लाइव टीवी

डोनाल्‍ड ट्रंप बोले-CAA पर कुछ नहीं कह सकता, यह भारत का आंतरिक मामला

News18Hindi
Updated: February 25, 2020, 9:03 PM IST
डोनाल्‍ड ट्रंप बोले-CAA पर कुछ नहीं कह सकता, यह भारत का आंतरिक मामला
अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कई मुद्दों पर प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बातचीत की (स्क्रीनग्रैब)

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप (American President Trump) ने भारत को एक शानदार देश (Tremendous Country) बताया और कहा कि उन्हें भारत में बहुत अच्छा लगा. उन्होंने कहा कि उनकी यहां बहुत सकारात्मक बातचीत हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 25, 2020, 9:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (American President Trump) ने अपनी दो दिन की भारत यात्रा के आखिरी दौर में मीडिया से एक प्रेस कॉन्फ्रेंस (Press Conference) के दौरान बातचीत की. इस दौरान उन्होंने भारत में हुए स्वागत की तारीफ की और कहा कि उनके दो दिन शानदार बीते. पीएम मोदी (PM Modi) की तारीफ करते हुए उन्होंने, उनकी शख्‍सियत को शानदार बताया.

ट्रंप (Trump) ने भारत को एक शानदार देश बताया और कहा कि उन्हें भारत में बहुत अच्छा लगा. उन्होंने कहा कि उनकी यहां बहुत सकारात्मक बातचीत हुई. ट्रंप ने कहा कि उन्हें यहां बहुत आनंद आया. हमारी शानदार बैठकें हुईं. उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि वो हमें जैसे पहले पसंद करते थे, इस बार उससे ज्यादा पसंद किया. प्रधानमंत्री और मेरे बीच एक बेहतरीन रिश्ता है. ट्रंप ने कहा कि लोकतंत्र (Democracy) पर विश्वास करना गौरव की बात है.

'भारत के साथ बढ़ाना चाहते हैं आपसी संबंध'
अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि हम आपसी संबंधों को बढ़ाना चाहते हैं. उन्होंने भारत को एक बेहतरीन बाजार बताया. ट्रंप ने कहा कि भारत, अमेरिका से कई रक्षा उपकरण खरीदेगा. उन्होंने भारत के साथ हुई 3 बिलियन डॉलर की चॉपर डील का जिक्र भी किया.



उन्होंने कहा कि भारत सबसे ज्यादा टैरिफ अमेरिकी सामानों पर लगाता है लेकिन जब भारत से सामान आता है तो अमेरिका उस पर कोई टैरिफ नहीं लगाता. हम इसे देख रहे हैं और हम बातचीत कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमने भारत से व्यापार में बहुत घाटा झेला है.

'हम अपने लोगों को अफगानिस्तान से निकालना चाहते हैं'
तालिबान के साथ डील के बारे में भारत और पाकिस्तान के पक्ष के बारे में पूछे जाने पर ट्रंप ने कहा कि भारत डील होते देखना चाहता है. उन्होंने कहा, "डील हुए दो दिन हो चुके हैं और हमने इस दौरान बहुत कम हिंसा देखी है. हम कोई पुलिस दल नहीं हैं. 19 साल बाद हम अपने सैनिकों को वहां से लाना चाहते हैं." उन्होंने यह भी कहा कि एक बार हम वहां से अपने लोगों को निकाल लाएं फिर कुछ हुआ तो हम उन्हें बता देंगे कि हम उन्हें कितना मुंहतोड़ जवाब दे सकते हैं. अफगानिस्तान बहुत खतरनाक जगह है.

'इस्लामिक आतंकवाद से लड़ने के लिए मैंने जितना किया किसी ने नहीं किया'
राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, "मैं बता सकता हूं कि जितना मैंने इस्लामिक आतंकवाद से लड़ने के लिए लिए किया है, मुझे नहीं लगता किसी और ने किया होगा." उन्होंने इस दौरान बगदादी और सुलेमानी के मारे जाने का जिक्र भी किया. उन्होंने कहा कि सीरिया और इराक में उन्होंने इसके लिए बहुत काम किया है. बिन लादेन के बेटे हमजा के मारे जाने को भी उन्होंने अपनी उपलब्धि बताया. उन्होंने कहा कि बाकी देशों को भी इसके लिए काम करना चाहिए.

पाकिस्तानी आतंकवादी गुटों के बारे में सीधे एक्शन से ट्रंप का इनकार
पाकिस्तान के आतंकवादी गुटों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि उस देश को इसके लिए काम करना चाहिए क्योंकि अमेरिका, पाकिस्तान से बहुत दूर है. उन्होंने कहा कि हमने आतंकवाद पर जबरदस्त चोट की है और हमने खिलाफत को खत्म कर दिया है. उन्होंने कहा कि हम करना नहीं चाहते थे लेकिन हमने हजारों आईएस आतंकियों को मार गिराया.

पाकिस्तान से भारत आ रहे आतंकवाद पर ट्रंप ने कहा कि हमारी पाकिस्तान से बात होती है, पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान हमारे अच्छे मित्र हैं. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी से उनकी इस मुद्दे पर लंबी बातचीत हुई. उन्होंने कहा कि उनके पीएम मोदी और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान दोनों से बहुत अच्छी बातचीत है. उन्होंने यह भी कहा कि मैंने कश्मीर पर मध्यस्थता की बात कही थी. मैं जो हो सकेगा इसके लिए करूंगा. उन्होंने यह भी कहा कि पीएम मोदी बहुत धार्मिक लेकिन बहुत सख्त व्यक्ति हैं वे इसका (पाकिस्तानी आतंकवाद का) खयाल रखेंगे.

दिल्ली में हो रही हिंसा और CAA के विरोध के बारे में यह बोले ट्रंप
अमेरिका राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि वो धार्मिक स्वतंत्रता का समर्थन करते हैं और कहा कि पीएम मोदी ने भी उन्हें ऐसी ही बात कही है हालांकि इस मुद्दे पर उनसे ज्यादा बात नहीं हुई है. CAA पर बात करने से ट्रंप ने इनकार कर दिया और कहा कि वो इसका फैसला भारत पर छोड़ते हैं. आशा है कि वह अपने नागरिकों के लिए जो फैसला लेगा सही होगा. हालांकि बाद में उन्होंने इस पर सफाई दी और कहा कि दोनों देश आपस में इसे निपटा लेंगे.

डेमोक्रेट्स पर लगाया हार्वे वाइनस्टीन से संबंध होने का आरोप
हार्वे वाइनस्टीन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि वो न कभी उनके फैन रहे हैं और न ही उन्हें पसंद करते हैं, न ही उन्हें केस के बारे में बहुत अच्छी तरह पता है. उन्होंने यह भी दावा किया कि मिशेल ओबामा और हिलेरी क्लिंटन के साथ ही अन्य डेमोक्रेट्स उन्हें पसंद करते रहे हैं. जब उनसे दोबारा पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह बड़ी जीत है और इसने एक बड़ा संदेश दिया है.

इसके अलावा अपने देश में राजनीतिक मुसीबतों को लेकर राष्ट्रपति ट्रंप ने विरोधियों के बारे में पूछे जाने पर कहा कि जो व्हिसलब्लोअर हैं, वे झूठे हैं. उन्होंने कहा कि मैंने राष्ट्रपति चुनावों के लिए कोई भी मदद नहीं ली.

कोरोना वायरस से निपटने के अमेरिकी प्रयासों की तारीफ की
इबोला और कोरोना की परिस्थितियों को अमेरिकी राष्ट्रपति ने अलग-अलग बताया. उन्होंने कोरोना के दौरान अमेरिकी नागरिकों को वापस लाए जाने को जरूरी बताया और कहा कि अमेरिका अभी भी इबोला वायरस पर काम कर रहा है. उन्होंने बताया कि जापान से अमेरिकी नागरिकों को लाकर उन्हें तुरंत निगरानी में रखा गया. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी से उनकी कोरोना वायरस को लेकर भी बातचीत हुई है.

'स्वागत से बेहद खुश ट्रंप, भारत के भविष्य को आशा के साथ देखते हैं'
125000 लोग वहां पर मौजूद थे, ऐसा मुझे प्रधानमंत्री मोदी ने बताया कि मैंने ऐसा नहीं देखा था. यह हमारे देश के लिए सम्मान की बात है. भारत में हुए स्वागत पर उन्होंने कहा कि किसी ने उनसे कहा कि यह कभी भी किसी भी देश में किसी राष्ट्राध्यक्ष का हुआ सबसे बेहतरीन स्वागत था.

भारत अगले 50 से 100 सालों में दुनिया में कहां होगा, इसे लेकर ट्रंप ने कहा कि वो इसे बहुत आशा के साथ देखते हैं. उन्होंने कहा कि अमेरिका में भारतीय कंपनियों के निवेश से वो काफी संतुष्ट हैं. भारतीयों के लिए H1B वीजा के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि हम इस बारे में काम कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: भारत के टॉप बिजनेसमैन से मिले ट्रंप, कहा- आपके लिए कानूनों में ढील देंगे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 25, 2020, 6:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर