अपना शहर चुनें

States

सुवेंदु अधिकारी के इस्तीफे पर बोले दिलीप घोष- TMC में लोकतंत्र नहीं, ये तो होना ही था

बंगाल बीजेपी प्रमुख ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस में किसी के लिए सम्मान नहीं है. (फाइल फोटो)
बंगाल बीजेपी प्रमुख ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस में किसी के लिए सम्मान नहीं है. (फाइल फोटो)

TMC Leader Suvendu Adhikari Resigns: तृणमूल कांग्रेस के बागी नेता सुवेंदु अधिकारी ने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने पश्चिम बंगाल विधानसभा सचिव को अपना इस्तीफा सौंप दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 16, 2020, 6:15 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल के भाजपा प्रमुख दिलीप घोष (West Bengal BJP Chief Dilip Ghosh) ने बुधवार को कहा कि तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) में कोई लोकतंत्र या सम्मान नहीं है. घोष ने सुवेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) के इस्तीफे को वाजिब ठहराते हुए कहा कि ऐसा तो होना ही था. बता दें सुवेंदु अधिकारी ने बुधवार को टीएमसी के विधायक पद से इस्तीफा दे दिया. अधिकारी के इस्तीफे के बाद दिलीप घोष ने कहा कि कई विधायक इससे पहले भी टीएमसी छोड़ चुके हैं और हमारी पार्टी में शामिल हो गए हैं. भाजपा प्रमुख ने कहा कि ये तो होना ही था, टीएमसी में कोई लोकतंत्र और सम्मान नहीं है. जो लोग बंगाल में बदलाव में शामिल होना चाहते हैं और इसके विकास में योगदान करना चाहते हैं वे टीएमसी छोड़कर हमारे साथ आ रहे हैं.

गृह मंत्री अमित शाह के पश्चिम बंगाल दौरे के समय सुवेंदु अधिकारी के भाजपा में शामिल होने की अटकलों पर दिलीप घोष ने कहा कि ऐसी अफवाहें हैं और लोग भी इसी की उम्मीद कर रहे हैं. इसी क्रम में कई घटनाएं हो रही हैं. हम इंतजार कर रहे हैं, यह उन्हें तय करना है कि वह क्या करना चाहते हैं. अधिकारी के इस्तीफे के बाद भाजपा उपाध्यक्ष मुकुल राय ने कहा, "जिस दिन सुवेंदु अधिकारी ने मंत्री पद से इस्तीफा दिया था, मैंने बताया था कि अगर वह टीएमसी छोड़ देंगे तो हमें खुशी होगी और हम उनका स्वागत करेंगे. आज उन्होंने पश्चिम बंगाल विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है और मैं उनके फैसले का स्वागत करता हूं."

ये भी पढ़ें- चुनाव से पहले ममता बनर्जी को बड़ा झटका, सुवेंदु अधिकारी ने दिया इस्तीफा



घोष से कहा कश्मीर से बदतर है बंगाल की स्थिति
इससे पहले घोष ने बुधवार को कहा कि बढ़ती राजनीतिक हिंसा के कारण राज्य में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति ‘‘कश्मीर से बदतर’’ हो गयी है और ‘‘ ईरान तथा इराक के समान’’ है. उन्होंने तृणमूल सरकार पर स्थानीय निकाय चुनाव को देर से करवाने का आरोप भी लगाया. उन्होंने शहर में पार्टी की एक बैठक को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘ अगर नगर निगम चुनाव हैदराबाद और असम में हो सकते हैं तो यहां क्यों नहीं? स्थिति कश्मीर से भी खराब तथा ईरान तथा इराक के समान है. दीदी (ममता बनर्जी) ने साबित कर दिया है कि पश्चिम बंगाल की कानून एवं व्यवस्था चुनाव कराने के अनुकूल नहीं है.’’ उन्होंने ममता बनर्जी सरकार को कोलकाता नगर निगम चुनाव के साथ-साथ स्थानीय निकायों में चुनाव कराने की चुनौती दी.

घोष ने कहा कि पिछले पंचायत चुनाव में भाजपा को प्रचार नहीं करने दिया गया था और उनके कार्यकर्ताओं की पिटाई कर उन्हें मतदान केंद्रों से भी निकाल दिया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज