कोरोना की मारः वीके पॉल की दो टूक- घर के अंदर भी पहनें मास्क, बेवजह बाहर ना जाएं

वीके पॉल ने कुछ दिनों पहले कहा था कि कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ाई में अगले तीन सप्ताह निर्णायक हैं. ANI

वीके पॉल ने कुछ दिनों पहले कहा था कि कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ाई में अगले तीन सप्ताह निर्णायक हैं. ANI

Vaccine can be taken during periods: वीके पॉल ने कहा कि महिलाएं माहवारी के समय भी वैक्सीन का टीका लगवा सकती है. इसे टालने की जरूरत नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 6:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) से मचे कोहराम के बीच ऑक्सीजन और रेमडेसिविर के लिए हाहाकार है. कहीं बेड तो कहीं ऑक्सीजन के लिए लोग मदद की पुकार रहे हैं. ऐसी स्थितियों पर टिप्पणी करते हुए स्वास्थ्य मामलों पर नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने कहा कि परिस्थितियां ऐसी हैं कि बिना जरूरत के बाहर ना जाएं और घर के अंदर परिवार के साथ रहने पर भी मास्क का प्रयोग करें. मास्क पहनना बहुत जरूरी है. अपने घर पर लोगों को बुलाने से बचें.

उन्होंने कहा कि मौजूदा परिस्थितियों में टीकाकरण कार्यक्रम को प्रभावित नहीं होने दे सकते. वास्तव में वैक्सीनेशन को बढ़ाया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि महिलाएं माहवारी के समय भी वैक्सीन का टीका लगवा सकती है. इस बारे में बहुत सारे सवाल पूछे जा रहे हैं और इसका जवाब हां है. माहवारी के समय भी महिलाएं वैक्सीन का टीका लगवा सकती है, टीकाकरण को टालने की कोई आवश्यकता नहीं है.

Youtube Video


दूसरी ओर एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा कि मौजूदा वक्त में ऑक्सीजन का बेहतर तरीके से इस्तेमाल करना बहुत महत्वपूर्ण है. बेवजह की अफरातफरी का माहौल बनाने की आवश्यकता नहीं है. उन्होंने कहा कि हमें संक्रमण के मामलों में कमी लानी होगी और अस्पताल के संसाधनों का बेहतर उपयोग करना होगा.
एम्स के निदेशक ने कहा कि अगर आपको कोविड के कोई भी लक्षण हों तो आप खुद को घर में आइसोलेट करें, रिपोर्ट आने का इंतजार न करें. कई बार RT-PCR टेस्ट निगेटिव भी आ सकता है, क्योंकि उसकी संवेदनशीलता 100% नहीं है. उस स्थिति में भी मानकर चलना चाहिए कि आपको कोरोना संक्रमण है और उसका इलाज करना चाहिए.



ऑक्सीजन के मुद्दे पर गृह मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव ने कहा कि भारत सरकार ने विदेशों से ऑक्सीजन टैंकर्स को खरीदने और किराए मंगाने के आदेश दिए हैं. ऑक्सीजन टैंकरों को ट्रांसपोर्ट करके लाना एक बड़ी चुनौती है, लेकिन केंद्र सरकार रियल टाइम ट्रैकिंग का उपयोग करते हुए ऑक्सीजन टैंकरों के मूवमेंट पर निगाह रख रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज