Weather Updates: उत्तर भारत में भारी वर्षा की संभावना, दिल्ली में बढ़ सकता है यमुना का जलस्तर

Weather Updates: उत्तर भारत में भारी वर्षा की संभावना, दिल्ली में बढ़ सकता है यमुना का जलस्तर
(AP Photo/Mahesh Kumar A.)

बंगाल की खाड़ी (Bay Of Bengal) में कम दबाव का क्षेत्र बनने से ओड़िशा (Odisha Rains) में बुधवार को जबरदस्त बारिश हुयी, जिससे प्रदेश के विभिन्न इलाकों में बाढ़ की आशंका उत्पन्न हो गयी है. बारिश के कारण प्रदेश के निचले इलाके डूब गये हैं, सड़क संपर्क टूट गया है और कम से कम दो लोगों की मौत हो गयी है. यहां पढ़ें देश के अलग-अलग हिस्सों के Weather Updates:

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 27, 2020, 7:36 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ओडिशा और जम्मू में बुधवार को वर्षाजनित घटनाओं में तीन व्यक्तियों की मौत हो गयी जबकि भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने उत्तर भारत के कई हिस्सों में अगले चार दिनों तक भारी वर्षा का अनुमान व्यक्त किया है. बिहार (Bihar Floods) में वैसे तो लगातार चौथे दिन कोई भी नया क्षेत्र बाढ़ से जलमग्न नहीं हुआ लेकिन बाढ़ पीड़ित एवं प्रभावित क्षेत्र शनिवार से जस के तस हैं.

उत्तर प्रदेश में हल्की वर्षा हुई और बाढ़ प्रभावित क्षेत्र घटे हैं. पंजाब और हरियाणा में वर्षा नहीं हुई है लेकिन मौसम विज्ञान विभाग ने इन दोनों राज्यों में छिटपुट स्थानों पर अगले दो दिनों तक भारी वर्षा होने अनुमान व्यक्त किया तथा उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश एवं पूर्वी राजस्थान के लिए भारी वर्षा की भविष्यवाणी करते हुए ऑरेंज अलर्ट जारी किया.

हिमाचल प्रदेश में भी भारी वर्षा और बिजली कड़कने का अनुमान
विभाग ने हिमाचल प्रदेश के लिए भी भारी वर्षा और बिजली कड़कने के आसार जाहिर  करते हुए येलो अलर्ट जारी किया. राज्य में हल्की से मध्यम वर्षा हुई है. राष्ट्रीय राजधानी में वर्षा नहीं हुई. विभाग ने बुधवार से शुक्रवार तक राष्ट्रीय राजधानी में ‘‘मध्यम से भारी’’ बारिश का अलर्ट जारी किया है.
अधिकारियों के अनुसार यमुना का जल स्तर खतरे के निशान के नजदीक रहा. वहीं, हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से और अधिक पानी छोड़े जाने से इसके उफान पर आने की संभावना है. बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने से ओड़िशा में बुधवार को जबरदस्त बारिश हुयी, जिससे निचले इलाके डूब गये हैं, सड़क संपर्क टूट गया है और कम से कम दो लोगों की मौत हो गयी है .



मयूरभंज जिले में सड़क पार करते समय 62 साल की एक महिला बाढ़ के पानी में बह गयी और उसका पता लगाने के लिये प्रयास जारी है. जिले के सुकुरीली इलाके के महुआसूली गांव में एक दीवार के गिर जाने की घटना में 62 साल के एक व्यक्ति की मौत हो गयी .

पुलिस ने बताया कि मयूरभंज जिले में एक ट्रक के पलटने की घटना में चालक की मौत हो गयी . विशेष राहत आयुक्त पी के जेना ने बताया कि मंगलवार से प्रदेश के सभी 30 जिलों में अलग अलग तीव्रता की बारिश हो रही है . प्रदेश के नौ जिलों में भारी बारिश हुयी जिसके परिणामस्वरूप कई निचले इलाकों में जल जमाव हो गया . जम्मू क्षेत्र के राजौरी जिले में दूसरे दिन लगातार भारी बारिश से कच्चा मकान ढह जाने से 35 वर्षीय शौकत की मलबे में दबकर मौत हो गयी.

बिहार में बाढ़ से 16 जिलों में 83.62 लाख लोग प्रभावित
कठुआ जिले में उझ नदी में आकस्मिक बाढ़ आने से फंस गये 15 परिवारों को निकाला गया. आसमान से बिजली गिरने से एक मंदिर को नुकसान पहुंचा. भारी बारिश से कई स्थानों पर फिर भूस्खलन होने पर 270 किलोमीटर लंबा श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग दूसरे दिन भी बंद रहा. भूस्खलन के कारण मंगलवार को इस मार्ग पर यातायात बंद कर दिया गया था. नये भूस्खलन के बाद मलबे हटाने के काम में रूकावट आ रही है.

बिहार में बाढ़ से 16 जिलों में 83.62 लाख लोग प्रभावित हैं. हालांकि एक अधिकारी ने कहा कि ‘रोज स्थिति सुधर रही है और कई क्षेत्रों में पानी घट रहा है. दिल्ली में अधिकतम और न्यूनतम तापमान के क्रमश: 34 डिग्री सेल्सियस और 26 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है.

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने मौसम पैटर्न के आधार पर चार रंग के कोड अलर्ट -- ग्रीन, येलो, ओरेंज और रेड जारी किये हैं. उसने 27 अगस्त के लिए जम्मू कश्मीर के लिए, 27-28 अगस्त के लिए हिमाचल प्रदेश के लिए, 27 अगस्त एवं 29-30 अगस्त के लिए पूर्वी उत्तर प्रदेश के लिए और 29-30 अगस्त के लिए पूर्वी राजस्थान के लिए येलो अलर्ट जारी किया है. उत्तर प्रदेश में बाढ़ प्रभावित गांव बुधवार को कम हुए और स्थिति सुधरी. राज्य में बाढ़ प्रभावित जिले 19 हो गये थे.

दिल्ली में खतरे के निशान के नजदीक बह रही यमुना, जलस्तर बढ़ने की संभावना
दिल्ली में बुधवार को यमुना का जल स्तर खतरे के निशान के नजदीक रहा. वहीं, हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से और अधिक पानी छोड़े जाने से इसके उफान पर आने की संभावना है. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. मौसम वैज्ञानिकों ने अगले तीन-चार दिनों में पश्चिमोत्तर भारत में भारी से बहुत भारी बारिश होने का अनुमान लगाया है. यमुना का जल स्तर शाम छह बजे ओल्ड रेलवे ब्रिज पर 203.68 मीटर दर्ज किया गया. सोमवार को जलस्तर 204.38 मीटर था और यह खतरे के निशान 205.33 मी. से महज एक मीटर नीचे था.

सिंचाई एवं बाढ़ नियंत्रण विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि हथिनीकुंड बैराज से शाम छह बजे 25,000 क्यूसेक की दर से पानी छोड़ा जा रहा है. एक क्यूसेक प्रति सेकंड 28.32 लीटर पानी के प्रवाह के बराबर है. उन्होंने कहा कि और अधिक पानी छोड़े जाने की उम्मीद है. इससे जलस्तर और बढ़ने की संभावना है.

उत्तर प्रदेश में जल्द जोर पकड़ेगा मानसून : होगी रिमझिम बारिश
उत्तर प्रदेश में मानसून के जल्द जोर पकड़ने की संभावना है और अगले तीन दिनों में बारिश की प्रबल संभावना है. आंचलिक मौसम केंद्र की रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में 27 अगस्त से बारिश होने की पूरी संभावना है और यह सिलसिला 28 और 29 अगस्त तक जारी रहेगा. फिलहाल प्रदेश में मानसून की चाल धीमी है. पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में कुछ स्थानों पर बारिश हुई अथवा गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ीं.

इस दौरान गोरखपुर, वाराणसी, लखनऊ तथा मुरादाबाद मंडलों में दिन का तापमान सामान्य से अधिक रहा. बलिया और बस्ती राज्य के सबसे गर्म स्थान रहे जहां अधिकतम तापमान 35.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया. (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज