Assembly Banner 2021

West Bengal Assembly election 2021: अब्बास ने किया ओवैसी को मजबूर, 10 सीटों पर पार्टी लड़ेगी चुनाव

भोपाल में ताहिर अनवर इस पार्टी के जिला अध्यक्ष हैं. (असदुद्दीन ओवैसी की फाइल फोटो)

भोपाल में ताहिर अनवर इस पार्टी के जिला अध्यक्ष हैं. (असदुद्दीन ओवैसी की फाइल फोटो)

West Bengal Assembly election 2021: अब्बास सिद्दीकी असदुद्दीन ओवैसी के साथ गठबंधन में नहीं हैं, लेकिन उन्होंने एआईएमआईएम के उम्मीदवारों को समर्थन करने का आश्वासन दिया है.

  • Share this:
हैदराबाद. फुरफुरा शरीफ के पीरजादा अब्सास सिद्दीकी से मिले झटके के बाद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की पार्टी एआईएमआईएम (AIMIM) पश्चिम बंगाल (West Bengal Assembly elections 2021) में सीमित सीटों पर ही चुनाव लड़ने जा रही है. ओवैसी की पार्टी पश्चिम बंगाल में करीब 10 सीटों पर ही चुनाव लड़ेगी. ओवैसी ने बिहार की तर्ज पर बंगाल में सीमित सीटों पर पूरी ताकत झोंकने का मन बनाया है. सर्वे के बाद पार्टी ने जिन सीटों पर चुनाव लड़ने का मन बनाया है, उनमें उत्तर दिनाजपुर, मालदा, मुर्शिदाबाद, उत्तर 24 परगना और दक्षिण 24 परगना जिले की चुनिंदा सीटें शामिल हैं. मुर्शिदाबाद में मुस्लिम आबादी 66 फीसदी, मालदा में 51 प्रतिशत और उत्तर दिनाजपुर में 50 प्रतिशत है.

अब्बास सिद्दीकी असदुद्दीन ओवैसी के साथ गठबंधन में नहीं हैं, लेकिन उन्होंने एआईएमआईएम के उम्मीदवारों को समर्थन करने का आश्वासन दिया है. इसी आश्वासन का भरोसा करके ओवैसी इंतजार कर रहे हैं कि पहले कांग्रेस और अब्बास सिद्दीकी के बीच सीटों का मसला सुलझ जाए. इसके बाद ही वह अपने उम्मीदवारों के नामों का ऐलान करेंगे.

असदुद्दीन ओवैसी के साथ किए वादों से अब्बास सिद्दीकी कई बार मुकर चुके हैं, लेकिन बंगाल में ओवैसी के पास कोई और विकल्प नहीं है. गौरतलब है कि पीरजादा अब्बास सिद्दीकी और उनके भाई नौशाद सिद्दीकी खुद हैदराबाद आकर असदुद्दीन ओवैसी से मिले थे और मिलकर चुनाव लड़ने का प्रस्ताव रखा था. लेकिन बाद में उन्होंने कांग्रेस-लेफ्ट पार्टी के साथ गठबंधन कर लिया.



ओवैसी इससे खासे नाराज हैं, लेकिन फिलहाल कुछ करने की हालत में नहीं हैं. यहां तक कि कोलकाता से सटे दक्षिण 24 परगना जिले के मेटियाबुर्ज विधानसभा इलाके में असदुद्दीन ओवैसी ने अपनी पहली जनसभा करने का फैसला किया था, और उसमें शामिल होने का न्योता अब्बास सिद्दीकी को नहीं दिया गया था. हालांकि इजाजत नहीं मिलने से ओवैसी की मेटियाबुर्ज की जनसभा नहीं हो सकी थी.

अब्बास सिद्दीकी मानते हैं कि मेटियाबुर्ज विधानसभा सीट पर उनका उम्मीदवार चुनाव जीत सकता है. जानकारों के मुताबिक उत्तर और दक्षिण 24 परगना जिले की डीगंगा, मेटियाबुर्ज, डायमंड हार्बर, भांगेर और मोगराहाट पश्चिम विधानसभा सीटों पर अब्बास सिद्दीकी की पार्टी का जनाधार मजबूत है और इन सीटों पर पार्टी के उम्मीदवार चुनाव जीत सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज