माल्या को भारत प्रत्यर्पित किया जाएया या नहीं, 10 दिसंबर को आएगा फैसला

वेस्टमिंस्टर में प्रत्यर्पण की सुनवाई के बाद माल्या ने एक बयान में दावा किया कि भारत छोड़ने से पहले उन्होंने मामला सुलझाने के लिए वित्त मंत्री से मुलाकात की थी.

News18Hindi
Updated: September 12, 2018, 8:57 PM IST
माल्या को भारत प्रत्यर्पित किया जाएया या नहीं, 10 दिसंबर को आएगा फैसला
विजय माल्या (File Photo)
News18Hindi
Updated: September 12, 2018, 8:57 PM IST
इंग्लैंड की मुख्य मजिस्ट्रेट एम्मा अर्बुथनोट ने बुधवार को कहा कि धोखाधड़ी के आरोपों का सामना करने के लिए शराब कारोबारी विजय माल्या को ब्रिटेन से भारत प्रत्यर्पित करने के मामले में 10 दिसंबर को फैसला दिया जाएगा.

केंद्र सरकार ने ब्रिटेन से 62 वर्षीय विजय माल्या को भारत प्रत्यर्पित करने का अनुरोध किया है ताकि उस पर ऋण न चुकाने के लिए आपराधिक मुकदमा चलाया जा सके. अधिकारी माल्या से 1.4 अरब डॉलर वसूल करना चाहते हैं.

बता दें बुधवार को वेस्टमिंस्टर में प्रत्यर्पण की सुनवाई के बाद माल्या ने एक बयान में दावा किया कि भारत छोड़ने से पहले उन्होंने मामला सुलझाने के लिए वित्त मंत्री से मुलाकात की थी. माल्या के इस बयान के बाद सियासी सरगर्मियां बढ़ गई हैं. कांग्रेस ने बीजेपी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला है.

माल्या ने कहा, "भारत छोड़ने से पहले मामले के निपटारे के लिए मैं वित्त मंत्री से मिला था. मैंने बैंकों के साथ मामला सुलझाने के लिए दोबारा ऑफर भी दिया था. बैंकों ने निपटारे के प्रस्ताव वाली मेरी चिट्ठियों पर आपत्ति दर्ज की थी."

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए वित्तमंत्री अरुण जेटली ने फेसबुक पर लिखा, "माल्या का दावा तथ्यात्मक रूप से गलत है. 2014 से अब तक मैंने कभी भी उन्हें मुलाकात के लिए वक्त नहीं दिया. ऐसे में मेरी उनसे मुलाकात का प्रश्न ही नहीं उठता है."

ये भी पढ़ें: देश छोड़ने से पहले 'निपटारे' के लिए वित्त मंत्री से मिला थाः माल्या; जेटली बोले- यह सच नहीं

वहीं कांग्रेस ने विजय माल्या के इस दावे को लेकर सरकार पर हमला बोला है. वरिष्ठ कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि कांग्रेस पिछले 18 महीनों से कह रही है कि विजय माल्या ही नहीं नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और कई अन्य को बिना किसी रोक-टोक के देश छोड़ने दिया गया.

आप प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी माल्या के दावे के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली पर निशाना साधा. अरविंद केजरीवाल ने इसे ‘पूरी तरह से सकते’ में डालने वाला बताया.

ये भी पढ़ें: माल्या के दावे के बाद अरविंद केजरीवाल ने अरुण जेटली पर साधा निशाना
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर