Assembly Banner 2021

खुदाई कर रहे थे मजदूर, निकला 11 फीट बड़ा मगरमच्छ, देखकर उड़े होश

वडोदरा शहर के केलनपुर इलाके में मगरमच्‍छ मिलने से दहशत का माहौल है. (सांकेतिक तस्वीर)

वडोदरा शहर के केलनपुर इलाके में मगरमच्‍छ मिलने से दहशत का माहौल है. (सांकेतिक तस्वीर)

गुजरात के वडोदरा शहर के केलनपुर इलाके में मगरमच्‍छ मिलने से दहशत का माहौल है. मगरमच्‍छ मिलने की घटनाएं पिछले कुछ सालों में बढ़ गई हैं. आमतौर पर मगरमच्‍छ बारिश, मानसूनी सीजन में शहरों में घुस आते थे. पिछले साल यहां 76 मगरमच्‍छ पकड़े गए थे. शहर की दो नदियों में बड़ी संख्‍या में मगरमच्‍छ हैं, जो बाढ़ के पानी के साथ शहर में घुस आते थे, लेकिन फरवरी में 11 फीट लंबे और भारी भरकम मगरमच्‍छ के मिलने से सनसनी फैल गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2021, 10:43 PM IST
  • Share this:
वडोदरा. गुजरात के वडोदरा के केलनपुर इलाके में निर्माण स्थल पर खुदाई के दौरान 11 फीट बड़े मगरमच्‍छ मिलने से हड़कंप मच गया.  यह 10 से 11 फीट लंबा मगरमच्‍छ यहां तक कैसे और कब पहुंचा, इस बारे में तमाम चर्चाएं हैं. प्रत्‍यक्षदर्शियों के अनुसार यह बन रही एक इमारत के पास मिला था. इसे सबसे पहले मजदूरों ने ही देखा. वन्‍यजीव संरक्षण संस्‍था के अध्‍यक्ष अरविंद पवार ने बताया कि मगरमच्‍छ को बिना किसी नुकसान के बचा लिया गया है. उसकी जांच की गई और उसे सुरक्षित इलाके में छोड़ दिया गया.

न्‍यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक मगरमच्‍छ को पकड़ने के लिए इमारत बना रहे बिल्‍डर ने बचाव दल से संपर्क किया था. इस पर अरविंद पवार की टीम ने इलाके में पहुंचकर मगरमच्‍छ को पकड़ा और उसे वन विभाग को सौंप दिया. मौके पर वन विभाग के डॉक्‍टर भी पहुंचे थे, जिन्‍होंने उसका चेकअप किया और उसे पूरी तरह स्‍वस्‍थ बताया.

ये भी पढ़ें   बारिश में इलाके के अंदर घुस आया मगरमच्छ, गश्त लगाकर करता था शिकार, फिर...



सीताराम दास: एक हाथ वाले पुजारी, जिनकी एक आवाज में पानी से बाहर आते हैं मगरमच्छ
मानसूनी सीजन में देश में सबसे ज्‍यादा मगरमच्‍छ वडोदरा से पकड़े गए
वडोदरा शहर और उसके आसपास के इलाके से बहने वाली विश्‍वामित्री और धाधहर नदियों के करीब की बस्तियों से मगरमच्‍छों का मिलना सामान्‍य बात हो चली है. कुछ महीने पहले जब इस इलाके में बाढ़ आई थी, तब यहां से कुल 76 मगरमच्‍छ पकड़े गए थे.

बारिश के पानी के साथ या फिर नदी में पानी की कमी होने पर मगरमच्‍छ रिहायशी इलाके में घुस आते हैं. यहां आम तौर पर चार-पांच फीट के मगरमच्‍छ होते हैं, जिन्‍हें आसानी से काबू में ले लिया जाता है. यहां पशु कल्‍याण संस्‍था भी सक्रिय है और उसके पास मगरमच्‍छ पकड़ने वाले विशेषज्ञ भी हैं. लोगों ने बताया कि मानसून और उसके कारण आई बाढ़ के दौरान देश में सबसे ज्‍यादा मगरमच्‍छ वडोदरा और आसपास के इलाके में पकड़े गए थे. शहर में घुस आए मगरमच्‍छों ने कुत्‍तों और गायों को जख्‍मी कर दिया था.


रात ढाई बजे बाथरूम में घुस आया था मगरमच्‍छ

वडोदरा के महेंद्र पाढियार ने बताया कि बाढ़ का पानी जब इलाके में घुस रहा था, तभी से मगरमच्‍छों के पकड़े जाने की सूचना भी मिल रही थी. ऐसे ही एक दिन रात को जब बाथरूम से अजीब आवाजें आने लगीं तो जाकर देखा, तो वहां चार फीट लंबा मगरमच्‍छ था. उसके नुकीले दांत थे और वह बाथरूम से बाहर नहीं निकल पा रहा था. इस पर पशु कल्‍याण संस्‍था को फोन किया गया. वे लोग रात में ही आ गए और एक घंटे में ही उसे पकड़ लिया. यह टीम मगरमच्‍छ को अपने साथ ले गई और उसे वन विभाग को सौंप दिया. वन विभाग ने इस मगरमच्‍छ को पानी में छोड़ दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज