दिसंबर तक तैयार हो सकती है वैक्सीन, कीमत को लेकर सरकार से कर रहे हैं बात: अदार पूनावाला

अदार पूनावाला के मुताबिक, काफी कुछ लंदन के ट्रायल्स और डीजीसीए की अनुमति पर निर्भर करता है.
अदार पूनावाला के मुताबिक, काफी कुछ लंदन के ट्रायल्स और डीजीसीए की अनुमति पर निर्भर करता है.

कोरोना वायरस वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) की रेस में शामिल अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) ने कहा है कि वैक्सीन इस साल के अंत तक तैयार हो सकती है, लेकिन काफी कुछ लंदन के ट्रायल्स (London Trials) और डीजीसीए (DGCA) की अनुमति पर निर्भर है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 28, 2020, 9:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस पूरी दुनिया में पैर पसार चुका है. मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग और हाइजीन जैसे उपाय इसे रोकने में नाकाफी नजर आ रहे हैं. ऐसे में हर कोई की नजर वैक्सीन पर टिकी हुई है. भारत में तैयार की जा रही कोवैक्सिन भी ट्रायल के तीसरे दौर में प्रवेश कर चुकी है. ऐसे में लोगों को जल्द वैक्सीन मिलने की उम्मीद है. दुनियाभर में 150 से ज्यादा वैक्सीन तैयार और टेस्ट की जा रही हैं. मॉडर्ना (Moderna), फाइजर (Pfizer) और एस्ट्राजैनेका (Astrazeneca) पहले ही ट्रायल्स के आखिरी स्टेज में हैं.

ज्यादातर बातें यूके ट्रायल्स पर निर्भर है
भारत में वैक्सीन तैयार कर रही सीरम इंस्टीट्यूट (Serum Institute) के सीईओ अदार पूनावाला के बयान अच्छी खबर की तरह लग सकता है. पूनावाला का कहना है कि वैक्सीन इस साल के अंत यानि दिसंबर तक आ सकती है, लेकिन यह पूरी तरह लंदन में हो रहे ट्रायल्स और डीजीसीए की अनुमति पर निर्भर करता है. हालांकि, यूके वैक्सीन टास्कफोर्स की प्रमुख केट बिंघम ने मंगलवार को कहा कि कोविड 19 वैक्सीन की पहली खेप के बेअसर होने की संभावना है और हो सकता है कि यह सभी के लिए कारगर भी साबित न हो.

अंग्रेजी न्यूज चैनल एनडीटीवी से बात करते हुए पूनावाला ने बताया कि भारत की सीरम इंस्टीट्यूट में तैयार हो रही ऑक्सफोर्ड (Oxford) की कोरोना वायरस वैक्सीन दिसंबर तक तैयार हो सकती है. 100 मिलियन डोज का इसका पहला बैच 2021 की दूसरी या तीसरी तिमाही तक तैयार हो जाना चाहिए.
उन्होंने कहा कि ऑक्सफोर्ड की वैक्सीनों के मामले में सुरक्षा को लेकर फिलहाल कोई भी चिंता की बात नहीं है. उन्होंने बताया कि शुरुआती संकेत पॉजिटिव रहे हैं. वैक्सीन के लंबे प्रभाव का पता करने में एक या दो साल का वक्त लगेगा. कीमत को लेकर उन्होंने कहा कि हम अभी इसकी कॉस्ट को लेकर कुछ नहीं कह सकते हैं. इस बारे में सरकार से बात चल रही है.



भारत में कोवैक्सिन को तीसरे ट्रायल की अनुमति मिली
स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सिन को तीसरे फेज के ट्रायल की अनुमति मिल गई है. ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में इस वैक्सीन का जल्द ही इंसानों पर भी परीक्षण किया जाएगा. यह वैक्सीन भारतबायोटेक और इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च मिलकर तैयार कर रही हैं. इस वैक्सीन को सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (Central Drug Standard Control Organization (CDSCO)) से फेज 3 ट्रायल के लिए अनुमति मिल गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज