ईरान पर बैन लगाने के मुद्दे पर US पड़ा अकेला, यूएन के 13 सदस्यों ने किया विरोध

ईरान पर बैन लगाने के मुद्दे पर US पड़ा अकेला, यूएन के 13 सदस्यों ने किया विरोध
अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ

अमेरिका शुक्रवार को ईरान पर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों (International Ban on Iran) को फिर से लागू करना चाहता है. हालांकि 15 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nation Security Council) के 13 देशों ने इसका विरोध कर दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 22, 2020, 2:08 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. संयुक्त राज्य अमेरिका शुक्रवार को ईरान पर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों (International Ban on Iran) को फिर से लागू करना चाहता है. हालांकि 15 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nation Security Council) के 13 देशों ने इसका विरोध कर दिया. अमेरिका अपने इस मुहिम अकेला पड़ गया. अमेरिका ने यह तर्क दिया कि वाशिंगटन का यह कदम व्यर्थ चला गया और वह यह एक परमाणु समझौते (Nueclear Agreement) के तहत सहमत प्रक्रिया का उपयोग कर रहा है जिससे दो साल पहले वह खुद अलग हो गया था.

विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने ये कहा...

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने कहा कि 24 घंटे में उन्होंने ईरान पर संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों को  वापस लगाने के लिए  के लिए 30 दिन की उलटी गिनती शुरू कर दी है. इन प्रतिबंधों में हथियारों पर प्रतिबंध शामिल है. लंबे समय तक सहयोगी रहे देश जैसे ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी और बेल्जियम के साथ-साथ चीन, रूस, वियतनाम, नाइजर, सेंट विंसेंट और ग्रेनेडाइंस, दक्षिण अफ्रीका, इंडोनेशिया, एस्टोनिया और ट्यूनीशिया  पहले ही अमेरिका के विरोध में पत्र लिख चुके हैं.



अमेरिका ने ईरान पर लगाए ये आरोप
अमेरिका ने ईरान पर विश्व शक्तियों के साथ 2015 के समझौते को तोड़ने का आरोप लगाया है जिसका उद्देश्य प्रतिबंधों से राहत के बदले में ईरान को परमाणु हथियार विकसित करने से रोकना है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इसे "सबसे खराब सौदा" कहा था और 2018 में ही इससे अलग हो गया था. ट्रंप ने बुधवार को कहा था कि अमेरिका सभी प्रकार के संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंधों को दोबारा बहाल करने का इरादा रखता है. इसे स्नैपबैक नाम दिया गया.

पोम्पिओ ने रूस और चीन को चेताया

राजनयिकों का मानना है कि रूस, चीन और कई अन्य कई देशों द्वारा ईरान पर लगाए गए प्रतिबंधों का फिर से विरोध नहीं करने की सभावना है. अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने शुक्रवार को फिर से रूस और चीन को चेतावनी दी कि अगर वे ईरान पर संयुक्त राष्ट्र के उपायों का विरोध करने से इनकार करते हैं तो उनपर कड़ी कार्रवाई की जायेगी.

ये भी पढ़ें: महात्मा गांधी का चश्मा लेटरबॉक्स में छोड़ गया था कोई, 2.55 करोड़ में हुआ नीलाम  

पाकिस्तान में बिल्डिर ने हनुमान मंदिर ढहाया, विरोध किया तो मिली धमकी 

अक्टूबर में ईरान पर लगे हथियारों से जुड़े प्रतिबंध समाप्त हो रहे हैं और पिछले सप्ताह सुरक्षा परिषद द्वारा इस प्रतिबंध को बढाए जाने की बात अस्वीकार करने के बाद गुरुवार को अमेरिका ने कार्यवाही की बात की. केवल डोमिनिकन गणराज्य ने अमेरिका का साथ देने की बात की है लेकिन उसने अभी तक स्नैपबैक पुश पर अपनी स्थिति साफ़ करने के लिए परिषद को कोई पत्र नहीं लिखा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज