Home /News /nation /

राज्यसभा की बैठकों में 78% सांसद हर रोज लेते हैं हिस्सा, जानिए उपस्थिति के ताजा आंकड़े

राज्यसभा की बैठकों में 78% सांसद हर रोज लेते हैं हिस्सा, जानिए उपस्थिति के ताजा आंकड़े

राज्‍यसभा में सांसदों की उपस्थिति को लेकर एक अध्‍ययन कराया गया है.

राज्‍यसभा में सांसदों की उपस्थिति को लेकर एक अध्‍ययन कराया गया है.

राज्यसभा के चेयरमैन और उपराष्ट्रपति वैंकैया नायडू (Rajyasabha, Rajya Sabha Chairman M Venkaiah Naidu) के निर्देश पर सांसदों की उपस्थिति को लेकर हुए अध्ययन (study) से चौंकाने वाले तथ्‍य सामने आए हैं. सांसदों की उपस्थिति के बारे में ये ताजा आंकड़े राज्यसभा सचिवालय ने एकत्रित किए हैं. अपने ढंग की इस पहली स्टडी में वेंकैया नायडू ने ये जानने की कोशिश की सदन की कारवाई में सांसदों की उपस्थिति का पैटर्न क्या रहता है?

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. राज्यसभा के चेयरमैन और उपराष्ट्रपति वैंकैया नायडू  (Rajyasabha, Rajya Sabha Chairman M Venkaiah Naidu) के निर्देश पर सांसदों की उपस्थिति को लेकर हुए अध्ययन (study) से चौंकाने वाले तथ्‍य सामने आए हैं. इसके अनुसार राज्यसभा के 78 फीसदी सांसद हर रोज सदन की बैठकों में आते हैं जबकि सिर्फ 30 फीसदी हर रोज सदन में आते हैं. 2 फीसदी सांसद कभी सदन में नजर नहीं आते हैं. एसआर बालासुब्रमण्यम ने पिछले सात सत्रों में सभी 138 बैठकों में हिस्सा लिया है. सांसदों की उपस्थिति के बारे में ये ताजा आंकड़े राज्यसभा सचिवालय ने एकत्रित किए हैं. अपने ढंग की इस पहली स्टडी में वेंकैया नायडू ने ये जानने की कोशिश की सदन की कारवाई में सांसदों की उपस्थिति का पैटर्न क्या रहता है?

राज्यसभा में सांसदों को हर रोज अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए एक अटेंडेंस रजिस्टर पर साइन करने पड़ते हैं. जबकि राज्यसभा के उप सभापति, केन्द्रीय मंत्री, नेता विपक्ष को ये रजिस्टर साइन करना जरुरी नहीं है. इसलिए लगभग 225 राज्यसभा सांसद हर रोज रजिस्टर पर साइन करते हैं क्योंकि ये सांसदों की सैलरी और अलाउएंस एक्ट के तहत अनिवार्य होता है. इस पर हस्ताक्षर करने के बाद ही सांसदों को उनका 2000 रुपये का दैनिक भत्ता मिलता है.

ये भी पढ़ें :  Rajasthan News: 10 साल की मासूम से रेप, कोर्ट ने महज 9 दिन में सुनाया फैसला, रेपिस्ट को 20 साल जेल की सजा

राज्यसभा सचिवालय ने पाया लंच ब्रेक से पहले दो घंटे में सांसदों की सबसे ज्यादा उपस्थिति

राज्यसभा सचिवालय ने सांसदों की पिछले 7 सत्रों यानि 138 बैठकों में सांसदों की उपस्थिति के आंकड़ों को जांचा और परखा. इसमें राज्यसभा के 248वें सत्र यानि 2019 से लेकर 254वें यानि 2021 के मानसून सत्र तक की उपस्थिति की समीक्षा की गयी. राज्यसभा सचिवालय ने यही पाया कि 78 फीसदी सांसद हर रोज संसद में आते हैं. लेकिन ये सांसद एक नहीं बल्कि हर रोज अलग अलग होते हैं. यही हाल उन 2 फीसदी सांसदों का है जो सदन में नहीं आते. खास बात ये हैं कि सांसदों की ज्यादा उपस्थिति लंच के पहले के दो घंटो में सबसे ज्यादा होती है या फिर किसी बड़ी बहस और किसी बड़े बिल पर बहस और वोटिंग के लिए होती है. सबसे ज्यादा सांसदों की उपस्थिति राज्य सभा के 254 वें सत्र यानि पिछले मानसून सत्र में पायी गयी थी. जबकि उससे थोड़ा कम 72.88 फीसदी उसके पहले बजट सत्र में सांसदों की उपस्थिति रही. इस दौरान 29.14 फीसदी सांसदों की उपस्थिति 100 फीसदी रही जबकि 1.90 फीसदी किसी न किसी कारण से सदन में नहीं आए.

ये भी पढ़ें :  मेरठ: हाइप्रोफाइल फैमिली में व्यापारी के सुसाइड से सनसनी, पत्नी ने भी अपनी गर्दन काटी

कोरोना काल में भी सांसदों की उपस्थित ठीक रही

इस स्टडी के मुताबिक कोरोना काल में तीन सत्र हुए जिसमें सांसदों की उपस्थिति कम नहीं पड़ी. कोरोना महामारी के दौरान हुए पहले यानि राज्यसभा के 252वें सत्र में 99 सांसदों ने सभी 10 बैठको में हिस्सा लिया जबकि 98 सांसदों ने 254वें सत्र की 17 बैठकों में हिस्सा लिया. सत्रों के मुताबिक अगर सांसदों की 100 फीसदी उपस्थिति देखी जाए तो ये स्टडी बताती है कि 251वें सत्र में 34 सांसद यानि 15.27 फीसदी हर रोज राज्यसभा आए. लेकिन ये संख्या 254वें सत्र मं बढ कर 98 पहुंच गयी जो 46 फीसदी थी. शून्य उपस्थिति वाले सांसदों की संख्या 248वें सत्र में सिर्फ दो से बढ कर 252वें सत्र में 21 तक पहुंच गयी जो कुल संख्या का 21 फीसदी था. लेकिन ये सत्र कोविड प्रोटोकॉल के तहत बुलाया गया पहला सत्र भी था.

ऐसा रहा अधिक उपस्‍थित रहने वाले सांसदों का आंकड़ा 

कुल पांच सांसदों जिसमें नीरज शेखर, डा अशोक वाजपेयी, डा डीपी वत्स, विकास महात्मे, राम कुमार वर्मा के 6 सत्रों में पूरी उपस्थिति दर्ज की. 7 सांसदों राकेश सिन्हा, सुधांशु त्रिवेदी, डा कैलाश सोनी, नरेश गुजराल, विशंभर प्रसाद निषाद, कुमार केतकर, डा एमी याज्ञनिक की 5 सत्रों में पूरी उपस्थिति रही. जया बच्चन, जयराम रमेश, भूपेन्द्र यादव, डा सत्यानारायण जटिया, के जे अलेफोंस, टीजी वेकटेश, के रविन्द्र कुमार, पीसी गुप्ता, बिप्लव ठाकुर, कांता करदम, के सोमप्रसाद उन 18 सांसदों में रहे जिन्होंने 4 सत्रों में पूरी उपस्थिति दर्ज करायी. आनंद शर्मा, बयलार रवि, डा सीपी ठाकुर, भुवनेश्वर कालिता, शिव प्रताप शुक्ल, प्रसन्ना आचार्य, जीवीएल नरसिम्हा राव, के के रागेश, प्रो मनोज झा, के वनलालवेणा, जीसी चंद्रशेखर, उन सांसदों में शामिल थे जिन्होंने 7 सत्रों में से 3 सत्रों में पूरी उपस्थिति दर्ज करायी. डा मनमोहन सिंह, ए के एंटनी, चिदंबरम, अनिल जैन, ओपी माथुर, स्वपन दासगुप्ता, डा सुब्रमण्यम स्वामी, रामनाथ ठाकुर, प्रफुल्ल पटेल, शआंता चारु, त्रिची शुवा, निनय सहस्त्रबुद्धे, वी विजयसाई रेड्डी उन 70 सांसदों में शामिल थे जो 7 से 2 सत्रों में 100 फीसदी उपस्थित रहे थे. लगभग 37 सांसद कम से कम एक पूरे सत्र में पूरी उपस्थिति दर्ज करायी. उपराष्ट्रपति की पहल पर सांसदों की उपस्थिति का ये आंकड़ा जाहिर है अनुपस्थित रहने वाले सांसदों की अंतरात्मा को झकझोरेगा. आखिर जवाब तो जनता को ही देना है.

Tags: Rajya Sabha Chairman M Venkaiah Naidu, Rajyasabha, Study

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर