अपना शहर चुनें

States

Weather Update: श्रीनगर में पिछले 8 साल में सबसे कम तापमान दर्ज, -7.8 डिग्री तक लुढ़का पारा

डल झील में जमी बर्फ. (फाइल फोटो)
डल झील में जमी बर्फ. (फाइल फोटो)

Weather Alert: न्यूनतम तापमान (Minimum Temperature) में आई गिरावट से जलापूर्ति पाइपों में पानी जम गया है. डल झील समेत कई अन्य स्थिर जलाशयों पर बर्फ की घनी चादर जम गई है. कश्मीर में इस समय ‘चिल्लई कलां’ का दौर जारी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 13, 2021, 3:41 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. कश्मीर घाटी (Kashmir Valley) में हाड़ कंपाने वाली ठंड जारी है. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर (Srinagar) शहर में पिछले आठ साल का सबसे कम तापमान दर्ज किया गया है. मौसम विज्ञान विभाग के एक अधिकारी ने यहां बुधवार को बताया कि श्रीनगर में न्यूनतम तापमान शून्य से 7.8 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया, जो पिछले आठ साल में शहर का न्यूनतम तापमान है.

उन्होंने बताया कि इससे पहले 14 जनवरी, 2012 को इतना ही न्यूनतम तापमान दर्ज किया गया था. शेष घाटी में भी भीषण ठंड है. दक्षिण कश्मीर में वार्षिक अमरनाथ यात्रा के लिए आधार शिविर के तौर पर काम करने वाले पहलगाम पर्यटन स्थल में शून्य से 11.7 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया, जबकि इससे पहले की रात न्यूनतम तापमान शून्य से 5.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था. यह जम्मू-कश्मीर में सबसे ठंडा स्थान रहा.

गुलमर्ग पर्यटन स्थल में न्यूनतम तापमान शून्य से 10 डिग्री नीचे दर्ज किया गया, जबकि इससे एक रात पहले यह शून्य से 11.2 डिग्री सेल्सियस नीचे था. काजीगुंड में न्यूनतम तापमान शून्य से 9.3 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया. उत्तर कश्मीर के कुपवाड़ा में न्यूनतम तापमान शून्य से 5.6 डिग्री सेल्सियस नीचे और दक्षिण के कोकेरनाग में न्यूनतम तापमान शून्य से 9.9 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया.



यह भी पढ़ें: आज का मौसम, 13 जनवरी: उत्‍तर भारत में रहेगा घना कोहरा, शीतलहर को लेकर ऑरेंज अलर्ट जारी
न्यूनतम तापमान में आई गिरावट से जलापूर्ति पाइपों में पानी जम गया है. डल झील समेत कई अन्य स्थिर जलाशयों पर बर्फ की घनी चादर जम गई है. कश्मीर में इस समय ‘चिल्लई कलां’ का दौर जारी है. कुल 40 दिन की इस अवधि में कश्मीर घाटी में भीषण ठंड रहती है. 'चिल्लई-कलां' का दौर 21 दिसंबर को शुरू हुआ था और यह 31 जनवरी को खत्म होगा. इसके बाद 20 दिन तक 'चिल्लई खुर्द' और फिर 10 दिन का ‘चिल्लई बच्चा' का दौर चलेगा.

भारत के दूसरे इलाकों के हाल
इसके अलावा उत्तर भारत में भी ठंड से राहत मिलने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं. विभाग ने जानकारी दी है कि अगले 3 दिनों तक मैदानी इलाकों में ठंड और बढ़ेगी. इनमें पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्‍ली के अलावा उत्तर प्रदेश, मध्‍य प्रदेश और राजस्‍थान के कुछ हिस्सों में तेज शीतलहर चलने की संभावना है. तापमान में हो रही गिरावट के बीच भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने उत्तरी मैदानी क्षेत्रों के वास्ते अगले चार दिनों के लिए शीतलहर के पूर्वानुमान के साथ ऑरेंज अलर्ट जारी किया है. (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज