Myanmar Coup News: म्यांमार में तख्तापलट के लिए सैन्य नेताओं पर तय करेंगे जिम्मेदारी, लेंगे एक्शन: अमेरिका

अमेरिका म्यांमार पर एक्शन की तैयारी में (फाइल फोटो)

अमेरिका म्यांमार पर एक्शन की तैयारी में (फाइल फोटो)

Military Coup in Myanmar Latest News: म्यांमार में सैन्य तख्तापलट पर अमेरिका ने सख्त कार्रवाई करने का ऐलान किया है. अमेरिका ने कहा है कि वह म्यांमार के सैन्य अधिकारियों के खिलाफ जिम्मेदारी तय करेगा.

  • AP
  • Last Updated: February 3, 2021, 10:43 PM IST
  • Share this:

वाशिंगटन. अमेरिका ने मंगलवार को कहा कि म्यांमार में निर्वाचित शासन प्रमुख को हटाने की एक फरवरी की सेना की कार्रवाई सैन्य तख्तापलट (Military Coup in Myanmar) है. अमेरिका के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने संवाददाताओं से कहा कि अमेरिका स्टेट काउंसलर आंग सान सू की (Aung San Suu Kyi) सहित असैन्य सरकार के नेताओं को हिरासत में लिए जाने से चिंतित है.

सैन्य तख्तापलट के समान कार्रवाई

उन्होंने कहा, ‘सभी तथ्यों की समीक्षा के बाद हमारा आकलन है कि निर्वाचित शासन प्रमुख को हटाने की एक फरवरी की बर्मा (म्यांमार) की सैन्य कार्रवाई, सैन्य तख्तापलट के समान है.’ उन्होंने कहा, ‘अमेरिका बर्मा में कानून के शासन और लोकतंत्र के सम्मान का समर्थन करता रहेगा. साथ ही बर्मा में लोकतांत्रिक तरीके से सत्ता के हस्तांतरण को पलटने के लिए जिम्मेदार लोगों की जवाबदेही तय करने के वास्ते क्षेत्र में और दुनियाभर में अपने साझेदारों के साथ काम करना जारी रखेगा.’

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन के सामने दुनिया में दो-दो चुनौती, कैसे पाएंगे पार?
एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि आकलन उन तथ्यों और परिस्थितियों पर आधारित है कि म्यांमार की सेना ने सत्तारूढ़ पार्टी की नेता सू की और निर्वाचित सरकार के प्रमुख राष्ट्रपति विन मिंट को अपदस्थ कर दिया. प्राइस ने कहा, ‘राज्य विदेश परिचालन और संबंधित कार्यक्रमों के वार्षिक विभाग विनियोग अधिनियम में एक सैन्य सरकार को कुछ सहायता प्रतिबंधित करने का प्रावधान हैं. हमने इन मापदंडों पर गौर किया है कि एक निर्वाचित शासन प्रमुख को सैन्य तख्तापलट कर हटाया गया और सेना ने इसमें निर्णायक भूमिका निभाई.’

Youtube Video

म्यांमार में सैन्य तख्तापलट पर अमेरिका की चेतावनी, अंजाम बुरा होगा



उन्होंने कहा, ‘अमेरिका ने बर्मा को वित्त वर्ष 2020 में द्विपक्षीय सहयोग के रूप में 13 करोड़ 50 लाख डॉलर मुहैया कराए है, जबकि इसका बहुत छोटा हिस्सा ही सरकार की मदद के लिए है. हम यहां बर्मा की सेना की कार्रवाई के लिए सैन्य नेताओं की जिम्मेदारी तय करने का काम तेजी से करने जा रहे हैं।.’

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज