COVID-19: उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू कोरोना पॉजिटिव, हुए होम क्‍वारंटाइन

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू कोरोना पॉजिटिव
उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू कोरोना पॉजिटिव

Vice President Venkaiah Naidu COVID 19 Positive: वेंकैया नायडू के कार्यालय ने ट्वीट किया, 'भारत के उपराष्ट्रपति की COVID-19 रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. उन्होंने आज सुबह रुटीन टेस्ट करवाया था. उन्हें बिना लक्षण वाला संक्रमण है और वह बिल्कुल ठीक हैं. होम क्‍वारंटाइन में हैं.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 30, 2020, 10:15 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus) से हालात अभी भी गंभीर हैं. देश के गृह मंत्री अमित शाह और अन्‍य कई बड़े नेताओं के बाद अब उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू (Vice President Venkaiah Naidu) की भी कोरोना वायरस रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. उपराष्ट्रपति कार्यालय ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी है. ट्वीट में कहा गया, 'उपराष्ट्रपति ने मंगलवार सुबह नियमित COVID-19 जांच कराई, जिसमें उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. हालांकि वह स्‍वस्‍थ्‍य हैं और उन्‍हें बिना लक्षण वाला संक्रमण है. वह होम क्‍वारंटाइन में हैं. उपराष्‍ट्रपति की पत्‍नी उषा नायडू का भी कोरोना टेस्‍ट कराया गया है. उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है और वह फिलहाल सेल्फ आइसोलेशन में हैं.

नायडू ने निजी क्षेत्र से ग्रामीण इलाकों में आधुनिक स्वास्थ्य सेवाएं विकसित करने का आह्वान किया
उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने मंगलवार को सभी के लिए बेहतर गुणवत्ता वाली स्वास्थ्य सेवाएं सुलभ और सस्ती बनाने का आह्वान किया. साथ ही निजी क्षेत्र से देश के ग्रामीण इलाकों में आधुनिक सुविधाओं को विकसित करने को बढ़ावा देने का आग्रह किया. फिक्की द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने यह बातें कहीं. उपराष्ट्रपति ने कहा कि निजी क्षेत्र आगे आ सकते हैं और सार्वजनिक-निजी साझोदारी (पीपीपी) के जरिए इन क्षेत्रों में अपना विस्तार कर सकते हैं. देश में प्रत्येक हितधारक की क्षमता का उपयोग किए जाने की आवश्यकता पर जोर देते हुए उन्होंने स्वास्थ्य सेवा वितरण प्रणाली को मजबूत करने का आह्वान किया.





नायडू ने निजी क्षेत्र से अनुरोध किया कि वे अत्याधुनिक एवं उन्नत उपकरणों समेत अन्य स्वास्थ्य उपकरणों के उत्पादन में वृद्धि के लिए 'आत्मनिर्भर' अभियान का अधिक से अधिक लाभ उठाएं. उन्होंने इस ओर भी ध्यान दिलाया कि कोविड-19 महामारी ने लोगों को स्वास्थ्य के प्रति अधिक सतर्क रहने की भी सीख दी है.



ये भी पढ़ें: SERO सर्वे का दावा-10 साल से बड़े हर 15 में से एक शख्स को हुआ कोरोना

ये भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीन वितरण के लिए 80 हजार करोड़ के आकलन से सहमत नहीं: स्वास्थ्य मंत्रालय

भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) द्वारा 'कोविड काल के बाद का वैश्विक स्वास्थ्य' पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए नायडू ने कहा कि पुरानी आदतों की ओर लौटना भी एक नयी शुरुआत जैसा होना चाहिए. उन्होंने कहा, 'हमारे पूवर्जों ने हमें पौष्टिक भोजन का सेवन करना सिखाया है। हमें फास्ट फूड और बेतरतीब खाने की आदतों से बचना चाहिए.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज