होम /न्यूज /राष्ट्र /

मराठा आंदोलन की हिंसक आग में झुलसा महाराष्ट्र, आज मुंबई बंद का आह्वान

मराठा आंदोलन की हिंसक आग में झुलसा महाराष्ट्र, आज मुंबई बंद का आह्वान

हिंसक हुआ मराठा आरक्षण आंदोलन

हिंसक हुआ मराठा आरक्षण आंदोलन

पुलिस ने बताया कि पथराव में एक अन्य कांस्टेबल भी जख्मी हुआ है. पुलिस के मुताबिक कायगांव में प्रदर्शनकारियों ने दमकल की एक वैन को भी आग लगा दी.

    महाराष्ट्र के औरंगाबाद और आसपास के जिलों में मराठा समुदाय के लिए आरक्षण की मांग को लेकर हो रहा राज्यव्यापी प्रदर्शन हिंसक हो गया है. प्रदर्शनकारियों के पथराव में मंगलवार को एक कांस्टेबल की मौत हो गई जबकि दूसरा जख्मी हो गया. प्रदर्शनकारियों ने कई गाड़ियों को भी फूंक दिया.

    नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन के तेज होते ही आंदोलन की अगुवाई कर रहे मराठा क्रांति मोर्चा ने बुधवार को मुंबई बंद का आह्वान किया है.आरक्षण के पक्ष में विरोध मार्च के दौरान सोमवार को एक प्रदर्शनकारी की मौत के बाद इस संगठन ने मंगलवार को महाराष्ट्र बंद का आह्वान किया.

    27 वर्षीय काकासाहब शिंदे औरंगाबाद में एक पुल से गोदावरी नदी में कूद गया था. उसे नदी से निकालकर अस्पताल ले जाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

    ये भी पढ़ें: Opinion: महाराष्ट्र में क्यों नाराज़ हैं मराठा?

    राजनीतिक तौर पर प्रभावशाली मराठा समुदाय के लिए आरक्षण का मामला बेहद विवादास्पद मुद्दा है. राज्य की आबादी में करीब 30 फीसदी मराठा हैं. पुलिस ने बताया कि औरंगाबाद जिले का 31 वर्षीय जगन्नाथ सोनवणे मंगलवार को सूखे नदी तल पर कूद गया. उसे औरंगाबाद के एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

    शिंदे की मौत ने महाराष्ट्र के कई इलाकों में नए सिरे से प्रदर्शनों को भड़का दिया है. औरंगाबाद जिले के ग्रामीण इलाकों में अप्रिय घटना को रोकने के लिए इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है.

    पुलिस ने बताया कि कायगांव में प्रदर्शनकारियों ने शिंदे को ‘शहीद’बताने वाले नारे लगाए. उन्होंने बताया कि उस्मानाबाद के पुलिस कांस्टेबल शाम अतगांवकर को कायगांव में तैनात किया गया था. उनकी वहां पथराव के बाद मचे हंगामे में मौत हो गई. उनकी मौत की वजह का अभी पता नहीं है.

    ये भी पढ़ें: मराठा आरक्षण : हिंसक हुआ प्रदर्शन, औरंगाबाद में बंद की गई इंटरनेट सर्विस

    पुलिस ने बताया कि पथराव में एक अन्य कांस्टेबल भी जख्मी हुआ है. उन्होंने बताया कि कायगांव में प्रदर्शनकारियों ने दमकल की एक वैन को भी आग लगा दी. मराठा क्रांति मोर्चा के संयोजक रविन्द्र पाटिल ने कहा, ‘‘जब तक मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस मराठा समुदाय से माफी नहीं मांग लेते हम अपना प्रर्दशन जारी रखेंगे. हम औरंगाबाद और राज्य के अन्य हिस्सों में बंद रखेंगे.’’

    फडणवीस ने पंढरपुर के मंदिर की अपनी यात्रा मराठा संगठनों की इस धमकी के बाद स्थगित कर दी कि वे कार्यक्रम में बाधा पहुंचायेंगे. समुदाय के नेता अपनी मांगों को लेकर विभिन्न जिलों में रैलियां निकाल चुके हैं. पिछले साल मुंबई में मराठा क्रांति मोर्चा ने एक बड़ी रैली का आयोजन किया था.

    समुदाय के नेताओं का कहना है कि फडणवीस के आश्वासनों के बावजूद अबतक कुछ भी ठोस नहीं हुआ है. यहां दादर में हुई एक बैठक में मोर्चा के नेताओं ने बुधवार को मुंबई बंद का आह्वान करने का फैसला किया.

    Tags: Maharashtra, Mumbai

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर