COVID-19 Vaccination: कोरोना से ठीक हुए लोगों को 9 महीने बाद लगे वैक्सीन-सरकार पैनल ने दिया सुझाव

  वैक्‍सीनेशन  
 (सांकेतिक चित्र)

वैक्‍सीनेशन (सांकेतिक चित्र)

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (Mohfw) के मौजूदा प्रोटोकॉल के अनुसार कोविड संक्रमण से उबरने के चार से आठ सप्ताह बाद टीका लगाया जाना है और गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इंजेक्शन नहीं देना है.

  • Share this:

नई दिल्ली. सरकारी पैनल ने सिफारिश की है कि जो लोग कोविड -19 से ठीक हो गए हैं, उन्हें संक्रमण से ठीक होने के नौ महीने के बाद कोविड का टीका लगवना चाहिए. टीकाकरण (Vaccination In India) पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह (NTAGI) ने यह सलाह दी है. इससे पहले NTAGI ने पहले छह महीने के अंतर का सुझाव दिया था. पैनल ने अब नौ महीने के लंबे अंतराल के लिए मंजूरी के लिए सरकार को सलाह दिया है.

NTAGI की ओर से यह फैसला उस वक्त लिया गया है जब सलाहकार पैनल ने कोविशील्ड (Covishield) की दो खुराक के बीच के अंतर को बढ़ाकर 12-16 सप्ताह करने की सिफारिश की थी. पहले कोविशील्ड की दो खुराक के बीच चार से आठ सप्ताह का अंतर था. माना जा रहा है कि विशेषज्ञ पैनल ने समय-सीमा की समीक्षा करने के लिए राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दोनों डेटा को देखा ताकि किसी के दोबारा संक्रमित होने का खतरा ना हो.

एंटीबॉडी बढ़ाने में मिलेगी मदद

पैनल ने कहा है कि संक्रमण होने और पहला डोज मिलने के बीच के अंतर को बढ़ाने से एंटीबॉडी को और बढ़ाने में मदद मिल सकती है. अंग्रेजी अखबार इकॉनमिक टाइम्स के अनुसार एक अधिकारी ने कहा कि हमने एक सुझाव दिया है जिसमें कोरोना संक्रमित पाये गये लोगों के वैक्सीनेशन की समय सीमा को बढ़ाने के लिए कहा गया है.

Youtube Video

पैनल ने यह भी सुझाव दिया है कि गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को टीकाकरण के लिए योग्य माना जाए. स्वास्थ्य मंत्रालय एक दो दिनों में इस मामले पर फैसला ले लेगा. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार कोरोना से ठीक होने और कोविड वैक्सीन की पहली खुराक के बीच छह महीने का अंतर सुरक्षित है.

NTAGI ने पहले कहा था कि जिन लोगों को टीके की पहली खुराक मिली और दूसरी डोज से पहले कोरोना संक्रमित हो जाएं तो उन्हें संक्रमण से उबरने के बाद चार से आठ सप्ताह तक इंतजार करना चाहिए. सुझाव दिया गया था कि जिन रोगियों को मोनोक्लोनल एंटीबॉडी या कान्वलेसन्ट प्लाज्मा दिया गया था, वे डिस्चार्ज होने के दिन से तीन महीने बाद वैक्सीनेशन करा सकते हैं.




पैनल ने पिछले सप्ताह सुझाव दिया था कि जिन लोगों को अस्पताल में भर्ती होने या आईसीयू देखभाल की आवश्यकता वाली कोई अन्य गंभीर बीमारी है, उन्हें भी अगला टीका लगवाने से पहले चार से आठ सप्ताह तक इंतजार करना चाहिए. स्वास्थ्य मंत्रालय के मौजूदा प्रोटोकॉल के अनुसार कोविड संक्रमण से उबरने के चार से आठ सप्ताह बाद टीका लगाया जाना है और गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इंजेक्शन नहीं देना है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज