'पीड़ित दीदी'- अकेले धरने पर बैठ सीएम ममता ने चुनाव आयोग-BJP को भेजा संदेश

EC के फैसले के खिलाफ धरनारत सीएम ममता बनर्जी

EC के फैसले के खिलाफ धरनारत सीएम ममता बनर्जी

दरअसल ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) यह संदेश देना चाहती हैं कि एक 'अकेली महिला' कैसे भारतीय जनता पार्टी और चुनाव आयोग की ताकत का सामना कर रही है. चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी पर 24 घंटे का चुनाव प्रचार बैन लगाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 5:50 PM IST
  • Share this:
अमन शर्मा

कोलकाता. पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में गांधी मूर्ति (Gandhi Moorthi) के पास सीएम ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) अकेली व्हीलचेयर पर धरने पर बैठ बड़ा संदेश दे दिया. उनके साथ कोई सहयोगी नहीं थे. पीछे एक प्रतीकात्मक पेंटिंग थी. दरअसल ममता बनर्जी यह संदेश देना चाहती थीं कि एक 'अकेली महिला' कैसे भारतीय जनता पार्टी और चुनाव आयोग की ताकत का सामना कर रही है. चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी पर 24 घंटे का चुनाव प्रचार पर बैन लगाया है.

आखिरी बार ममता बनर्जी 2019 फरवरी में धरने पर बैठी थीं. तब वो राज्य के पुलिस चीफ राजीव कुमार की सीबीआई द्वारा पूछताछ का विरोध कर रही थीं. ममता ने तर्क दिया था कि वो ऐसा संविधान और लोकतंत्र की रक्षा के लिए कर रही हैं. उस समय टीएमसी के कई नेता और ममता के सहयोगी स्टेज पर मौजूद थे. तब धरना तीन दिनों तक चला था जब तक सुप्रीम कोर्ट ने राजीव कुमार की गिरफ्तारी पर रोक नहीं लगा दी. उस समय 'फाइटर दीदी' की इमेज आज एक 'विक्टिम दीदी' की बनाने की कोशिश की जा रही है.

पॉलिटिकल माइलेज की तैयारी
आज ममता बनर्जी 11:45 मिनट पर जब धरना देने के लिए पहुंचीं तो उनके साथ कोई भी सहयोगी नहीं था. ममता की टेलीविजन कैमरों से दूरी करीब 50 मीटर की होगी. मीडिया के सामने यह धरना तकरीबन पूरी तरह प्लानिंग के साथ किया गया. जिससे चुनाव आयोग द्वारा लगाए गए बैन का माइलेज टीएमसी को मिले. टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन मीडियाकर्मियों के पास थोड़ी देर के लिए आए थे लेकिन कोई कमेंट नहीं दिया. ममता ने करीब 3 घंटे बाद अपना धरना खत्म कर दिया.

इस बात पर केंद्रित रहा है टीएमसी का प्रचार अभियान

टीएमसी का पूरा चुनाव प्रचार ममता बनर्जी के सीएम फेस और उनकी चोट पर केंद्रित रहा है. ममता बनर्जी ने लगातार व्हीलचेयर पर ही चुनाव प्रचार किया है. सीतलकूची हिंसा और चुनाव आयोग के बैन को टीएमसी के लिए लाइफलाइन को तौर पर देखा जा रहा है. इस बीच बीजेपी पहले चार चरण में बेहतर प्रदर्शन की बातें कहती रही हैं.



ममता अपने चुनाव प्रचार को बुधवार से और तेज करेंगी और कूचबिहार जा सकती हैं. जहां पर पांच लोगों की मौत हुई है. चुनाव आयोग ने सभी राजनीतिक पार्टियों को इलाके में 72 घंटे तक जाने से रोक लगा दी थी. कल सीएम जलपाईगुड़ी, दार्जिलिंग और नाडिया में पांच रैलियां करेंगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज