केरल में पादरी ने नन से कहा, 'रेप केस वापस ले लो, जमीन दिला देंगे'

पुजारी ने कहा, 'डाइकोसिस के लोगों ने सिर्फ यह सलाह दी है कि अगर जरूरत हो तो हम कुछ जमीन खरीद कर एक कॉन्वेंट बना देंगे और आप सभी को एक सुरक्षित जगह भेज देंगे.

News18Hindi
Updated: July 30, 2018, 10:57 AM IST
केरल में पादरी ने नन से कहा, 'रेप केस वापस ले लो, जमीन दिला देंगे'
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18Hindi
Updated: July 30, 2018, 10:57 AM IST
केरल निवासी नन के परिजनों ने आरोप लगाया है कि यौन उत्पीड़न करने वाले बिशप ने उन्हें जमीन देने की बात कही है. परिजनों ने कहा है कि बिशप के खिलाफ शिकायत वापस लेने पर उन्हें जमीन देने का लालच दिया गया है. रोमन कैथोलिक डाइकोसिस ऑफ जालंधर, पंजाब के बिशप के खिलाफ एक नन ने मामला दर्ज किया है. आरोप लगाया गया है कि साल 2014 से बिशप ने 13 बार उसका उत्पीड़न किया है. पुलिस में शिकायत तब की गई जब बिशप ने नन और पांच अन्य के खिलाफ धमकी और ब्लैकमेल करने का मामला दर्ज किया.

खुद का बचाव करते हुए बिशप मुलक्कल ने कहा कि नन के खिलाफ जब अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई तो उसने ब्लैकमेल करना शुरु कर दिया. उसका मौजूदा संस्था से ट्रांसफर किया गया. बिशप के अनुसार नन ने आदेश मानने से इनकार किया और उसके आरोप बेबुनियाद हैं.

यह भी पढें: मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप केस: राहुल गांधी ने मांगा PM मोदी और नीतीश से जवाब!

दूसरी ओर नन ने आरोप लगाया कि सायरो-मालाबार कैथोलिक चर्च ने बिशप के खिलाफ शिकायत को नजरअंदाज कर दिया. नन के परिजनों की कथित तौर पर लीक किए गए एक ऑडियो क्लिप में यह बात सामने आई है कि पादरी ने एक वरिष्ठ नन को फोन किया था. यह वरिष्ठ नन पीड़िता के पक्ष में है. हालांकि News18 उस ऑडियो क्लिप की पुष्टि नहीं कर सका है. ऑडियो क्लिप में शख्स ने खुद का परिचय पुजारी के तौर पर कराया है जो सुबह मिलने के लिए आया था. उसने सलाह दी कि अगर वह डाइकोसिस के खिलाफ मामला वापस लें तो उनके लिए जमीन खरीद दी जाएगी.

यह भी पढ़ें: मुजफ्फरपुर मामला : 'हम तो बचपन से रह रहे हैं, ब्रजेश ठाकुर ऐसे आदमी नहीं हैं'

पुजारी ने कहा, 'डाइकोसिस के लोगों ने सिर्फ यह सलाह दी है कि अगर जरूरत हो तो हम कुछ जमीन खरीद कर एक कॉन्वेंट बना देंगे और आप सभी को एक सुरक्षित जगह भेज देंगे. यह आज या कल में नहीं हो सकता, इसमें समय लगेगा. यह तभी होगा जब आप अपना मामला वापस ले लेंगी.'

पुजारी यह सलाह दे रहा है कि ननों को मामला वापस लेने के बारे में सोचना चाहिए. पुजारी ने सिस्टर को बताया कि इस केस के साथ आगे बढ़ने पर आपको जरूर सोचना चाहिए.  उसने कहा, 'आपको यह जरूर जानना चाहिए कि जिस नन ने यह शिकायत किया है, वह और उसका परिवार इसमें कुछ भी करने को तैयार होगा.' पुजारी ने कहा कि वह उन पर दबाव नहीं बना रहा है, आगे की दिक्कतों के लिए चेतावनी दे रहा है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर