• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • 14 दिसंबर तक अस्पताल में ही रहेंगे वरवर राव: बॉम्बे हाईकोर्ट

14 दिसंबर तक अस्पताल में ही रहेंगे वरवर राव: बॉम्बे हाईकोर्ट

81 साल के वरवरा राव 2018 से जेल में बंद हैं.  (File Photo)

81 साल के वरवरा राव 2018 से जेल में बंद हैं. (File Photo)

Elgar Parishad: पुणे में 31 दिसंबर 2017 को एल्गार परिषद के सम्मेलन के बाद माओवादियों से जुड़ाव के आरोप में राव तथा वामपंथी रूझान वाले कुछ अन्य कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया था.

  • Share this:
    मुंबई. बंबई उच्च न्यायालय (Bombay High Court) ने गुरुवार को कहा कि एल्गार परिषद-माओवादियों (Elgar Parishad) के बीच कथित जुड़ाव के मामले में गिरफ्तार कवि-कार्यकर्ता वरवर राव (Varvara Rao) की हालत कुछ ठीक हुई है लेकिन वह 14 दिसंबर तक निजी अस्पताल में ही रहेंगे. न्यायमूर्ति एस एस शिंदे और न्यायमूर्ति एम एस कार्णिक की पीठ ने नानावती अस्पताल (Nanavati Hospital) द्वारा सौंपी गयी एक चिकित्सा रिपोर्ट पर गौर किया. इसी अस्पताल में राव को 18 नवंबर को भर्ती कराया गया था.

    अदालत ने कहा, ‘‘हालत कुछ बेहतर हुई है. राव 14 दिसंबर तक वहीं भर्ती रहेंगे.’’ उच्च न्यायालय (High Court) चिकित्सा आधार पर राव को जमानत देने का अनुरोध करने वाली एक याचिका पर 14 दिसंबर को सुनवाई करेगा. राव की पत्नी हेमलता ने भी एक याचिका दायर की थी जिसमें उन्होंने राव को उपचार के लिए जेल से अस्पताल भेजने का निर्देश देने का अनुरोध किया था.

    81 साल के राव पहले से ही हैं बीमार
    उच्च न्यायालय ने 18 नवंबर को कहा था कि राव 81 साल के हैं और पहले से कुछ रोगों से ग्रस्त हैं. कोविड-19 संक्रमण (Covid-19) से उबरने के बाद उन्हें उपचार की जरूरत है. अदालत की टिप्पणी के बाद महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) 18 नवंबर को राव को नवी मुंबई (Navi Mumbai) में तलोजा जेल (Taloja Jail) से नानावती अस्पताल भेजने तथा उनके इलाज का खर्च भी उठाने पर सहमत हो गयी थी.

    14 दिन अस्पताल में रहने के बाद राव को मिल गई थी अस्पताल से छुट्टी
    उच्च न्यायालय ने गुरुवार को कहा कि याचिकाकर्ताओं के साथ, मामले की जांच कर रही राष्ट्रीय जांच एजेंसी (National Investigation Agency) के वकीलों को चिकित्सा रिपोर्ट को देखना चाहिए. अदालत अब मामले पर 14 दिसंबर को सुनवाई करेगी. राव 16 जुलाई को कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित हो गए थे और उन्हें नानावती अस्पताल भेजा गया था. उन्हें 30 जुलाई को छुट्टी दे दी गयी और वापस जेल भेज दिया गया.

    पुणे में 31 दिसंबर 2017 को एल्गार परिषद के सम्मेलन के बाद माओवादियों से जुड़ाव के आरोप में राव तथा वामपंथी रूझान वाले कुछ अन्य कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज