लाइव टीवी

उप राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने दीनदयाल की 103वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि दी

भाषा
Updated: September 25, 2019, 11:40 AM IST
उप राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने दीनदयाल की 103वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि दी
दीनदयाल की 103वीं जयंती पर श्रद्धांजलि

वेंकैया नायडू (Venkaiah Naidu) और पीएम मोदी (PM Modi) ने बुधवार को दीनदयाल उपाध्याय की 103वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए उनके द्वारा समाज के लिए किये गये प्रयासों को याद किया.

  • भाषा
  • Last Updated: September 25, 2019, 11:40 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू (Vice President Venkaiah Naidu) और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने बुधवार को दीनदयाल उपाध्याय की 103वीं जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की और समाज के कमजोर तबके के उत्थान के लिए उनके प्रयासों को याद किया.

नायडू ने ट्वीट किया कि आज पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की जयंती के अवसर पर आधुनिक भारत के मूर्धन्य विचारक की पावन स्मृति को प्रणाम करता हूं.



उन्होंने कहा कि उपाध्याय जी भारत की सामाजिक सच्चाइयों से भलीभांति परिचित थे, उनके एकात्म मानवतावाद ने सदियों से समाज की कुरीतियों पर खड़े दुर्बल वर्गों को सामाजिक आर्थिक विकास की मूलधारा में शामिल करने के लिए अंत्योदय जैसे विशेष प्रयास करने का आग्रह किया था.
Loading...

उपराष्ट्रपति ने कहा कि उपाध्याय जी का मानना था कि प्रकृति सम्मत विकास ही संस्कृति है, प्रकृति विरुद्ध विकास समाज में विकृति पैदा करता है. समावेशी विकास ही स्थाई विकास है.

उपाध्याय की जयंती पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दीनदयाल उपाध्याय को भारत का महान नेता बताया. मोदी ने ट्वीट किया कि कमजोर तबके की सेवा करने का उनके जीवन का संदेश दूर-दूर तक गूंजता है. प्रधानमंत्री ने जन संघ नेता के संबंध में उनके भाषण का एक छोटा सा वीडियो भी शेयर किया.



पंडित दीनदयाल उपाध्याय का जन्म 25 सितंबर 1916 में मथुरा जिले के नगला चन्द्रभान ग्राम में हुआ था. इनके पिता का नाम भगवती प्रसाद उपाध्याय था. ये नगला चंद्रभान (फरह, मथुरा) के निवासी थे. माता का नाम रामप्यारी था, वो धार्मिक प्रवृत्ति की थीं. वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के चिन्तक, संगठनकर्ता और भारतीय जनसंघ के अध्यक्ष भी थे. उन्होंने भारत की सनातन विचारधारा को युगानुकूल रूप में प्रस्तुत किया और देश को एकात्म मानववाद नामक विचारधारा दी.

ये भी पढ़ें : जल्द बंद हो सकता है 140 साल पुराना ये Rail वर्कशॉप, जानें क्या है वजह?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 25, 2019, 11:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...