Home /News /nation /

वोटर आईडी कार्ड को आधार से जोड़ने पर डुप्‍लीकेट वोटरों पर लगेगी लगाम, पूर्व CEC ने बताए फायदे

वोटर आईडी कार्ड को आधार से जोड़ने पर डुप्‍लीकेट वोटरों पर लगेगी लगाम, पूर्व CEC ने बताए फायदे

वोटर आईडी कार्ड को आधार से जोड़ने की है योजना. (File pic PTI)

वोटर आईडी कार्ड को आधार से जोड़ने की है योजना. (File pic PTI)

Voter ID Card to Aadhaar Link: पूर्व मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त ब्रह्मा ने कहा, 'भारत में बड़ी संख्या में नकली मतदाता होने की समस्या है. 2012 में मैंने प्रस्ताव दिया था कि हम वोटर आईडी कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करें ताकि डुप्लीकेट कार्ड हटा दिए जाएं. बहुत से ऐसे लोग हैं जिनके नाम अलग-अलग जगहों पर मतदाता सूची में मिलते हैं.'

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. सरकार देश के मतदाताओं (Indian Voters) के वोटर आईडी कार्ड (Voter ID Card) को उनके आधार कार्ड (Aadhaar Card) से जोड़ने की योजना पर काम कर रही है. कैबिनेट की ओर से इसके विधेयक (Voter ID to Aadhaar Link) को पहले ही मंजूरी दे दी गई थी. अब सोमवार को इस विधेयक को लोकसभा में पेश किया जाना है. वहीं पूर्व मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त एचएस ब्रह्मा ने इस संबंध में बात की है. उनका कहना है कि आधार को वोटर आईडी कार्ड से जोड़ने से देश में बड़ी संख्या में नकली मतदाताओं की समस्या दूर होगी और चुनाव डेटाबेस को ठीक किया जा सकेगा. एचएस ब्रह्मा ने ही 2012 में पहली बार इस योजना का विचार पेश किया था.

एचएस ब्रह्मा ने News18 को बताया कि उन्होंने मुख्य चुनाव आयुक्त बनने से पहले अपने 2010-2015 के कार्यकाल के दौरान 2012 में चुनाव आयुक्त के रूप में इसका प्रस्ताव रखा था. उन्‍होंने बताया, ‘यह सुनिश्चित करेगा कि कोई डुप्लीकेट वोटर आईडी कार्ड न हो और लोगों को तब मदद मिलेगी जब वे शहर में शिफ्ट करना चाहते हैं और वहां अपना वोट डालना चाहते हैं. मुझे नहीं लगता कि गोपनीयता का मुद्दा इतनी बड़ी समस्या है जिसे हम हल नहीं कर सकते. सावधानियां बरती जा सकती हैं.’

चुनाव कानून (संशोधन) विधेयक, 2021 को पिछले सप्ताह कैबिनेट द्वारा मंजूरी दिए जाने के बाद इसे सोमवार को संसद में पेश किया जाना है. यह अलग-अलग जगहों पर एक ही व्यक्ति के कई नामांकन के खतरे को रोकने के लिए आधार डेटा के साथ मतदाता पहचान पत्र को जोड़ने की अनुमति देने के लिए मौजूदा कानून में संशोधन करने का प्रस्ताव करता है. मतदाता पहचान पत्र को आधार से जोड़ना स्वैच्छिक है क्योंकि संशोधन विधेयक कहता है कि अगर किसी के पास आधार कार्ड नहीं है तो उसे मतदाता सूची में प्रवेश से वंचित नहीं किया जाएगा.

पूर्व मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त ब्रह्मा ने कहा, ‘भारत में बड़ी संख्या में नकली मतदाता होने की समस्या है. 2012 में मैंने प्रस्ताव दिया था कि हम वोटर आईडी कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करें ताकि डुप्लीकेट कार्डस को हटाया जा सके. बहुत से ऐसे लोग हैं जिनके नाम अलग-अलग जगहों पर मतदाता सूची में मिलते हैं. जैसे मैं असम का हूं, मेरे पास दिल्ली में कार्ड हो सकता है, मेरे पास तेलंगाना में कार्ड हो सकता है (क्योंकि मैं आंध्र कैडर से संबंधित हूं). इसलिए वोटर आईडी कार्ड डेटाबेस को ठीक करने के मकसद से मैंने कहा था कि इसे आधार कार्ड से लिंक किया जाए.’

पूर्व सीईसी ने यह भी कहा कि एक ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए कि अगर कोई रहने के लिए शहर बदलता है तो कोई आसानी से अपना वोटर आईडी कार्ड बदल सकता है क्योंकि इससे आधार जुड़ा हुआ है. उन्‍होंने कहा, ‘कल्पना कीजिए कि आप दिल्ली में हैं और कल आपको बेंगलुरु शिफ्ट कर दिया गया है, फिर आपको वोटर आईडी कार्ड शिफ्ट करने में समस्या होगी और इसके लिए आपको फिर से आवेदन करना होगा. पहचान पत्र प्राप्त करने के लिए मतदाता को बड़े प्रयास करने पड़ते हैं. उन्होंने यह भी बताया कि 135 करोड़ भारतीयों में से केवल 60 फीसदी मतदाता ही वोटर आईडी प्राप्‍त मतदाता थे. लेकिन आधार डेटाबेस बड़ा है. उन्होंने कहा, ‘आधार कार्ड सभी उम्र के लोगों के लिए लागू हैं.’

वोटर आईडी कार्ड को आधार से जोड़ने के प्रस्ताव को लेकर कार्यकर्ताओं ने डेटा गोपनीयता और चुनावी डेटा के दुरुपयोग की चिंता जताई है. हालांकि, ब्रह्मा ने कहा कि यह प्रक्रिया उनके कार्यकाल में शुरू हो चुकी थी. पूर्व सीईसी ने बताया, ‘हम हमेशा सावधानी बरत सकते हैं, ताकि कुछ जानकारी सार्वजनिक तौर पर न हो और गुप्त रहे. यह तकनीकी रूप से किया जा सकता है. आप कुछ जानकारी को एंक्रिप्‍टेड रख सकते हैं. इस छोटी सी समस्या से निपटा जा सकता है. यह इतनी बड़ी समस्या नहीं है कि यह देश हल नहीं कर सकता.’

यूआईडीएआई के पूर्व प्रमुख अजय भूषण पांडे ने भी इसी तरह के विचारों का समर्थन किया था. साथ ही इस कदम को मतदाता और चुनाव आयोग दोनों के लिए जीत करार दिया था.

Tags: Aadhaar, Aadhaar Card, Voter ID, Voter ID Card

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर