विकास दूबे केस: जांच कमेटी में केएल गुप्ता के नाम पर आपत्ति, SC में कल सुनवाई

विकास दूबे केस: जांच कमेटी में केएल गुप्ता के नाम पर आपत्ति, SC में कल सुनवाई
विकास दुबे एनकाउंटर मामले की जांच कमेटी में शामिल पूर्व जीडीपी केएल गुप्ता के नाम पर आपत्ति की गई है.

चीफ जस्टिस (Chief Justice of India) एस.ए. बोबडे (S.A. Bobade) की अध्यक्षता वाली बेंच कल इस याचिका पर सुनवाई करेगी. अनूप अवस्थी नाम के शख्स ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करके केएल गुप्ता को हटाकर यूपी के किसी अन्य पूर्व डीजीपी को कमेटी में शामिल करने की गुजारिश की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 27, 2020, 10:49 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. यूपी के कुख्यात अपराधी विकास दुबे (Vikas Dubey) के एनकाउंटर  (Encounter Case) की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) द्वारा बनाई गई कमेटी के एक मेंबर पर आपत्ति दर्ज कराई गई है. कमेटी के सदस्य बनाए गए केएल गुप्ता को लेकर अनूप अवस्थी नाम के एक व्यक्ति ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. केएल गुप्ता उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी हैं. सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी गुप्ता को लेकर याचिका में कहा गया है कि वो जांच को प्रभावित कर सकते हैं. मुख्य न्यायाधीश अरविंद बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ कल इस याचिका पर सुनवाई करेगी.

बयान पर मचा बवाल
दरअसल विकास दुबे एनकाउंटर के बाद केएल गुप्ता ने कहा था कि हमें फेस वैल्यू के आधार पर पुलिस की बातों पर यकीन करना चाहिए. आखिर हम  हमेशा नकारात्मक बातों और पुलिस का गलत मानने के साथ ही क्यों शुरुआत करते हैं. मुठभेड़ की नहीं जाती हैं, वो स्वत: होती हैं.

निष्पक्ष जांच का हिस्सा कैसे होंगे केएल गुप्ता?
अब याचिकाकर्ता का तर्क है कि केएल गुप्ता पहले ही इस एनकाउंटर के पक्ष में बयान दे चुके हैं तो वो निष्पक्ष जांच का हिस्सा कैसे हो सकते हैं? याचिकाकर्ता ने अपील की है कि यूपी के ही पूर्व डीजीपी प्रकाश सिंह, जावीद अहमद, एमसी द्विवेदी में से किसी एक को जांच का हिस्सा बनाया जा सकता है.



1998-1999 में यूपी के डीजीपी थे केएल गुप्ता
केएल गुप्ता 1965 बैच के आईपीएस अधिकारी रहे हैं. वो यूपी में 1998-1999 के दौरान पुलिस महानिदेशक थे. अब तीन सदस्यीय कमेटी में उन्हें शामिल किए जाने पर विवाद हो गया है.

गौरतलब है कि जुलाई महीने की शुरुआत में विकास दुबे द्वारा कानपुर में पुलिस टीम पर हमलाकर 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले ने पूरे उत्तर प्रदेश को हिलाकर रख दिया था. इसके बाद यूपी पुलिस ने कई सहयोगियों के अलावा विकास दुबे का एनकाउंटर भी कर दिया था. पुलिस द्वारा किए गए इन एनकाउंटर्स को लेकर काफी सवाल खड़े किए गए हैं. मामले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने कमेटी बनाई है.

(सुशील पांडे की रिपोर्ट)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading