लाइव टीवी

Covid19: पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान बोले- नहीं होने देंगे ईंधन और LPG की कमी

News18Hindi
Updated: May 19, 2020, 12:18 PM IST
Covid19: पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान बोले- नहीं होने देंगे ईंधन और LPG की कमी
भारत में हर रोज करीब 50 लाख बैरल कच्चे तेल की रिफाइनिंग होती है. इसका एक तिहाई हिस्सेदार अकेले IOCL ही है.

भारत में हर रोज करीब 50 लाख बैरल कच्चे तेल की रिफाइनिंग होती है. इसका एक तिहाई हिस्सेदार अकेले IOCL ही है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोविड-19 (Coronavirus) की आपदा को भारत अवसर में तब्दील करने की पूरी कोशिश कर रहा है. इसी कड़ी में मंगलवार को केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा है कि संकट को देखते हुए, हम अपनी घरेलू रिफाइनरियों से एलपीजी का उत्पादन जारी रख रहे हैं और अपने राजनयिक नेटवर्क का उपयोग करके हम अपनी आपूर्ति श्रृंखला को सुरक्षित कर सकते हैं.' CNN NEWS18 से बात करते हुए प्रधान ने कहा कि 'मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि भारत पीएम मोदी के नेतृत्व और देश के प्रत्येक नागरिक के योगदान के साथ सुरक्षित हाथों में है.'

उन्होंने कहा कि प्रवासी संकट के समय कुछ राज्यों को अधिक सावधान  और सक्रिय रहने की आवश्यकता है. बता दें भारत कच्चे तेल का बड़ा आयातक है. खपत का 85 फीसदी हिस्सा आयात के जरिए पूरा किया जाता है. ऐसे में जब भी क्रूड सस्ता होता है तो भारत को फायदा होता है. तेल जब सस्ता होता है तो आयात में कमी नहीं पड़ती बल्कि भारत का बैलेंस ऑफ ट्रेड भी कम होता है.






किससे तेल आयात करता है भारत


भारत ने अप्रैल 2017 से फरवरी 2018 के दौरान सबसे ज्यादा तेल इराक से आयात किया. इस कच्चे तेल की मात्रा 4.22 करोड़ मैट्रिक टन थी.

दूसरे नंबर पर भारत सबसे ज्यादा तेल सऊदी अरब से आयात करता है. अप्रैल 2017 से फरवरी 2018 के दौरान सऊदी से करीब 3.39 करोड़ मैट्रिक टन तेल मंगाया गया था. वहीं तीसरे नंबर पर भारत ने ईरान से करीब 2.04 करोड़ मैट्रिक टन तेल आयात किया था.  1.67 करोड़ मैट्रिक टन के साथ चौथे नंबर पर वेनेजुएला का नाम आता है.

भारत के टॉप 5 तेल आयातक मुल्कों में पांचवां स्थान नाइजीरिया का है. यहां से भारत ने करीब 1.63 करोड़ मैट्रिक टन तेल आयात किया था.

बीते दिनों देश की सबसे बड़ी ऑयल रिफाइनरी कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOCL) ने नाफ्था क्रैकर प्लांट की क्षमता को 30 से 40 फीसदी तक कम कर दिया है. कंपनी ने क्रुड सप्लायर को विशेष लेटर में जानकारी दी है कि उसके सभी टैंक ईंधन से लबालब भर चुके हैं. अब स्टोरेज की कोई व्यवस्था नहीं है. IOCL ने कहा कि ... COVID-19 की वजह से उत्पन्न हुई स्थिति हमारे नियंत्रण के बाहर है...इसकी वजह से हमें अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करने में असमर्थ हैं.

यह भी पढ़ें: पीएम किसान स्कीम- ज्यादा किसानों को 6000 रुपये देने के लिए सरकार ने उठाया बड़ा कदम
First published: May 19, 2020, 12:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading