Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    वीके सिंह बोले- चीन की तरफदारी करने वालों को देश में रहने का अधिकार नहीं

    वीके सिंह ने चीन की तरफदारी करने वालों पर किया बड़ा हमला.
    वीके सिंह ने चीन की तरफदारी करने वालों पर किया बड़ा हमला.

    केंद्रीय मंत्री वीके सिंह (VK Singh) ने कहा, हमने शुरू से कहा है कि पुलवामा हमले (Pulwama Attack) में पाकिस्तान (Pakistan) का हाथ है. अब पाकिस्तान के मंत्री ने ही ये बात कबूल कर ली है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 30, 2020, 3:20 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. भारत-चीन सीमा विवाद (India-China Border Dispute) पर केंद्रीय मंत्री वीके सिंह (VK Singh) ने तीखा हमला बोला है. न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जो नेता चीन (China) के प्रवक्ता हैं उन्हें देश में रहने का कोई अधिकार नहीं है. उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को किसी दूसरी जगह तलाश लेनी चाहिए.

    इस दौरान उन्होंने पुलवामा हमले पर पाकिस्तान के कबूलनामे का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा​ कि अब हमारी बात साबित हो गई है कि पुलवामा हमले को पाकिस्तान में बैठकर अंजाम दिया गया था. केंद्रीय मंत्री ने कहा, हमने शुरू से कहा है कि पुलवामा हमले में पाकिस्तान का हाथ है. अब पाकिस्तान के मंत्री ने ही ये बात कबूल कर ली है. भारत में आतंकवाद फैलाने वाले देश के लिए विपक्ष के जो नेता प्यार जताते हैं, वे भारत विरोधी हैं. वीके सिंह ने कहा कि विपक्ष को सरकार से सवाल पूछने का पूरा अधिकार है लेकिन आतंकवाद का समर्थन करने वाले और आतंकवाद फैलाने वाले देश से जो प्यार जताते हैं, उनके बारे में आप क्या कहेंगे.

    मैं हमेशा ही ऐसे लोगों को भारत विरोधी कहूंगा. मुझे भरोसा है कि पाकिस्तान के कबूलनामे को सरकार पूरी दुनिया को बताएगी और उसे ब्लैकलिस्ट कर मदद रोकने की मांग करेगी. जिन लोगों ने पुलवामा हमले पर सवाल उठाए थे, ये वही लोग हैं जिन्होंने भगवा आतंकवाद जैसी बातें फैलाने की कोशिश की.




    इसे भी पढ़ें :- BJP कार्यकर्ताओं की हत्या पर बोले रविंद्र रैना-आतंकियों को बख्शा नहीं जाएगा

    केंद्रीय मंत्री ने इस मौके पर किसी भी पार्टी का नाम लिए बगैर कहा कि इन आतंकवाद का समर्थन करने वाले देश का साथ देने वाली पार्टियों को ये बात समझनी चाहिए कि वो क्या कर रही हैं और किस देश का समर्थन कर रही हैं.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज