जबरिया वैक्सीनेशन मूलभूत अधिकारों का हनन है: मेघालय हाईकोर्ट

मेघालय हाईकोर्ट ने इसे गलत बताया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मेघालय हाईकोर्ट (Meghalaya High Court) ने कहा है कि जबरिया वैक्सीनेशन भारतीय संविधान के आर्टिकल 19(1)(g) के मुताबिक मूलाधिकारों का हनन माना जाएगा. कोर्ट के मुताबिक दुकानदारों, टैक्सी चालकों को उनका काम पर वापस लौटने के लिए वैक्सीनेशन अनिवार्य करना वेलफेयर की मूलभावना के खिलाफ है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. मेघालय हाईकोर्ट (Meghalaya High Court) ने बृहस्पतिवार को कहा है कि जबरिया वैक्सीनेशन (Vaccination by force) मूलभूत अधिकारों का हनन है. बार एंड बेंच पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार कोर्ट ने कहा है कि जबरिया वैक्सीनेशन भारतीय संविधान के आर्टिकल 19(1)(g) के मुताबिक मूलाधिकारों का हनन माना जाएगा. कोर्ट के मुताबिक दुकानदारों, टैक्सी चालकों को उनके काम पर वापस लौटने के लिए वैक्सीनेशन अनिवार्य करना वेलफेयर की मूलभावना के खिलाफ है.

    हालांकि चीफ जस्टिस विश्वनाथ समद्दर और जस्टिस एच.एस. थांगखिव ने यह भी कहा कि वैक्सीनेशन इस वक्त की सबसे बड़ी जरूरत है और कोरोना महामारी को रोकने के लिए एक निहायत जरूरी कदम है. लेकिन कोर्ट ने जोर दिया कि राज्य सरकार कोई ऐसा निर्णय नहीं ले सकती जो संविधान के Article 19(1) के तहत आजीविका के अधिकार का हनन करता हो.

    कोर्ट के आदेश में कहा गया है कि अगर कर्मचारियों ने वैक्सीन लगवा ली हैं तो दुकानें और अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठान अपने यहां स्पष्ट रूप से 'वैक्सीनेटेड' लिखवाएं. इसी तरह लोकल टैक्सी, ऑटो रिक्शा, कैब और बस सर्विस के मालिक ड्राइवर, कंडक्टर और हेल्पर के वैक्सीनेशन की जानकारी लगवाएं.

    वैक्सीनेशन को लेकर नागरिकों को स्पष्ट जानकारी मुहैया कराना राज्य की जिम्मेदारी: कोर्ट
    हाईकोर्ट ने कहा है कि ये राज्य की जिम्मेदारी है कि वो नागरिकों को वैक्सीनेशन के फायदे के बारे में अच्छे तरीके से समझाए. साथ ही ये जिम्मेदारी भी सरकार की है कि वैक्सीनेशन को लेकर किसी भी तरह की भ्रामक खबर फैलने न पाए.

    स्वत: संज्ञान लेकर की सुनवाई
    दरअसल कोर्ट इस मामले में स्वत: संज्ञान लेकर सुनवाई कर रही थी. कोर्ट ने यह चेतावनी भी दी है कि अगर कोई वैक्सीनेशन के खिलाफ भ्रामक खबरें फैलाते पाया जाएगा तो उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई होगी. दरअसल मेघालय के कई इलाकों में प्रशासन ने दुकान मालिकों, टैक्सीचालकों और अन्य लोगों से कहा था कि अगर काम फिर से शुरू करना है तो पहले वैक्सीनेशन करवाएं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.