Home /News /nation /

हक्कानी का नाम ब्लैकलिस्ट से हटाए अमेरिका, दोहा समझौते का पालन करे: तालिबान

हक्कानी का नाम ब्लैकलिस्ट से हटाए अमेरिका, दोहा समझौते का पालन करे: तालिबान

तालिबान ने कहा है कि अमेरिका, दोहा समझौते का पालन नहीं कर रहा है.

तालिबान ने कहा है कि अमेरिका, दोहा समझौते का पालन नहीं कर रहा है.

सीएनएन-न्यूज 18 को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक तालिबान (Taliban) हक्कानी नेटवर्क (Haqqani network) जो अफगानिस्तान (Afghanistan) में चरमपंथी सरकार बनने के बाद सबसे ताकतवर समूह बन कर उभरा है, उसके सदस्यों का नाम अमेरिका (America) की आतंकियों की सूची में से हटवाना चाहता है.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

    मनोज गुप्ता

    नई दिल्‍ली. सीएनएन-न्यूज 18 को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक तालिबान (Taliban) हक्कानी नेटवर्क (Haqqani network) जो अफगानिस्तान (Afghanistan) में चरमपंथी सरकार बनने के बाद सबसे ताकतवर समूह बनकर उभरा है, उसके सदस्यों का नाम अमेरिका (America) की आतंकियों की सूची में से हटवाना चाहता है. तालिबान का दावा है कि ब्लैकलिस्ट के मामले में अमेरिका में जो नई स्थिति है वो दोहा समझौते का उल्लंघन है. तालिबान का कहना है कि अमेरिका अपनी ब्‍लैकलिस्‍ट में से हक्‍कानी का नाम हटाए और दोहा समझौते का पालन करे.

    तालिबान का कहना है कि समझौते में साफ किया गया है कि इस्लामिक अमीरात के मंत्रिमंडल और हक्कानी नेटवर्क के परिवार के सदस्यों पर पेंटागन की स्थिति स्वीकार्य नहीं है. वहीं, सीएनएन-न्यूज 18 को तालिबानी सूत्रों ने बताया कि हम इसे पूरी तरह से दोहा समझौते के उल्लंघन के तौर पर ले रहे हैं. हक्कानी के परिवार इस्लामिक स्टेट का हिस्सा हैं और उनका अलग से कोई नाम या संगठन नहीं है.

    ये भी पढ़ें :  गुजरात की लगभग सभी मंडियां आर्थिक रूप से मजबूत और ठीक से काम कर रही हैं : पटेल 

    ये भी पढ़ें :  UP को मिलेगी बड़ी सौगात, इन दो एयरपोर्ट से जल्द शुरू होगी हवाई सेवा

    तालिबान सूत्रों ने बताया कि मंत्रिमंडल और हक्‍कानी नेटवर्क पर अमेरिकी कार्रवाई गलत है और ऐसा करके, अमेरिका हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रहा है. हम इसे बिल्कुल भी स्वीकार नहीं करेंगे. तालिबान ने कहा है कि ये भटकाव पैदा करने का मामला है. अमेरिका को यह समझना चाहिए कि जल्दी ही हमारे बीच नए कूटनीतिक संबंध बनेंगे.

    तालिबान ने जब अपनी नई कट्टरपंथी सरकार की घोषणा की तो उसमें हक्कानी नेटवर्क से चार लोगों को कैबिनेट सदस्य के तौर पर मनोनीत किया गया. रिपोर्ट के मुताबिक इस नए बने कैबिनेट के कम से कम 5 सदस्य यूएन की सूची में हैं.

    Tags: Afghanistan, America, Doha, Haqqani network, Taliban, US

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर