यूपी, दिल्ली, एमपी और छत्तीसगढ़ से बंगाल जाने के लिए RT-PCR रिपोर्ट अनिवार्य


संक्रमण के हालात को देखते हुए चुनाव आयोग ने चुनावी सभाओं में सिर्फ 500 लोगों के शामिल होने की अनुमति दी है. फाइल फोटो

संक्रमण के हालात को देखते हुए चुनाव आयोग ने चुनावी सभाओं में सिर्फ 500 लोगों के शामिल होने की अनुमति दी है. फाइल फोटो

Coronavirus in West Bengal: संक्रमण के हालात को देखते हुए चुनाव आयोग ने राज्य में रैलियों और रोड शो पर पाबंदी लगा दी है और चुनावी सभाओं में सिर्फ 500 लोगों के शामिल होने की अनुमति दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 23, 2021, 8:34 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल सरकार (West Bengal) ने नागरिक उड्डयन मंत्रालय (Aviation Ministry) को सूचित किया है कि दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात और छत्तीसगढ़ से आने वाले यात्रियों के लिए आरटी-पीसीआर (RT-PCR) टेस्ट को अनिवार्य कर दिया जाए. राज्य के हालात को देखते हुए पश्चिम बंगाल सरकार ने यह फैसला लिया है. इस फैसले के बाद यूपी, दिल्ली, मध्य प्रदेश, गुजरात और छत्तीसगढ़ से बंगाल जाने वाले यात्रियों को अब आरटी-पीसीआर रिपोर्ट दिखानी होगी. बता दें कि राज्य में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं और अभी दो चरणों के मतदान होने हैं. संक्रमण के हालात को देखते हुए चुनाव आयोग ने राज्य में रैलियों और रोड शो पर पाबंदी लगा दी है और चुनावी सभाओं में सिर्फ 500 लोगों के शामिल होने की अनुमति दी है. गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बंगाल में होने वाली अपनी रैलियों को रद्द कर दिया और डिजिटल माध्यम से अपने समर्थकों को संबोधित किया. टीएमसी नेता ममता बनर्जी ने भी अपनी रैलियों कैंसिल कर दी है और टीएमसी को फोकस छोटी-छोटी रैलियां करने पर है.

चुनाव आयोग का अहम फैसला

पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार के दौरान कोविड बचाव नियमों के उल्लंघन का संज्ञान लेते हुए चुनाव ने बृहस्पतिवार को राज्य में तत्काल प्रभाव से पदयात्रा, रोड शो और वाहन रैलियों के आयोजन पर रोक लगा दी. साथ ही कहा कि किसी भी जनसभा में 500 से अधिक लोगों को अनुमति प्रदान नहीं की जाएगी. आदेश में कहा गया कि आयोग ने पाया है कि कई राजनीतिक दल और उम्मीदवार अभी भी जनसभा के दौरान सुरक्षा नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं. यह आदेश बृहस्पतिवार शाम सात बजे से लागू रहेगा.

अपनी संवैधानिक शक्तियों का उपयोग करते हुए निर्वाचन आयोग ने राज्य में शारीरिक रूप से प्रचार पर ताजा प्रतिबंध लगा दिए हैं. पश्चिम बंगाल में अभी 26 और 29 अप्रैल को मतदान होना है. आदेश के मुताबिक, ''पश्चिम बंगाल में 22 अप्रैल शाम सात बजे से किसी भी रोड शो, पदयात्रा, साइकिल, मोटरसाइकिल, अन्य वाहन रैलियों की अनुमति नहीं रहेगी. किसी भी जनसभा में 500 से अधिक लोगों के शामिल होने की अनुमति नहीं रहेगी. ऐसी जनसभा में भी सामाजिक दूरी के नियमों समेत अन्य कोविड प्रोटोकॉल का अनुपालन सुनिश्चित करना होगा.''


यह भी स्पष्ट किया गया है कि अगर किसी वाहन रैली या रोड शो की अनुमति पूर्व में प्रदान की गई है तो उसे भी रद्द माना जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज