होम /न्यूज /राष्ट्र /अहमदाबाद से चली वंदे भारत ट्रेन को मुंबई पहुंचने में लगे 5.30 घंटे, जानें पहले दिन कितनी रफ्तार से दौड़ी?

अहमदाबाद से चली वंदे भारत ट्रेन को मुंबई पहुंचने में लगे 5.30 घंटे, जानें पहले दिन कितनी रफ्तार से दौड़ी?

‘वंदे भारत एक्सप्रेस‘ सेमी हाईस्पीड ट्रेन ने अहमदाबाद से मुंबई के बीच का 492 किलोमीटर का सफर शुक्रवार को साढ़े पांच घंटे में तय किया.

‘वंदे भारत एक्सप्रेस‘ सेमी हाईस्पीड ट्रेन ने अहमदाबाद से मुंबई के बीच का 492 किलोमीटर का सफर शुक्रवार को साढ़े पांच घंटे में तय किया.

Vande Bharat Train: नई ‘वंदे भारत एक्सप्रेस‘ सेमी हाईस्पीड ट्रेन ने अहमदाबाद से मुंबई के बीच का 492 किलोमीटर का सफर शुक ...अधिक पढ़ें

अहमदाबाद. नई ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ सेमी हाईस्पीड ट्रेन ने अहमदाबाद से मुंबई के बीच का 492 किलोमीटर का सफर शुक्रवार को साढ़े पांच घंटे में तय किया. पहले दिन ट्रेन में 313 यात्री सवार थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुबह करीब साढ़े 10 बजे गांधीनगर से ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. ट्रेन अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नौ से दोपहर दो बजे रवाना हुई और शाम साढ़े सात बजे मुंबई सेंट्रल रेलवे स्टेशन पहुंच गई.

पश्चिमी रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर ने बताया कि ट्रेन में 313 मुसाफिर सवार थे, जिनमें से 47 एग्जीक्यूटिव चेयर कार श्रेणी में थे जबकि शेष चेयर कार कोच में थे. साथ में रेलवे के अधिकारी और मीडिया कर्मी भी थे. नई ट्रेन के लिए बुकिंग एक दिन पहले ही शुरू की गई थी. यात्री ट्रेन के पहले सफर का हिस्सा बनने को लेकर उत्साहित थे और वे यात्रा के दौरान मोबाइल से फोटो खींच रहे थे और वीडियो बना रहे थे.

इसके अलावा ट्रेन ने मार्ग पर पड़े विभिन्न रेलवे स्टेशनों, रेलवे कर्मियों, पटरियों के पास सड़क पर चलते लोगों और इमारतों में रहने वाले लोगों को भी आकर्षित किया और वे ट्रेन के गुजरने के दौरान उसकी वीडियो बनाते और फोटो खींचते देखे गए. अपने परिवार के साथ सूरत से अहमदाबाद जा रहे रियल स्टेट कारोबारी जयदीप निमावत ने कहा- ‘यह ट्रेन अन्य ट्रेन की तुलना में कमाल की है. सीटें शानदार और आरामदायक हैं‘ सिद्धार्थ किनारीवाला ने कहा- ‘जैसे ही मेरे बॉस ने आज सुबह छुट्टी मंजूर की मैंने टिकट बुक कर लिया. मैं ट्रेन के सफर का अनुभव लेना चाहता था‘

गांधीनगर से अहमदाबाद तक के लिए ट्रेन के को-लोको पायलट ‘सह चालक‘ केके ठाकुर ने कहा कि ट्रेन को पहली बार चलाने का मौका मिलना उनके और उनके सहयोगी के लिए बहुत सम्मान की बात है. उन्होंने कहा कि उन्हें पहले विशेष प्रशिक्षण दिया गया था क्योंकि ट्रेन का डैशबोर्ड सामान्य ट्रेन में लगे डैशबोर्ड से अलग है.

Tags: Ahmedabad News, Gujarat news, Mumbai News, Vande bharat train

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें