आज का मौसम, 14 नवंबर: दिल्ली में आज प्रदूषण बढ़ने के आसार, थोड़ी बारिश दे सकती है राहत

दिल्ली में प्रदूषण को देखते हुए दिवाली में पटाखे जलाने पर रोक लगा दी गई है.
दिल्ली में प्रदूषण को देखते हुए दिवाली में पटाखे जलाने पर रोक लगा दी गई है.

Weather Forecast: आज दिल्ली की हवा (Delhi AQI) और ज्यादा खराब होने की आशंका है. इस बीच मौसम विभाग (IMD) ने कहा है कि यहां बारिश थोड़ी राहत दे सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2020, 6:44 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के कुछ हिस्सों में शनिवार को बारिश होने की संभावना है. भारत मौसम विभाग (IMD) ने कहा है कि आज, जम्मू-कश्मीर में हल्की से भारी बारिश होने के आसार हैं. विभाग ने लद्दाख में भारी बारिश होने के आसार जाहिर किए हैं. साथ ही तटीय आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, केरल, पुड्डुचेरी और लक्ष्वद्वीप में भी हल्की से भारी बारिश तक हो सकती है. इसके साथ बाकी देश में मौसम साफ और शुष्क रहेगा.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में शुक्रवार को वायु गुणवत्ता (Delhi AQI) ‘बेहद खराब’ श्रेणी में दर्ज की गई और दिवाली की रात इसके ‘गंभीर’ श्रेणी में पहुंचने की आशंका है. शहर में पिछले 24 घंटे में औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 339 दर्ज किया गया. गुरुवार को यह 314 था.

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आने वाले फरीदाबाद में वायु गुणवत्ता सूचकांक 319 दर्ज किया गया, जबकि गाजियाबाद में 382, नोएडा में 337, ग्रेटर नोएडा में 336 और गुड़गांव में 324 दर्ज किया गया. ये सूचकांक ‘बेहद खराब’ श्रेणी में आते हैं. IMD के एक अधिकारी ने बताया कि दिन में वायु गुणवत्ता में आंशिक गिरावट होने की आशंका है.



दिवाली के बाद दिल्ली-एनसीआर में वायु गुणवत्ता में सुधार
IMD ने बताया कि ताजा पश्चिमी विक्षोभ की वजह से हवा की गति बढ़ने की संभावना है और इससे दिवाली के बाद दिल्ली-एनसीआर में वायु गुणवत्ता में सुधार देखा जा सकता है.

IMD के क्षेत्रीय पुर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव की वजह से रविवार को हल्की बारिश भी होने की संभावना है. हालांकि यह देखने वाली बात होगी कि यह प्रदूषकों के भारी होकर बारिश के साथ जमीन पर गिरने के लिए पर्याप्त है या नहीं.

उन्होंने कहा, 'हालांकि, हवा की गति बढ़ने से दिल्ली-एनसीआर में दिवाली के बाद वायु गुणवत्ता में सुधार होने की संभावना है. रविवार को हवा की अधिकतम गति 12 से 15 किलोमीटर प्रति घंटा रहने की संभावना है.' IMD के पर्यावरण अनुसंधान केंद्र के प्रमुख वी के सोनी ने बताया कि हवा की गति शांत रहने और पटाखों से निकले धुएं की वजह से दिवाली की रात में वायु गुणवत्ता के ‘गंभीर’ श्रेणी में पहुंच जाने की आशंका है.

‘पीएम 2.5’ का स्तर पिछले चार साल में सबसे कम रहने का अनुमान
उन्होंने बताया कि हालांकि इसके बाद हवा की गति में तेजी आने और इसकी दिशा बदलकर पूर्व-दक्षिणपूर्व की ओर होने का अनुमान है और इससे 16 नवंबर तक वायु गुणवत्ता में उल्लेखनीय सुधार दर्ज किया जा सकता है. पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की वायु गुणवत्ता निगरानी संस्था ‘सफर’ ने कहा कि दिवाली पर यदि पटाखे नहीं फोड़े जाते हैं तो दिल्ली में ‘पीएम 2.5’ का स्तर पिछले चार साल में सबसे कम रहने का अनुमान है.

सफर ने कहा कि दिवाली के दौरान पटाखों से उत्सर्जन नहीं होने के कारण प्रदूषण स्तर ‘बेहद खराब’ श्रेणी की ऊपरी सीमा पर रहने की आशंका है. सफर का कहना है कि पराली जलाने की वजह से एक्यूआई में अगले दो दिनों में ‘मामूली से मध्यम’ वृद्धि हो सकती है.

उसने कहा कि आग जलाने से संबंधित उत्सर्जन से 15 नवंबर को तड़के ‘पीएम 2.5’ में वृद्धि हो सकती है. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने बुधवार को हॉट मिक्स संयंत्रों और पत्थर तोड़ने का काम करने वाली मशीनों (स्टोन क्रशर) पर 17 नवंबर तक प्रतिबंध लगा दिया क्योंकि त्योहारी मौसम की वजह से प्रदूषण का स्तर बढ़ने की आशंका है. उसने पंजाब और हरियाणा सरकार से भी पराली जलाने पर रोक लगाने के लिए तत्काल कदम उठाने को कहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज