हमारे पास वैक्सीनेशन के लिए पूरा इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार लेकिन वैक्सीन ही नहीं: राजेश टोपे

राजेश टोपे ने वैक्सीन आपूर्ति की दिक्कतों की तरफ इशारा किया है. (तस्वीर-ANI)

राजेश टोपे ने वैक्सीन आपूर्ति की दिक्कतों की तरफ इशारा किया है. (तस्वीर-ANI)

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (Rajesh Tope) ने कहा कि इंफ्रास्ट्रक्चर की मौजूदगी के बावजूद वैक्सीनेशन में दिक्कत आ रही है क्योंकि पर्याप्त वैक्सीन स्टॉक नहीं मौजूद है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की बातचीत वैक्सीन कंपनियों के साथ चल रही है. टोपे ने कहा कि 18 से 44 वर्ष के लोगों के लिए अलग वैक्सीनेशन सेंटर भी बनाए जा सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 28, 2021, 10:12 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (Rajesh Tope) ने कहा है कि राज्य के पास वैक्सीनेशन के लिए जरूरी पूरा इंफ्रास्ट्रक्चर मौजूद है. उन्होंने कहा कि इंफ्रास्ट्रक्चर की मौजूदगी के बावजूद वैक्सीनेशन में दिक्कत आ रही है क्योंकि पर्याप्त वैक्सीन स्टॉक नहीं मौजूद है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की बातचीत वैक्सीन कंपनियों के साथ चल रही है. टोपे ने कहा कि 18 से 44 वर्ष के लोगों के लिए अलग वैक्सीनेशन सेंटर भी बनाए जा सकते हैं.

इसके अलावा उन्होंने जानकारी दी कि राज्य कैबिनेट के सभी नेता 15 दिन कोरोना प्रतिबंध बढ़ाए जाने की बात पर सहमत हैं. राजेश टोपे ने कहा है कि 18+ वालों अभी वैक्सीनेशन के लिए थोड़ा इंतजार करना पड़ सकता है. उन्होंने कहा-18 से 44 उम्र वालों का वैक्सीनेशन एक मई से नहीं शुरू होने जा रहा है. मैं युवाओं से अपील करता हूं कि वो कोविन ऐप का इस्तेमाल करें. आपका वैक्सीनेशन सिर्फ रजिस्ट्रेशन के जरिए ही किया जाएगा. डायरेक्ट वैक्सीन सेंटर पर वैक्सीनेशन नहीं होगा.'

Youtube Video


1 मई से 15 मई तक के लिए लॉककडाउन सरीखी पाबंदियां लागू की जा सकती हैं
राज्य में 15 और दिन के लिए लॉकडाउन लग सकता है. राज्य में 1 मई से 15 मई तक के लिए लॉककडाउन सरीखी पाबंदियां लागू की जा सकती है. बता दें मिनी लॉकडाउन लागू के बाद भी राज्य में संक्रमण थम नहीं रहा है. ऐसे में सरकार अब और सख्त रुख अपना सकती है.

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर से तबाही जारी है. हर दिन 3 लाख से ज्यादा मामले आ रहे हैं. कोरोना के बढ़ते आंकड़ों के बीच वैक्सीनेशन और टेस्टिंग पर जोर दिया जा रहा है. इस बीच कई एक्सपर्ट्स का कहना है कि कोरोना का पीक जल्द आने वाला है. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, मई के पहले ही हफ्ते में कोरोना का पीक आएगा और मामले कम होने लगेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज