Home /News /nation /

बंगाल में दलबदल विरोधी कानून को लेकर शुभेंदु अधिकारी जाएंगे हाईकोर्ट, मुकुल रॉय बोले- आपको जहां जाना है जाइए

बंगाल में दलबदल विरोधी कानून को लेकर शुभेंदु अधिकारी जाएंगे हाईकोर्ट, मुकुल रॉय बोले- आपको जहां जाना है जाइए

नंदीग्राम से भाजपा विधायक और बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी. (ANI Twitter/2 July 2021)

नंदीग्राम से भाजपा विधायक और बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी. (ANI Twitter/2 July 2021)

West Bengal Anti Defection Law: शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि राज्य में दलबदल विरोधी कानून लागू करने की मांग को लेकर भाजपा कलकत्ता उच्च न्यायालय का रुख करेगी.

    कोलकाता. पश्चिम बंगाल में दलबदल विरोधी कानून को लेकर भाजपा और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस में जुबानी जंग शुरू हो गई है. एक ओर भाजपा विधायक और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी ने मुकुल रॉय के खिलाफ कलकत्ता उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाने की बात कही, तो तृणमूल नेता ने जवाबी हमला करते हुए कहा कि उन्हें जहां जाना है जा सकते हैं. शुभेंदु अधिकारी ने शुक्रवार को कहा, 'स्पीकर ने मुझे दलबदल विरोधी कानून लागू करने के लिए मुकुल रॉय के खिलाफ याचिकाकर्ता के रूप में बुलाया था. उन्होंने हमें अगली सुनवाई के लिए 30 जुलाई को बुलाया है. हम यहां (राज्य) दलबदल विरोधी कानून लागू करने की मांग को लेकर कलकत्ता उच्च न्यायालय का रुख करेंगे.'


    इसके साथ ही नंदीग्राम से भाजपा विधायक अधिकारी ने कहा कि वो यह भी मांग करेंगे कि मुकुल रॉय के खिलाफ पश्चिम बंगाल विधानसभा अध्यक्ष के समक्ष सुनवाई जल्द से जल्द पूरी की जाए. वहीं, टीएमसी नेता ने भाजपा विधायक पर पलटवार करते हुए कहा कि वो उनके खिलाफ कहीं भी अपील कर सकते हैं. उन्होंने कहा, 'सिर्फ कोर्ट ही क्यों? वह जहां जाना चाहते हैं वहां जा सकते हैं.'


    ममता बनी रहें सीएम! TMC चुनाव आयोग से करेगी जल्द उपचुनाव की मांग 


    दरअसल, पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने बीते 18 जून को विधानसभा अध्यक्ष बिमान बनर्जी को एक अर्जी सौंपकर दलबदल विरोधी कानून के तहत सदन में मुकुल रॉय को सदन की सदस्यता से अयोग्य घोषित करने की मांग की थी जो हाल ही में भाजपा से तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल हुए हैं.




    इसके जवाब में टीएमसी ने जोर देकर कहा था कि विपक्ष के नेता को अपने पिता एवं सांसद शिशिर अधिकारी से उदाहरण पेश करने का अनुरोध करना चाहिए क्योंकि उन्होंने भी विधानसभा चुनाव से पहले ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थामा था.


    वहीं जून महीने की शुरुआत में मुकुल रॉय फिर से टीएमसी में शामिल हो गए थे. वह भाजपा में साढ़े तीन साल रहे. उन्होंने मार्च-अप्रैल में हुआ विधानसभा चुनाव भाजपा के टिकट पर लड़ा था और कृष्णानगर उत्तर सीट से जीत हासिल की थी.

    Tags: BJP, Mukul Roy, Suvendu Adhikari, TMC, West bengal

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर