अपना शहर चुनें

States

विवादों में वीरप्पन पर बनी वेब सीरीज, पत्नी बोलीं- मेरी निजता का उल्लंघन; कोर्ट ने लगाई रोक

वी मुथुलक्ष्मी
वी मुथुलक्ष्मी

वी मुथुलक्ष्मी (V Muthulakshmi) ने दावा किया है कि इससे उनका निजी जीवन प्रभावित होगा और निजता का उल्लंघन होगा. उन्होंने कहा कि इसे पहले भी लोगों ने वीरप्पन पर फिल्म बनाकर पैसा कमाया है और परिवार को शर्मिंदगी उठानी पड़ी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 13, 2021, 10:39 AM IST
  • Share this:
बेंगलुरू. वीरप्पन (Veerappan) के जीवन पर बनी वेब सीरीज (Web Series) 'वीरप्पन: हंगर फॉर किलिंग' (Veerappan: Hunger for killing) नए विवादों में फंसती हुई नजर आ रही है. पत्नी वी मुथुलक्ष्मी की मांग पर बेंगलुरू सत्र और दीवानी न्यायालय ने सीरीज पर अस्थाई रोक लगाने के आदेश दिए हैं. मुथुलक्ष्मी का कहना है कि इस सीरीज से उनका निजी जीवन प्रभावित होगा. इसके अलावा उन्होंने निर्माताओं पर सीरीज में एकतरफा और तथ्यों को तोड़-मरोड़कर कहानी दिखाने के आरोप लगाए हैं.

एएमआर पिकचर्स की 'वीरप्पन: हंगर फॉर किलिंग' फिलहाल यूट्यूब (YouTube), ओटीटी (OTT) और सोशल मीडिया (Social Media) पर भी रिलीज नहीं हो पाएगी. सत्र न्यायालय ने अगली सुनवाई तक  सीरीज की रिलीज पर रोक लगा दी है. अदालत को दिए अपने हलफनामें में मुथुलक्ष्मी ने कहा है कि एएमआर रमेश की एएमआई पिक्चर्स ने वीरप्पन के जीवन पर आधारित मूवी को रिलीज करने की योजना बनाई है. उन्होंने कहा कि निर्माताओं ने मूवी में झूठे और मनगढ़ंत कहानियों के आधार पर विरप्पन की छवि को विलेन के तौर पर दिखाया है.

मुथुलक्ष्मी ने दावा किया है कि इससे उनका निजी जीवन प्रभावित होगा और निजता का उल्लंघन होगा. उन्होंने कहा कि इसे पहले भी लोगों ने वीरप्पन पर फिल्म बनाकर पैसा कमाया है और परिवार को शर्मिंदगी उठानी पड़ी है. वहीं, उनके वकील प्रवीण गौड़ा का मानना है कि मूवी की रिलीज होना आर्टिकल 21 के खिलाफ है. इसके अलावा मुथुलक्ष्मी के इन आरोपों को तमिलनाडु में आगामी विधानसभा चुनाव से भी जोड़कर देखा जा रहा है.



यह भी पढ़ें: Entertainment: सैफ बोले- शाही परवरिश हुई, इसलिए तांडव वेब सीरीज में मिला रोल
उन्होंने कहा 'मेरे पति को मरे हुए 16 साल हो गए हैं. आखिरी बार जब मैंने चेन्नई सिविल कोर्ट और बाद में सुप्रीम कोर्ट के पास पहुंची, तो अदालत ने मेरी निजता का सम्मान किए जाने की बात कही थी. लेकिन पिछली बार मूवी पूरी बन चुकी थी, तो उन्होंने मुझे 25 लाख रुपए का मुआवजा देने के आदेश दिए थे. अब फिर से वे एक और फिल्म बना रहे हैं और उसके चित्रण से मेरे परिवार को प्रताड़ना सहनी पड़ रही है.'

मुथुलक्ष्मी की बेटी विद्या रानी राज्य की बीजेपी युवा मोर्चा की उपाध्यक्ष हैं. वहीं, उम्मीद की जा रही है कि उन्हें आगामी चुनावों में टिकट मिल सकता है. हालांकि, मुथुलक्ष्मी ने इस तरह के किसी दावों से इंकार किया है. उन्होंने कहा 'मैं ये पैसे या चुनाव के लिए नहीं कर रही हूं, पार्टी हाईकमान जिसे लायक समझती है, उसे टिकट देगी. लेकिन अगर यह फिल्म ऐसे समय में सामने आई, तो उसकी संभावनाओं पर असर पड़ सकता है.' मुथुलक्ष्मी ने कहा 'वो लोगों की मदद करना चाहती है, लेकिन वे कहानी का एक ही हिस्सा दिखा रहे हैं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज