निजी अस्पतालों में आसमान छू रहे वैक्सीनेशन चार्ज, एक डोज के लिए देने पड़ रहे 1100 से 1800 रुपये

कोरोना-रोधी वैक्सीन कोविशील्ड  की निजी अस्पतालों में कीमत 600 रुपये ही होती है (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना-रोधी वैक्सीन कोविशील्ड की निजी अस्पतालों में कीमत 600 रुपये ही होती है (सांकेतिक तस्वीर)

दिल्ली में कोविशील्ड (Covishield) और कोवैक्सीन (Covaxin) की सप्लाई हो रही है. कोविशील्ड की कीमत राज्यों के लिए 300 रुपये, निजी अस्पतालों के लिए 600 रुपये और केंद्र सरकार के लिए 150 रुपये है.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus In India) के दौरान कई अस्पतालों ने टीकाकरण की प्रक्रिया को कमाई का जरिया बना लिया है. पहले कोविड जांच में जमकर वसूले, फिर इलाज में मनचाहा पैसा लिया और अब टीकाकरण (Vaccination In India) में भी अस्पताल मनमर्जी चला रहे हैं. वैक्सीन ड्राइव थ्रू में एक डोज की कीमत 1100 रुपये से लेकर 1800 रुपये तक हो गई है. इस मामले पर विशेषज्ञों का कहना है कि इस पर कोई नियंत्रण नहीं है जो कि गलत है. एक रेट होना चाहिए.

दिल्ली में फिलहाल कोविशील्ड (Covishield) और कोवैक्सीन (Covaxin) की सप्लाई हो रही है. कोविशील्ड की कीमत राज्यों के लिए 300 रुपये, निजी अस्पतालों के लिए 600 रुपये और केंद्र सरकार के लिए 150 रुपये है. वहीं कोवैक्सीन की एक डोज के लिए केंद्र सरकार 150 रुपये, राज्य सरकार 600 रुपये और निजी अस्पताल 1200 रुपये देते हैं. राज्य और केंद्र के अस्पतालों में वैक्सीनेशन मुफ्त है.

तय कीमत से 300 रुपये ज्यादा वसूल रहे अस्पताल

हिन्दी अखबार नवभारत टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार निजी अस्पताल दो तरीकों से लोगों का टीकाकरण कर रहे हैं. पहला है कि लोग अस्पताल में ही आकर वैक्सीनेशन करा लें. इसके लिए अपोलो में कोविशील्ड 950 रुपये और कोवैक्सीन के लिए 1250 रुपये ले रहा है. अपोलो कोविशील्ड पर 350 रुपये और कोवैक्सीन पर 50 रुपये अधिक ले रहा है.
वहीं बीएलके में ऑनसाइट कोविशील्ड 900 रुपये, फोर्टिस में कोविशील्ड 850 और कोवैक्सीन 1250 रुपये में, मैक्स में कोविशील्ड 900 रुपये और आकाश में 1,000 रुपये में लगाई जा रही है. इसके साथ ही अस्पतालों ने लोगों को ड्राइव थ्रू तरीके से भी वैक्सीन लगाने की शुरुआत की है. इसमें लोगो को गाड़ियों में बैठे ही वैक्सीन लग जाती है. इससे एक ओर जहां लोगों को संक्रमण का खतरा कम होता है तो वहीं सुविधा भी है. लेकिन सुविधा के नाम पर निजी अस्पतालों ने मनमाने रेट कर दिए हैं.

रिपोर्ट के अनुसार वैक्सीनेशन ड्राइव थ्रू के लिए आकाश हॉस्पिटल कोविशील्ड 1,400, मैक्स साकेत कोविशील्ड 1100 और मूलचंद में कोवैक्सीन 1,800 रुपये में लगाई जा रही है. वहीं ऑन साइट की बात करें तो नारायणा हेल्थ में कोविशील्ड 650, आकाश में कोविशील्ड 1,000, बीएलके में कोविशील्ड 900, अपोलो में कोविशील्ड 950, फोर्टिस में कोवैक्सीन 1,250 , फोर्टिस में कोविशील्ड 850, मैक्स में कोविशील्ड 900, अपोलो में कोवैक्सीन 1,250 और सर गंगाराम में कोवैक्सीन 1,250 रुपये लेकर लगाई जा रही है.

देश में कोविड-19 रोधी टीकों की 22.37 करोड़ से अधिक खुराक दी गईं



बता दें देश में कोविड-19 रोधी टीकों की अब तक 22.37 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी. मंत्रालय ने बताया कि बृहस्पितवार को 18-44 साल आयु वर्ग के 14,20,288 लोगों को टीके की पहली जबकि 27,203 को दूसरी खुराक दी गई. मंत्रालय ने बताया कि देश में टीकाकरण के तीसरे चरण की शुरुआत से अब तक 2,40,54,868 लोगों ने कोविड-19 टीके की पहली खुराक और 86,568 लोगों ने दूसरी खुराक ले ली है.

मंत्रालय ने कहा कि बिहार, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल में 18-44 साल के 10 लाख से अधिक लोगों को कोविड-19 टीके की पहली खुराक दी जा चुकी है.


मंत्रालय ने कहा कि आज शाम सात बजे तक की अंतिरम रिपोर्ट के अनुसार देश में अब तक कोविड की 22,37,27,632 खुराक दी जा चुकी हैं. इनमें 99,24,634 स्वास्थ्यकर्मियों को पहली खुराक , 68,26,409 स्वास्थ्यकर्मियों को दूसरी खुराक, 1,59,18,192 अग्रिम मोर्चा कर्मियों को पहली खुराक और 86,04,747 अग्रिम मोर्चा कर्मियों को दूसरी खुराक लगायी गयी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज