आ रहा है 'रोमियो': जुलाई में भारतीय नेवी को मिल जाएंगे अत्याधुनिक हेलिकॉप्टर MH60R

MH-60R (तस्वीर-News18)

MH-60R (तस्वीर-News18)

MH-60R सी-हॉक (MH-60R 'Romeo' Seahawk) मल्टीरोल हेलीकॉप्टर है, जो कई भूमिका निभाने में सक्षम है. ये हेलीकॉप्टर अधिकतम 10,682 किलोग्राम वजन के साथ उड़ सकता है. इसकी अधिकतम रफ्तार 267 किलोमीटर/घंटा है. इसकी लंबाई 19.76 मीटर है.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारतीय समुद्री सीमाओं की सुरक्षा के लिए अमेरिकी हेलिकॉप्टर MH-60R सी-हॉक (MH-60R 'Romeo' Seahawk) जुलाई महीने में भारतीय नेवी को मिल जाएंगे. इन हेलिकॉप्टर्स को अमेरिकी कंपनी लॉकहीड मार्टीन्स सिकोर्स्की ने बनाया है. भारत ने इससे पहले अपाचे एच64 और चिनुक हेलिकॉप्टर भी खरीदे हैं जिन्हें बोइंग ने बनाया है. बीते साल फरवरी महीने में निवर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा से पहले मोदी सरकार ने नेवी के लिए MH-60R सी-हॉक हेलीकॉप्टर की खरीद को मंजूरी दी थी.

ये मल्टीरोल हेलीकॉप्टर है, जो कई भूमिका निभाने में सक्षम है. ये हेलीकॉप्टर अधिकतम 10,682 किलोग्राम वजन के साथ उड़ सकता है. इसकी अधिकतम रफ्तार 267 किलोमीटर/घंटा है. इसकी लंबाई 19.76 मीटर है. इस हेलीकॉप्टर की कीमत 28 करोड़ डॉलर है. ये हेलीकॉप्टर पानी के अंदर मौजूद सबमरीन को भी निशाना बना सकती है. ये सर्च और रेस्क्यू ऑपरेशन में बेहतरीन भूमिका अदा करती है. ये हेलीकॉप्टर एंटी-शिप मिसाइल, टारपीडो और 50 कैलिबर गन से लैस होता है.

रात में भी देख सकते हैं पायलट

ये हेलीकॉप्टर भारतीय रक्षा बलों को सतह रोधी और पनडुब्बी रोधी युद्ध मिशन को सफलता से अंजाम देने में सक्षम बनाएंगे. एमएच 60 हेलीकॉप्टर में दोहरा नियंत्रण प्रणाली मौजूद है. इसे उड़ाने के लिए दो पायलटों की जरूरत होती है. इसके कॉकपिट में बैठे पायलट रात के घने अंधेरे में भी अपने लक्ष्य को बखूबी देख सकते हैं. इस हेलीकॉप्टर में चार से पांच केबिन क्रू के साथ पांच यात्री भी बैठ सकते हैं. इसके केबिन की लंबाई 3.2 मीटर और चौड़ाई 1.8 मीटर और ऊंचाई 1.3 मीटर है.
एमएच 60 रोमियो हेलीकॉप्टर कई अलग-अलग तरह के हथियारों से लैस हो सकता है. इसमें हथियारों को लगाने के लिए चार प्वाइंट्स दिए गए हैं. जिसमें लॉकहीड मार्टिन की एजीएम-114 हेलफायर एंटी-सरफेस मिसाइल लगाया जा सकता है. पनडुब्बियों को निशाना बनाने के लिए इसमें पनडुब्बीरोधी एकेटी एमके 50 या एमके 46 एक्टिव/पैसिव टॉरपीडो को लॉन्च कर सकता है. अपनी सुरक्षा के लिए इसमें 7.62 एमएम की मशीनगन को भी लगाया जा सकता है.

दुनियाभर की कई नौसेनाओं द्वारा प्रयोग में लाए जाते हैं ये हेलिकॉप्टर

एमएच 60 रोमियो हेलीकॉप्टर को अमेरिका के अलावा दुनिया भर की कई नौसेनाओं द्वारा प्रयोग किया जाता है. इनमें ऑस्ट्रेलिया, स्पेन, डेनमार्क, दक्षिण कोरिया, ट्यूनिशिया, कतर, सऊदी अरब, इस्राइल, मलयेशिया और मैक्सिको की नौसेना शामिल हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज