Home /News /nation /

uttar pradesh yogi govt plans to develop 26 city forests in 13 cities in 6 months

यूपीः 6 महीने के अंदर 13 शहरों में तैयार होंगे 26 सिटी फॉरेस्ट, ईको टूरिजम को मिलेगा बढ़ावा

सिटी फॉरेस्ट से राज्य में हरित क्षेत्र बढ़ाने में मदद मिलेगी. (सांकेतिक फोटो)

सिटी फॉरेस्ट से राज्य में हरित क्षेत्र बढ़ाने में मदद मिलेगी. (सांकेतिक फोटो)

UP govt city forest project: योगी आदित्यनाथ सरकार ने राज्य में हरित क्षेत्र बढ़ाने के मकसद से 13 शहरी क्षेत्रों में 26 सिटी फॉरेस्ट विकसित करने की योजना बनाई है. इन शहरों में वाराणसी, गोरखपुर, आगरा, फिरोजाबाद, झांसी, कानपुर, औरैया, हरदोई, हाथरस, इटावा, रायबरेली, मुरादाबाद और अमरोहा शामिल हैं.

अधिक पढ़ें ...

(ममता त्रिपाठी)
लखनऊः यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्राथमिकताओं में पर्यावरण संरक्षण भी अहम रहा है. अपने पहले कार्यकाल में उनकी कोशिश थी कि प्रदेश में हरियाली को बढ़ाया जाए. इसके लिए रिकार्ड संख्या में पूरे प्रदेश में पौधारोपण का कार्यक्रम चलता रहा. वन महोत्सव के दौरान वह हर साल अपना ही रिकार्ड तोड़ते रहे. अभी तक योगी सरकार 101.5 करोड़ पौधे लगा चुकी हैं. अब सरकार ने 26 सिटी फॉरेस्ट विकसित करने की योजना बनाई है. राज्य में हरित क्षेत्र बढ़ाने के मकसद से ये सिटी फॉरेस्ट प्रदेश के 13 शहरी क्षेत्रों में विकसित किए जाएंगे.

योजना के प्रथम चरण के तहत जिन 13 शहरों में ये वन विकसित किए जाने की योजना है, उनमें प्रधानमंत्री मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी और मुख्यमंत्री का विधानसभा क्षेत्र गोरखपुर भी शामिल है. इनके अलावा आगरा, फिरोजाबाद, झांसी, कानपुर नगर-देहात, औरैया, हरदोई, हाथरस, इटावा, रायबरेली, मुरादाबाद और अमरोहा में इस तरह के हरित इलाकों का विकास किया जाएगा. सरकार ने 6 महीने के भीतर इस योजना को पूरा करने का लक्ष्य रखा है.

वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि हर सिटी फरेस्ट के लिए केन्द्र की ओर से निर्धारित 2 करोड़ रुपये की धनराशि में से 1.40 करोड़ रुपये राज्य सरकार को जारी कर दिए गए हैं. जल्द ही सम्बंधित जिलों को काम करने के लिए पैसा उपलब्ध करा दिया जाएगा. 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस होता है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस योजना की शुरुआत उसी दिन कर सकते हैं. अधिकारियों के मुताबिक, बढ़ते तापमान, गर्मी और ग्लोबल वार्मिंग को देखते हुए योगी सरकार की इस योजना के जरिए मंशा है कि पर्यटकों को प्राकृतिक पिकनिक स्पॉट का नया विकल्प तो मिलेगा ही, साथ ही इनसे इलाके में ईको टूरिज्म का भी विस्तार होगा. स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे.

बताया जा रहा है कि ये वन क्षेत्र बाउंड्री से घिरे होंगे. इनमें स्मृति वन, आरोग्य वाटिक, नक्षत्र वाटिका और हरिशंकरी वाटिका बनाई जाएगी, जहां तमाम तरह की सजावटी झाड़ियां, औषधीय व फूलों के पौधे लगाए जाएंगे ताकि लोगों को प्रकृति का आनंद मिल सके. इस अभियान से लोग ज्यादा संख्या में जुड़ सकें, इसके लिए मुख्यमंत्री की पहल पर गंगा के किनारे अपने पूर्वजों के नाम पर पौधारोपण जैसी योजनाएं शुरू की गई है. गंगा वन, नक्षत्र वाटिका, गृह वाटिका, राम वनगमन मार्ग पर प्राचीन ग्रन्थों में वर्णित पौधे लगाए गए है.

Tags: CM Yogi Adityanath, Uttar pradesh news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर