Assembly Banner 2021

West Bengal Election: मनरेगा मजदूर बनीं BJP उम्मीदवार, घर में नहीं है टॉयलेट, पानी की भी किल्लत

बीजेपी उम्मीदवार चंदना बौरी

बीजेपी उम्मीदवार चंदना बौरी

West Bengal Assembly Election 2021: चंदना के पति सरबन एक राजमिस्त्री हैं. उन्हें एक दिन के काम के 400 रुपये मिलते हैं. मानसून के मौसम के दौरान, जब मजदूरों को ढूंढना मुश्किल होता है, चंदना उनके साथ काम करती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 7:21 AM IST
  • Share this:
बांकुरा (पश्चिम बंगाल). भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने आगामी पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Election 2021) में राज्य की बांकुरा स्थित सल्तोरा सीट से एक दिहाड़ी मजदूर की पत्नी को टिकट दिया है. बीजेपी उम्मीदवार 30 वर्षीय चंदना बौरी ने हाल ही में अपना नामांकन किया. इसमें उन्होंने अपनी जो संपत्ति घोषित की है, उसके तहत उनके पास तीन बकरी, तीन गाय, एक झोपड़ी, बैंक में जमा और नकद मिला कर 31,985 रुपये की संपत्ति  है. चंदना के घर में टॉयलेट नहीं है. शौचालय के लिए उन्हें झाड़ियों में जाना पड़ता है. वहीं, पीने के पानी के लिए भी नल की व्यवस्था नहीं है. ऐसे में कहीं और से पानी लाकर काम चलाना पड़ता है.

चंदना के पति सरबन एक राजमिस्त्री हैं. उन्हें एक दिन के काम के 400 रुपये मिलते हैं. मानसून के मौसम के दौरान, जब मजदूरों को ढूंढना मुश्किल होता है, चंदना उनके साथ काम करती हैं. दोनों मनरेगा कार्ड धारक हैं और उनके तीन बच्चे हैं.

बीते साल बना दो कमरे का पक्का मकान
बहुत समय पहले तक चंदना का सपना था कि उनके घर में एक शौचालय हो. अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार चंदना ने कहा 'हमें शौच के लिए पास के मैदान तक जाना होता था. पिछले साल हमें 60,000 रुपये की प्रधानमंत्री आवास योजना की पहली किस्त मिली और दो पक्के कमरे बनाए गए.
चंदना जिले में सीनियर बीजेपी मेंबर हैं. वह गंगाजलघाटी ब्लॉक के केलई गांव में हर दिन सुबह 8 बजे कमल के प्रिंट वाली भगवा रंग की साड़ी पहने एक मैटाडोर में चुनाव प्रचार के लिए निकलती है. वह अक्सर अपने बेटे को साथ ले जाती हैं.



रिपोर्ट के अनुसार चंदना ने कहा- 'तृणमूल भ्रष्ट है.' उन्होंने कहा, 'TMC ने कोई विकास कार्य नहीं किया है, जो भी पैसा मोदी (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) ने कल्याणकारी योजनाओं के लिए भेजा है, उसे जेब में रख लेते हैं. शौचालय से लेकर घर की योजनाओं तक के लिए लोगों को तृणमूल के लोगों को पैसा देना पड़ता है.'

उम्मीदवारी पर क्या बोलीं - चंदना?
अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित  निर्वाचन क्षेत्र, सल्तोरा से तृणमूल के स्वपन बारुई ने पिछले दो बार 10,000 से अधिक मतों के अंतर से जीता था. इस बार पार्टी ने नए उम्मीदवार संतोष कुमार मंडल को मैदान में उतारा है.

चंदना  ने कहा- 'मुझे स्थानीय लोगों से 8 मार्च को अपनी उम्मीदवारी के बारे में पता चला. उन्होंने टेलीविज़न पर समाचार देखा. मैं एक गरीब परिवार से आती हूं. मुझे उम्मीदवार बनाकर भाजपा ने दिखाया है कि एक नेता बनने के लिए किसी की आर्थिक स्थिति मजबूत हो यह जरूरी नहीं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज