Assembly Banner 2021

पाकिस्तान के साथ रिश्तों पर भारत बोला- सभी मुद्दों का हो समाधान

 पाकिस्तान के साथ सामान्य रिश्ते चाहते हैं, सभी मुद्दे द्विपक्षीय ढंग से सुलझाये जाये: भारत (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर-news18 English)

पाकिस्तान के साथ सामान्य रिश्ते चाहते हैं, सभी मुद्दे द्विपक्षीय ढंग से सुलझाये जाये: भारत (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर-news18 English)

India-Pakistan Relationship: भारत सभी मुद्दों, अगर कोई है, तो उसका शांतिपूर्ण और द्विपक्षीय समाधान निकालने को प्रतिबद्ध है. महत्वपूर्ण मुद्दों पर देश के रुख में कोई बदलाव नहीं आया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत और पाकिस्तान की सेना के बीच संघर्षविराम पर समझौते के कुछ दिन बाद भारत ने शुक्रवार को कहा कि वह पाकिस्तान सहित सभी पड़ोसी देशों के साथ सामन्य रिश्ते चाहता है. नई दिल्ली ने इस बात पर जोर दिया कि सभी मुद्दों को द्विपक्षीय एवं शांतिपूर्ण ढंग से सुलझाया जाना चाहिए. हालांकि, भारत ने साथ ही कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में कोई कमी नहीं आने वाली है.

भारत की यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब पिछले महीने ही दोनों देशों के सैन्य अभियान महानिदेशकों (डीजीएमओ) के बीच बैठक के बाद जारी एक संयुक्त बयान में कहा गया था कि दोनों पक्षों ने नियंत्रण रेखा पर और अन्य क्षेत्रों में संघर्षविराम पर सभी समझौतों का सख्ती से पालन करने पर सहमति जताई.

शांतिपूर्ण तरीके से मुद्दों का हल निकालने के लिए भारत प्रतिबद्ध
सीजफायर समझौते का पालन के बारे में एक सवाल के जवाब में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने संवाददाताओं से कहा कि इस बारे में रक्षा मंत्रालय से जानकारी मिलेगी. उन्होंने कहा, ‘भारत, पाकिस्तान सहित सभी पड़ोसी देशों के साथ सामन्य रिश्ते चाहता है.’
ये भी पढ़ें: पहली बार जवान, स्वदेशी हथियार, जानें केवड़िया सैन्य कॉन्फ्रेंस में क्या होगा खास



ये भी पढ़ें: तख्तापलट से भागकर भारत में प्रवेश कर रहे म्यांमार के नागरिक, मिजोरम बन रहा ठिकाना- रिपोर्ट्स

उन्होंने कहा कि भारत सभी मुद्दों, अगर कोई है, तो उसका शांतिपूर्ण और द्विपक्षीय समाधान निकालने को प्रतिबद्ध है. महत्वपूर्ण मुद्दों पर देश के रुख में कोई बदलाव नहीं आया है. बता दें कि भारत और पाकिस्तान ने 2003 में संघर्षविराम समझौता किया था लेकिन पिछले कुछ वर्षों से शायद ही इस पर अमल हुआ है. वहीं सैन्य अधिकारियों ने कहा है कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई या सीमा पर सैनिकों की तैनाता में कोई कमी नही की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज