथ बहुत तनाव था. तब एक रिपोर्ट आयी थी सीएजी (CAG) की, जिसमें बताया गया था कि गोला-बारूद की कितनी कमी है... मूल रूप से, अगर कमी है तो तो भी मान लीजिये है कमी, तो कम से कम दुशमन को मालूम नहीं होना चाहिए."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज