भारतीय जलक्षेत्र में घुसा था चीनी पोत, भारतीय नौसेना ने लौटने को किया मजबूर

फोटो साभारः ANI
फोटो साभारः ANI

चीनी युआन वांग-श्रेणी के अनुसंधान पोत जिन्होंने पिछले महीने मलक्का जलडमरूमध्य से हिंद महासागर क्षेत्र में प्रवेश किया था, वो वापस लौट गए हैं. जब से इन पोतों ने भारतीय क्षेत्र में प्रवेश किया था भारतीय नौसेना के युद्धपोतों द्वारा इसे ट्रैक किया जा रहा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 17, 2020, 6:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (Ladakh) में लगातार भारतीय सीमा में प्रवेश की कोशिश में जुटा चीन (China) हिंदी महासागर (Indian Ocean Region) में पीछे हट रहा है. चीनी युआन वांग-श्रेणी के अनुसंधान पोत जिन्होंने पिछले महीने मलक्का जलडमरूमध्य से हिंद महासागर क्षेत्र में प्रवेश किया था, वो वापस लौट गए हैं. जब से इन पोतों ने भारतीय क्षेत्र में प्रवेश किया था भारतीय नौसेना के युद्धपोतों द्वारा इसे ट्रैक किया जा रहा था. भारतीय नौसेना ने कहा, 'चीनी अनुसंधान पोत भारतीय जल क्षेत्र में घुस आया था, लेकिन जासूसी में संलिप्त पाए जाने के संदेह में उसे वहां से वापस लौटने के लिए मजबूर किया गया.'

हिंद महासागर में शांति और सुरक्षा सुनिश्चित करने के उद्देश्य से अमेरिका ने मालदीव के साथ रक्षा सहयोग को लेकर समझौता किया है. अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन की तरफ से यह घोषणा की गई. यह समझौता ऐसे वक्त हुआ है, जब ट्रंप प्रशासन क्षेत्र में चीन की बढ़ती मौजूदगी का मुकाबला करने के लिए हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अपने सहयोग को मजबूत कर रहा है.






भारत ने की जापान के साथ खास डील
भारत (India) ने जापान (Japan) के साथ मिलकर हिंद महासागर (Indian Ocean) में चीन की घेराबंदी करना शुरू कर दिया है. चीन को सबक सिखाने के लिए कई सालों से चली आ रही बातचीत के बाद अब भारत और जापान ने दोनों देशों के सशस्त्र बलों के बीच आपूर्ति एवं सेवाओं के आदान-प्रदान के लिए एक ऐतिहासिक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज