कोरोना वायरस के नए प्रकार से लड़ने में पूरी तरह सक्षम है वैक्सीन: स्वास्थ्य मंत्रालय

ब्रिटेन के वायरस के ज्यादा फैलने की संभावना है. उन्होंने कहा कि इसी के चलते वहां संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

Coronavirus New Strain: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि ब्रिटेन में पाया गया कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन 60 प्रतिशत तेजी से फैलता है हालांकि कोरोना वायरस के खिलाफ बन रहे टीके इससे लड़ने में पूरी तरह से सक्षम हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस (Coronavirus) के खिलाफ बन रही वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) ब्रिटेन (Britain) में पाए गए वायरस के नए स्ट्रेन से लड़ने में सक्षम है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को अपनी साप्ताहिक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि जिन टीकों का उत्पादन किया जा रहा है, वे ब्रिटेन और दक्षिण अफ्रीका के मौजूदा नए स्ट्रेन से लड़ने के लिए पर्याप्त हैं. स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि ब्रिटेन में पिछले 24 घंटे में 40,000 नए मामले पाए गए हैं जो कि अन्य देशों के लिए चिंता को बढ़ाने वाली बात है. राजेश भूषण ने कहा कि ब्रिटेन के वायरस के ज्यादा फैलने की आशंका है. उन्होंने कहा कि इसी के चलते वहां संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. उन्होंने कहा कि ये तेजी से फैल रहा है और अन्य सभी वैरिएंट की आवृत्ति पर ले जा रहा है.

    स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी दी कि ब्रिटेन में पॉजिटिविटी रेट में वृद्धि हुई है. उन्होंने कहा कि नए वैरिएंट के स्पाइक प्रोटीन में 17 बदलाव हैं जिनमें से 8 बहुत महत्वपूर्ण हैं. उन्होंने बताया कि वैरिएंट कोविड स्ट्रेन में रिसेप्टर बाइंडिंग मजबूत होती है, जिससे ट्रांसमिशन आसान हो जाता है. मंत्रालय की ओर से कहा गया कि इस सब से वैक्सीन एग्जिट वीजा होगा, लेकिन इसमें समय लगेगा. तब तक सभी सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों का पालन किया जाना चाहिए, इसके साथ ही साथ हमें धैर्य रखना होगा. उन्होंने कहा कि हमें वैक्सीन आने तक इसे लेकर धैर्य रखना होगा. हम इस अवधि के दौरान निश्चिंत नहीं हो सकते.

    ये भी पढ़ें- दिल्ली में 31 दिसंबर तक शीतलहर, उत्तर भारत में छाया रहेगा घना कोहरा- IMD

    60 प्रतिशत तेजी से फैलने में सक्षम है नया वायरस
    आईसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा कि नया वायरस 60 प्रतिशत अधिक तेजी से फैल सकने में सक्षम है. उन्होंने कहा कि अच्छी तरह से स्थापित होने वाली थेरेपी का उपयोग किया जाना चाहिए, अन्यथा यह वायरस पर जबरदस्त प्रतिरक्षा-दबाव डालेगी.

    भूषण ने कहा कि ऐतिहासिक उपलब्धि में, 6 महीने बाद रोजाना आ रहे कोरोना वायरस के नए मामले 17,000 से कम पाए गए हैं. 6 महीने के बाद दैनिक मौतें भी 300 से कम हैं. उन्होंने कहा कि 55 प्रतिशत मौतें 60 उससे अधिक आयु वर्ग में हुई हैं जबकि 70% मौतें पुरुषों की हुई हैं.

    केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि यदि हम लिंग के आधार पर कोविड-19 मामलों का विश्लेषण करते हैं, तो पुरुषों में कुल मामलों का 63% और महिलाओं में 37% मामले सामने आए. आयु-वार, 17 वर्ष से कम आयु में 8% मामले, 18-25 वर्ष आयु वर्ग में 13%, 26-44 वर्ष समूह में 39%, 45-60 वर्ष समूह में 26% और 60 वर्ष से ऊपर 14% मामले रिपोर्ट किए गए.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.