पुलवामा हमले पर राजनीति करना उचित नहीं, न हम इसका श्रेय लेना चाहते: नितिन गडकरी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के करीबी सैम पित्रोदा की ओर से हाल ही में दिए गए बयान पर गडकरी ने कहा कि अपने सशस्त्र बलों द्वारा किए गए बलिदान के इरादे पर बहस करना उचित नहीं है.

News18Hindi
Updated: March 26, 2019, 10:32 AM IST
पुलवामा हमले पर राजनीति करना उचित नहीं, न हम इसका श्रेय लेना चाहते: नितिन गडकरी
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की फाइल फोटो
News18Hindi
Updated: March 26, 2019, 10:32 AM IST
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने पुलवामा हमले के राजनीतिकरण पर टिप्पणी की है. CNN-NEWS18 को दिए साक्षात्कार में गडकरी ने कहा कि 'किसी को भी सुरक्षा बलों का अपमान करने का अधिकार नहीं है. न तो हम इसके लिए श्रेय चाहते हैं, न ही हम इसके बारे में बहस करना चाहते हैं. मैं मीडिया से आग्रह करता हूं कि ऐसे संवेदनशील मुद्दों पर बहस राष्ट्रहित में नहीं है. इससे बचना बेहतर है.'

जब यह पूछा गया कि भारतीय जनता पार्टी खुद इस मुद्दे का राजनीतिकरण कर रही है, तो केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'इसलिए मैं चुप रहना पसंद करता हूं. मैंने इस संबंध में अपनी भावनाएं प्रकट की थीं.'



यह भी पढ़ें:  ओवैसी का पीएम मोदी पर कटाक्ष- GST से परेशान है कारोबारी, टीशर्ट बेच रहे हैं चौकीदार

गडकरी ने कहा, 'हम पुलवामा को चुनावी मुद्दा नहीं बनाते हैं. कभी-कभी वे ऐसे सवालों और जवाबों के चलते होता है. इसलिए इस पर चुप्पी बनाए रखना बेहतर है. मैंने अपनी भावनाओं को व्यक्त किया है. मेरे पास इससे परे कहने के लिए कुछ भी नहीं है.'

यह भी पढ़ें:  फारूक अब्दुल्ला ने एयर स्ट्राइक पर उठाए सवाल, कहा- बालाकोट से पहले सब मंदिर, मंदिर करते थे

वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के करीबी सैम पित्रोदा की ओर से हाल ही में दिए गए बयान पर गडकरी ने कहा कि अपने सशस्त्र बलों द्वारा किए गए बलिदान के इरादे पर बहस करना उचित नहीं है. मुझे पूरे दिल से लगता है कि इन मुद्दों का राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए. अगर हम पाकिस्तान की टीवी और रेडियो की भाषा में बात करते हैं, तो यह एक तरह से हमारी बहादुर ताकतों का अपमान होगा. न तो मैं इस तरह की चर्चाओं का जवाब देना चाहता हूं, न ही मेरे पास कहने के लिए कुछ है. '

यह भी पढ़ें:   लोकसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस ने संजय निरुपम की जगह मिलिंद देवड़ा क्यों बनाया अध्यक्ष?सड़क परिवहन और राजमार्ग, जहाज़रानी, जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री गडकरी ने चौकीदार कैंपेन पर भी टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि इस चौकीदार कैंपेन का पुलवामा हमले का कोई संबंध नहीं है. जब प्रधानमंत्री मोदी ने खुद को चौकीदार कहा तो चौकीदार चोर है कहा जाने लगा.  प्रधानमंत्री भाजपा का नहीं, बल्कि देश का होता है. प्रधानमंत्री पर टिप्पणी भी की जाए तो नैतिक भाषा में की जानी चाहिए.'

यह भी पढ़ें:  कभी राजीव और सोनिया के प्रस्तावक रहे हाजी सुल्तान के बेटे हारून लड़ेंगे राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार