COVID-19 in India: कोरोना वैक्सीन की दो डोज़ के बीच अंतर कम करने की क्यों उठ रही मांग?

(Representational photo: Shutterstock)

(Representational photo: Shutterstock)

Vaccination In India: ब्रिटेन ने पिछले महीने कहा कि जिन लोगों को कोविशील्ड की पहली खुराक मिली है, वे 12 की जगह 8 हफ्ते के भीतर ही दूसरी डोज़ भी लगवा लें. हालांकि उसी समय भारत ने कोविशील्ड के अंतराल को बढ़ाकर 12 सप्ताह कर दिया. अब इस पर सवाल उठने लगे हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. देश में कोरोना संक्रमण (Coronavirus In India) के अलग-अलग वेरिएंट्स पाये जाने के बाद अब मांग उठने लगी है कि वैक्सीन्स के दो डोज़ के बीच के अंतर को कम किया जाएगा. बीती मई में केंद्र द्वारा वैक्सीनेशन की गाइडलाइन्स (Vaccine Guidelines) में कोविशील्ड टीके (Covishield) के दोनों डोज के बीच 12 से 16 हफ्ते का अंतर दिया गया था. उसी वक्त ब्रिटेन (Britain) में आबादी के कुछ हिस्से के लिए वैक्सीन के दोनों डोज में अंतर को घटाकर 12 हफ्ते से 8 हफ्ते कर दिया था. ब्रिटेन ने यह फैसला तब किया जब वहां संक्रमण के नए वैरिएंट्स पाए गए.

देशों में वैक्सीन की दो डोज के बीच अंतर पर फैसला कैसे किया गया, इस पर अलग-अलग शोध किए गए हैं. पहले दो खुराक के बीच 12 सप्ताह के अंतराल के बाद ब्रिटेन ने पिछले महीने कहा कि जिन लोगों को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की पहली खुराक मिली है वे 12 की जगह 8 हफ्ते के भीतर ही दूसरी डोज़ भी लगवा लें. उसी समय भारत ने कोविशील्ड के अंतराल को बढ़ाकर 12 सप्ताह कर दिया.

Youtube Video

 ब्रिटेन में दो खुराक के बीच के अंतर को बढ़ाने के बाद विवाद 
शुरुआती दिनों में ब्रिटेन में दो खुराक के बीच के अंतर को बढ़ाने के बाद विवाद शुरू हो गया था. विशेषज्ञों ने डेटा का हवाला देते हुए कहा कि बेहतर इम्यूनिटी रिस्पॉन्स के लिए लगभग 3 महीने का अंतर होना चाहिए. दूसरे डोज़ के लिए अधिक अंतर को इसलिए भी मददगार माना गया ताकि देश की बड़ी आबादी को कम से कम वैक्सीन की एक डोज़ तो लग जाए.

ब्रिटेन में B.1.617.2 वैरिएंट के मामले बढ़ने के बीच देश के स्वास्थ्य अधिकारियों ने 50 वर्ष से अधिक आयु की आबादी और कम अंतराल के साथ टीकाकरण के लिए कॉमरेडिडिटी वाले लोगों को प्राथमिकता देने का फैसला किया. यह निर्णय उस स्टडी पर आधारित था जिसमें पाया गया कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका और फाइजर के टीके पहली खुराक के बाद डेल्टा संस्करण के पर केवल 33% प्रभावी थे. वहीं फाइजर की दो खुराक के बाद एफिकेसी 88% हो गई वहीं ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के दोनों डोज के बाद 60% असरदार होता.

डेल्टा वेरिएंट की वजह से भारत में बढ़े मामले



वहीं भारत में नई दिल्ली में नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (NCDC) और सीएसआईआर इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (IGIB) के शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया है कि राष्ट्रीय राजधानी में मामलों में तेजी कोरोना के डेल्टा वैरिएंट के कारण हुई थी. अध्ययन में कथित तौर पर पाया गया कि डेल्टा वैरिएंट, अल्फा वैरिएंट या B.1.1.7 या यूके वैरिएंट की तुलना में 50% अधिक तेजी से फैला सकता है. यह भारत में कोविड के मामलों में वृद्धि का कारण बना था.

इसके साथ ही कहा गया कि पहले कोरोना संक्रमित हो चुके लोग या फिर टीके की एक डोज़ लगवा चुके लोग भी इस डेल्टा वेरिएंट से पूरी तरह सुरक्षित नहीं. रिसर्चर्स ने कहा कि वैक्सीन लगवाने के बाद भी संक्रमित हुए ज्यादातर मरीज़ों में डेल्टा वेरिएंट ही पाया गया.


दूसरी ओर कोलकाता स्थित द टेलीग्राफ की एक रिपोर्ट में विशेषज्ञों के हवाले से कहा गया है कि भारत को खुराक के बीच के अंतर का फैसला इस आधार पर करना चाहिए कि नया वैरिएंट कैसा व्यवहार करता है. वहीं केंद्र दो अलग-अलग टीकों से डोज़ को मिक्स करने पर भी स्टडी कर रहा है. इसके साथ ही कोविशील्ड के एक डोज़ के असर पर भी स्टडी चल रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज