लाइव टीवी

वोडाफोन CEO ने रविशंकर प्रसाद को लिखी चिठ्ठी, बयान को तोड़ने-मरोड़ने के लिए मीडिया को ठहराया दोषी

News18Hindi
Updated: November 13, 2019, 11:25 PM IST
वोडाफोन CEO ने रविशंकर प्रसाद को लिखी चिठ्ठी, बयान को तोड़ने-मरोड़ने के लिए मीडिया को ठहराया दोषी
वोडाफोन सीईओ ने सफाई दी है कि उनके बयान को भारतीय मीडिया ने तोड़-मरोड़कर पेश किया है (फाइल फोटो, PTI)

लेकिन अब सूत्रों के मुताबिक वोडाफोन (Vodafone) के सीईओ निक रीड ने टेलीकॉम मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravishankar Prasad) को चिठ्ठी लिखकर अपने बयान पर सफाई दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2019, 11:25 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार ने वोडाफोन सीईओ निक रीड (Vodafone CEO Nick Read) के बयान पर नाराजगी जताई है. सूत्रों के मुताबिक सरकार (Government) जब टेलीकॉम इंडस्ट्री (Telecom Industry) को राहत देने की तैयारी कर रही है.

ऐसे वक्त में वोडाफोन (Vodafone) की गलतबयानबाज़ी निंदनीय है. सूत्रों के मुताबिक वोडाफोन की सीईओ (CEO) ने टेलीकॉम मंत्री रविशंकर प्रसाद (Telecom Minister Ravi Shankar Prasad) को चिठ्ठी लिख कर माफी भी मांगी है.

सीईओ ने दिया था बयान- 'अगर बकाया चुकाया तो भारत में टिक पाना होगा मुश्किल'
ब्रिटेन (Britain) की दूरसंचार कंपनी वोडाफोन के CEO का बयान सामने आया था कि यदि उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद उसे हजारों करोड़ रुपये का सांविधिक बकाया चुकाने के लिए बाध्य किया जाता है तो भारत में उसका टिक पाना मुश्किल हो सकता है.

वोडाफोन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी निक रीड (Nick Read) ने कहा कि एक दशक से अधिक से चल रहे कानूनी विवाद में उसने इन बकायों के लिए कोई प्रावधान नहीं किया है. रीड ने कहा कि सरकार को बकायों की मांग में कुछ नरमी बरतनी चाहिए ताकि वोडाफोन समूह का कारोबार भारत में आगे भी बना रह सके.

भारत में कंपनी का भविष्य अनिश्चित, भारत में नया निवेश नहीं करेंगे: वोडाफोन सीईओ
पहली छमाही के नतीजों की घोषणा के बाद संवाददाताओं से कहा था कि गैर मददगार नियमनों, अत्यधिक करों और उसके ऊपर उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) के प्रतिकूल फैसले से वित्तीय रूप से हमपर काफी बोझ है.उन्होंने कहा था कि काफी लंबे अरसे से भारत हमारे लिए काफी चुनौतीपूर्ण रहा है. यह पूछे जाने पर कि क्या ऐसे में कंपनी के लिए भारत में बिना राहत पैकेज (Relief Package) के बने रह पाना संभव है? उन्होंने कहा था, ‘‘यह काफी गंभीर स्थिति है. सरकार कह चुकी है कि वह एकाधिकार की स्थिति पैदा करने के पक्ष में नहीं है.’’

इस साल अप्रैल-सितंबर तिमाही में भारत में वोडाफोन (Vodafone) को परिचालन में हानि बढ़ कर 69.2 करोड़ यूरो हो गयी थी. एक साल पहले इसी तिमाही में परिचालन में हानि 13.3 करोड़ यूरो थी.

अब बोले निक रीड- 'भारत एक बड़ा बाज़ार, डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देंगे'
लेकिन अब सूत्रों के मुताबिक वोडाफोन के सीईओ निक रीड ने टेलीकॉम मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravishankar Prasad) को चिठ्ठी लिखकर अपने बयान पर सफाई दी है और बयान को तोड़-मरोड़कर पेश करने के लिए भारतीय मीडिया को दोषी ठहराया है.

इस चिठ्ठी में वोडाफोन के सीईओ निक रीड (Nick Read) ने यह भी कहा है कि वे सरकार के साथ बातचीत करने के लिए तैयार हैं. इसके अलावा कंपनी के सीईओ ने यह भी कहा है कि वोडाफोन भारत ने अपना निवेश जारी रखेगा.

यह भी पढ़ें: आम आदमी की जेब को बड़ा झटका, खुदरा महंगाई दर 15 महीनों में हुई सबसे ज्यादा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 11:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर