कृषि सुधारों का अमेरिका ने किया स्वागत, प्रदर्शनों को लोकतांत्रिक चरित्र के रूप में देखें: MEA

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने इस संबंध में जानकारी दी है. . (तस्वीर-ani)

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने इस संबंध में जानकारी दी है. . (तस्वीर-ani)

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव (Anurag Srivastava) ने कहा है-विरोध प्रदर्शनों को भारत के लोकतांत्रिक चरित्र के रूप में देखा जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि हमने अमेरिकी विदेश विभाग के बयान का संज्ञान लिया है. ये महत्वपूर्ण है कि ऐसे बयानों को संदर्भ के हिसाब से और संपूर्णता में समझा जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 4, 2021, 10:32 PM IST
  • Share this:

ंनई दिल्ली. केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) द्वारा लाए तीन नए कृषि कानूनों (New Farm Laws) का अमेरिका ने स्वागत किया है. इस संबंध में भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा है-विरोध प्रदर्शनों को भारत के लोकतांत्रिक चरित्र के रूप में देखा जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि हमने अमेरिकी विदेश विभाग के बयान का संज्ञान लिया है. ये महत्वपूर्ण है कि ऐसे बयानों को संदर्भ के हिसाब से और संपूर्णता में समझा जाए.

इससे पहले भारत में चल रहे किसान आंदोलन पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा था कि अमेरिका यह मानता है कि शांतिपूर्ण विरोध किसी भी संपन्न लोकतंत्र की पहचान है. मतभेदों को बातचीत के माध्यम से हल किया जाना चाहिए.

अमेरिका ऐसे कदमों का स्वागत करता है जो भारत के बाजारों की स्थिति में सुधार करेंगे

समाचार एजेंसी ANI के अनुसार डिपार्टमेंट के प्रवक्ता ने गुरुवार को कहा कि अमेरिका शांतिपूर्ण विरोध को लोकतंत्र की पहचान मानता है. भारतीय सुप्रीम कोर्ट ने भी शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शनों का समर्थन किया है. हम मतभेदों को बातचीत के जरिए सुलझाने को प्रोत्साहित करते हैं. प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका ऐसे कदमों का स्वागत करता है जो भारत के बाजारों की स्थिति में सुधार करेंगे और निजी क्षेत्र में अधिक निवेश को आकर्षित करेंगे.

Youtube Video

अंतरराष्ट्रीय हस्तियों के ट्वीट्स के बाद मचा बवाल



गौरतलब है कि अमेरिकी पॉप स्टार रिहाना और पर्यावरण एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग के किसान आंदोलन के समर्थन में ट्वीट के बाद विदेश मंत्रालय ने बयान जारी किया था. मंत्रालय की तरफ से साफ किया गया था कि किसी भी मुद्दे पर प्रतिक्रिया देने के पहले उसकी पूरी समझ जरूरी है. बयान में किसानों के साथ सरकार की कई राउंड की बातचीत समेत अन्य प्रयासों का जिक्र भी किया गया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज