Solar Eclipse 2020: साल का पहला सूर्य ग्रहण शुरू, अद्भुत नजारा यहां देखें LIVE

Solar Eclipse 2020: साल का पहला सूर्य ग्रहण शुरू, अद्भुत नजारा यहां देखें LIVE
21 जून को लगने वाला यह ग्रहण पूर्ण सूर्य ग्रहण होगा.

Solar Eclipse 2020: वैज्ञानिकों ने लोगों को आगाह किया है कि सूर्य को बिना किसी उपकरण के खुली आंखों से देखना सुरक्षित नहीं है. ऐसा करने से रेटिना पर असर पड़ सकता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) तो दुनिया भर में होते रहते हैं, लेकिन इस बार का ये ग्रहण बेहद खास का. देश के कुछ हिस्सों में ये सूर्य ग्रहण आग के गोले की तरह दिखेगा. ऐसे में अतंरिक्ष विज्ञान में रुचि रखने वाले की निगाहें आसमान में टिकी रहेंगी, लेकिन बारिश और बादल के चलते ये नजारे देश के हर हिस्से से नहीं दिखेंगे. इसके अलावा लॉकडाउन के चलते भी बड़े शहरों के तारामंडल में इस, बार इसके देखने की कोई व्यवस्था नहीं की गई है. ऐसे में आप इस नजारे को ऑनलाइऩ देख सकते हैं. उत्तर भारत के कई इलाकों में धूप की तीव्रता लगभग खत्म हो गई है. दिल्ली और उत्तर भारत के कई इलाकों में दिन में ही शाम से नजारे दिखने लगे थे. थोड़ी देर बाद सूर्य आग के गोले की तरह दिखा. इस नजारे को देखने के लिए लोग घरों से बाहर निकल गए हैं. इस खगोलीय घटना पर पूरी दुनिया की निगाहें टिकी हैं.

खुली आखों से न देखें
वैज्ञानिकों ने लोगों को आगाह किया है कि सूर्य को बिना किसी उपकरण के खुली आंखों से देखना सुरक्षित नहीं है. ऐसा करने से रेटिना पर असर पड़ सकता है. ऐसे में उपकरणों के माध्यम से ग्रहण देखने का तरीका सुरक्षित होगा.

यहा देंखे सूर्यग्रहण लाइव




कई और जगह लाइव स्ट्रीमिंग के इंतज़ाम

भारत में आर्यभट्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ ऑब्जर्वेशनल साइंस की तरफ से भी लाइव स्ट्रीमिंग के इंतजाम किए गए हैं. बेंगलुरु का तारामंडल भी आंशिक सूर्य ग्रहण की ऑनलाइन वेबकास्ट की व्यवस्था कर रहा है और इसे उसकी वेबसाइट, उसके फेसबुक और यूट्यूब चैनल पर देखा जा सकता है. सूर्य ग्रहण अमावस्या के दिन होता है जब चंद्रमा, पृथ्वी और सूर्य के बीच में आ जाता है और जब तीनों खगोलीय पिंड एक रेखा में होते हैं.

कई देशों में दिखेगा नजारा

आज लगने वाला ये सूर्य ग्रहण भारत समेत दुनियाभर के कई देशों में दिखाई देगा. सूर्य ग्रहण भारत, पाकिस्तान, चीन, सेंट्रल अफ्रीका के देश, कॉन्गो, इथोपिया, नॉर्थ ऑफ ऑस्ट्रेलिया, हिंद महासागर और यूरोप के अलग-अलग देशों में दिखाई देगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज